सुकेश साहनी की लघुकथाएँ

सुकेश साहनी

जागरूक

लड़की अपनी धुन में मस्त चली जा रही थी। रात के सन्नाटे में उस आधुनिका के सैंडिलों से उठती खट्–खट् की आवाज काफी दूर तक सुनाई दे रही थी। जैसे ही वह उस पॉश कालोनी के बीचोंबीच बने पार्क के नजदीक पहुँची, वहाँ  पहले से छिपे बैठे दो बदमाश उससे छेड़छाड़ करने लगे।

लड़की ने कान्वेंटी अन्दाज में ‘‘शट अप! यू बास्टर्ड!’’ वगैरह–वगैरह कहकर अपना बचाव करना चाहा, पर जब वे अश्लील हरकतें करते हुए उसके कपड़े नोचने लगे तो वह  ‘‘बचाओ ... बचाओ ...’’ कहकर चिल्लाने लगी। उसकी चीख पुकार पार्क के चारों ओर कतार से बनी कोठियों से टकराकर लौट आई। कोई बाहर नहीं निकला।

वे लड़की को पार्क में झुरमुट की ओर खींच रहे थे। उनके चंगुल से मुक्त होने के लिए वह बुरी तरह छटपटा रही थी।

तभी वहाँ  से गुजर रहे एक लावारिस कुत्ते की नजर उन पर पड़ी। वह जोर–जोर से भौंकने लगा। जब उसके भौंकने का बदमाशों पर कोई असर नहीं हुआ तो वह बौखलाकर इद्दर–उधर दौड़ने लगा। कभी घटनास्थल की ओर आता तो कभी किसी कोठी के गेट के पास जाकर भौंकने लगता मानो वहाँ  रहने वालों को इस घटना के बारे में सूचित करना चाहता हो। उसके इस प्रयास पर लोहे के बड़े–बड़े गेटों के उस पार तैनात विदेशी नस्ल के पालतू कुत्ते उसे हिकारत से देखने लगे।

संघर्षरत लड़की के कपड़े तार–तार हो गए थे, हाथ–पैर शिथिल पड़ते जा रहे थे। बदमाशों को अपने मकसद में कामयाबी मिलती नजर आ रही थी।

यह देखकर गली का कुत्ता मुँह उठाकर जोर–जोर से रोने लगा। कुत्ते के रोने की आवाज इस बार कोठियों से टकराकर वापस नहीं लौटी, क्योंकि वहाँ  रहने वालों को अच्छी तरह मालूम था कि कुत्ते के रोने से घर में अशुभ होता है। देखते ही देखते तमाम कोठियों में चहल–पहल दिखाई देने लगी। छतों पर बालकनियों पर बहुत से लोग दिखाई देने लगे।

उनके आदेश पर बहुत से वाचमैन लाठियाँ–डंडें लेकर कोठियों से बाहर निकले और उस कुत्ते पर पिल पड़े।

-0-

मास्टर

रेलवे स्टेशन से थोड़ा पहले ही मेरे जूते के पंजे वाले भाग की सिलाई खुल गई और मैं बिल्कुल असहाय हो गया। पत्नी के एक रिश्तेदार रूहेेलखण्ड विश्वविद्यालय में परीक्षक के तौर पर आ रहे थे। उन्हीं को ले जाने के लिए मेरा स्टेशन आना हुआ था। आधे घण्टे बाद उनकी ट्रेन बरेली पहुँचने वाली थी। मैने किसी मोची की तलाश में नजरें दौड़ाईं।

पिण्डी होटल के पास ही वह बैठा दिखाई दे गया। मैं लपककर उसके नजदीक पहुँचा और फटा जूता उसके आगे कर दिया। मुझे अनदेखा कर वह अपना सामान जमाने में लगा रहा। मैंने गौर किया कि उसने बालों में केाई खुशबूदार तेल लगा रखा था, आँखों में सुरमा साफ दिखाई दे रहा था। बड़ी–बड़ी मूँछों के सिरे किसी बर्छी की तरह नुकीले थे। कुल मिलाकर वह अपने हुलिए से दबंग किस्म का आदमी लग रहा था। अपना काम निबटाकर उसने मेरे उधड़े जूते पर निगाह डाली।

‘‘तीस रुपये लगेंगे!’’ उसने बेरुखी से कहा।

‘‘क्या?’’ सुनकर मैं तनाव में आ गया। मेरी जेब में कुल साठ रुपए थे। मैं जूते की मरम्मत में दस रुपए से अधिक खर्च करने की स्थिति में नहीं था। रिश्तेदार को घर तक ले जाने के लिए मुझे पचास रुपए तो चाहिए ही।

‘‘भाई, तीस रुपये तो बहुंत ज्यादा है, दस ले लो।’’ मैंने उसे मनाने की कोशिश की।

‘‘तीस से एक पैसा कम नहीं होगा। उसने मुझे  घूरकर देखा तो मेरी पीठ में झुरझुरी–सी दौड़ गई।

मुझे उसपर गुस्सा आया। जब से इनकी पार्टी की सरकार क्या बनी है, इनके दिमाग सातवें आसमान पर पहुँच गए हैं। गुण्डा! मवाली! ... मेरी मजबूरी का फायदा उठाकर जेब काटने पर तुला है।

पिछले आठ सालों से ये जूते मेरा साथ दे रहे थे। दो बार सोल बदलवा चुका था। किसी न किसी प्राथमिकता के चलते नए जूते खरीदना टलता रहा था। अब तो मुझे इनसे बहुत लगाव हो गया था। यह लगाव एक तरफा नहीं, बदले में वो भी मेरे पैरो को बहुत आराम देते थे।

ट्रेन के बरेली पहुँचने का टाइम करीब आता जा रहा था। कोई और विकल्प मेरे पास था नहीं। मन मसोसकर मैंने उसे जूता सिलने को कह दिया था।

मेरे हामी भरते ही उसके अभ्यस्त हाथों ने जूते को थाम लिया, उलट–पलटकर जाँचा,परखा। सिलाई के लिए जूते में हाथ डालते ही वह चौंका,पहली बार उसने गहरी नजरों से मेरी ओर देखा। सुरमा लगी आँखों में विचित्र–से भाव तैर गए थे। देखते ही देखते उसके निपुण हाथों ने जूते को सिलकर पहले जैसा कर दिया था।
जूता पहनते हुए मैंने तीस रुपए उसकी ओर बढ़ा दिए।

‘‘सिर्फ़ दस रुपये!’’ कहकर उसन बीस रुपए मुझे लौटा दिए। मैं हैरान था, जो आदमी एक रुपया छोड़ने को तैयार नहीं था, वो पूरे बीस रुपए लौटा रहा था।

‘‘बाबूजी!’’अपनी पनीली आँखों से मेरी आँखों में झाँकते हुए उसने कहा, ‘‘चालीस साल हो गए यह काम करते हुए। जूते,चप्पल हाथ में आते ही हमसे बतियाने लगते हैं। सिलाई करते हुए आपके जूते से हमारी खूब बातें हुईं। हम बहुत कुछ जान गए हैं। विश्वास करें, हमने अपना पूरा मेहतनामा आपसे ले लिया है।’’

-0-