दामिनी

जन्म- 24 अक्टूबर 1981

जन्म स्थान- नई दिल्ली

कुछ प्रमुख कृतियां- अब तक तीन पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं, जिनमें से एक ‘मादा ही नहीं मनुष्य भी’ स्त्री विमर्श पर आधारित है और दूसरी ‘समय से परे सरोकार’ समसामयिक विषयों पर केन्द्रित है। तीसरी पुस्तक ‘ताल ठोक के’ कविता संग्रह है। सातवीं कक्षा की पाठ्यपुस्तक ‘वितान’ में भी इनका लेख सम्मिलित किया गया है। 

कार्य- ‘हिन्द पॉकेट बुक्स’, ‘मेरी संगिनी’ तथा डायमंड प्रकाशन की पत्रिका ‘गृहलक्ष्मी’ में क्रमशः सहायक संपादक व वरिष्ठ सहायक संपादक के रूप में अपनी सेवाएं दे चुकी हैं। कुछ वर्षों तक आकाशवाणी दिल्ली से भी जुड़ी रहीं। 

विविध- समय समय पर कई रचनाएं नवभारत टाइम्स, राष्ट्रीय सहारा, जनसत्ता, हिंदुस्तान, आउटलुक, नया ज्ञानोदय, हंस, अलाव और संवदिया आदि समाचार पत्र व पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रही हैं। डी.डी. नेशनल, जी.सलाम पर प्रसारित कई काव्यपाठों में हिस्सा ले चुकी हैं। इसके अतिरिक्त विश्व पुस्तक मेला व साहित्य अकादमी द्वारा आयोजित काव्य पाठों में भी शामिल रही हैं। काव्यपाठ के संदर्भ में ही देश में कई जगहों की यात्रा कर चुकी हैं। जी-सलाम पर इनके व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर आधारित 30 मिनट का वृत्तचित्र भी बन चुका है। स्वतंत्र रूप से लेखन, संपादन व अनुवाद आदि फिलहाल की व्यस्तताऐं हैं।