सुधा अरोड़ा

आत्माएँ कभी नहीं मरतीं। इस विराट व्योम में, शून्य में, वे तैरती रहती हैं, परम शान्त होकर।
~ सुधा अरोड़ा  
जन्म: 4 अक्टूबर 1946, लाहौर (वर्तमान पाकिस्तान), बचपन कोलकाता में।

शिक्षा: कलकत्ता विश्वविद्यालय से एमए

शिक्षण: कोलकाता के दो डिग्री कॉलेजों में अध्यापन का अनुभव

प्रकाशन: कथा संग्रह, आलेख संग्रह तथा नाटक प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में कहानियाँ, आलेख व साक्षात्कार प्रकाशित। कलकत्ता विश्वविद्यालय की पत्रिका 'प्रक्रिया' के अतिरिक्त कई पुस्तकों का संपादन। 'सारिका', 'वामा', 'कथादेश' तथा 'जनसत्ता' में स्थाई स्तम्भ लेखन। कहानियों के अनुवाद भारतीय भाषाओं के साथ अंग्रेजी, फ़्रांसीसी, पोलिश, इतालवी, चेक तथा जापानी भाषाओं में प्रकाशित।

दृश्य-श्रव्य: सुधा जी की कहानियों पर आधारित लघु फिल्में दूरदर्शन पर प्रदर्शित हो चुकी हैं। वे कई रेडियो नाटक, टी वी धारावाहिक तथा 'बवंडर' फिल्म का पटकथा-लेखन कर चुकी हैं। रहोगी तुम वही का नाट्य रूपांतर लंदन में सईद जाफ़री तथा मुम्बई में राजेंद्र गुप्ता द्वारा प्रदर्शित किया जा चुका है। पाकिस्तान में इस पर उन्हें सूचित किये बिना एक सफल टीवी सीरियल बनाए जाने की खबर है।

अन्य: मुम्बई निवास, साहित्य के अतिरिक्त महिला चेतना तथा सलाहकार संगठनों द्वारा सामाज निर्माण में सक्रियता।

सम्पर्क: sudhaarora@gmail.com

सुधा अरोड़ा की कहानी 'सत्ता सम्वाद' का वाचन, उन्हीं के स्वर में सुनिये: