दादी - कहानी

अशोक कुमार भाटिया "अकुभा"

- अशोक भाटिया अकुभा


भरेपूरे परिवार के मुखिया थे गोबिन्द राम महाजन। बड़े बाज़ार में थोक मेवों की दुकान थी। काबुल, कन्धार से लेकर दुनिया के कई हिस्सों से सूखे मेवे आते जिन्हें और बहुत सारे थोक व खुदरा व्यापारी हाथोंहाथ ख़रीद ले जाते। अच्छी आमदनी थी।

तीन बेटे, बहुएँ और नाती पोतों के साथ गोबिन्द राम की हवेली में हमेशा चहल पहल रहती। बड़े बेटे राकेश ने दसवीं तक पढ़ाई की थी और उसकी पत्नी सीमा घर सम्भालने में एेमे थी। दूसरा बेटा सुरेश कॉलेज में एक साल तक पढ़ा। पिताजी के कहने पर दुकान पर बैठना जो शुरू हुआ तो धीरे धीरे कॉलेज का रास्ता ही भूल गया। उसकी पत्नी रेखा बीए पास थी और अपनी सुंदरता के लिए कुटुंब में जानी जाती थी। तीसरा बेटा विनोद माँ और दो भाभियों का दुलारा अभी अल्हड़ता के साथ कॉलेज में हीरो की तरह मशहूर था।

गोबिन्द राम की पत्नी कृष्णा अपनी गृहस्थी की रानी थी। सुबह सबसे पहले उठ कर नहा धो कर पूजा करती और उसके बाद जैसे पूरा घर एक बेहतरीन कारख़ाने की तरह से चलने लगता। किसको गरम पानी चाहिए, किस बच्चे को स्कूल जाना है, किसके लिए टिफ़िन पैक होना है, से लेकर पूरे परिवार की हर आवश्यकता व दायित्व का पूर्ण होना कृष्णा ही देखती थी। खाने में क्या बनेगा, सब्ज़ी राशन का इंतज़ाम, नौकरों के काम आदि, सब कुछ वही संचालन करती। गोबिन्द राम घर के मामलों में पत्नी पर पूरा भरोसा रखते। कभी भी किसी बात पर पत्नी के निर्णयों पर कोई टिप्पणी न करते। घर व अपनी सभी ज़रूरतों के हमेशा पूर्ण होने के कारण उनका पूरा ध्यान काम की तरफ़ रहता।

गोबिन्द राम की बड़े बाज़ार के सबसे बडे़ व्यापारी होने के नाते बड़ी इज़्ज़त थी। वो सुबह जब दुकान पर जाते रास्ते में मिलने वाले सभी दुकानदार, कर्मचारी, आदि उनका सत्कार करते। गोबिन्द राम धार्मिक विचारों वाले व गुणीं व्यक्ति थे। लोग अपने व्यक्तिगत व व्यापारिक मामलों में उनकी सलाह लेते। उनके चरित्र व आचरण की चर्चा आम बात थी। दुकान पर सभी मामलों में दोनों बेटे पिता से पूछे बिना कोई क़दम न उठाते।

जन्माष्टमी का दिन था, घर में बहुत हलचल थी। सभी लोगों को कृष्णा का निर्देश था कि सुबह जल्दी से उठ कर नहा लें और घर की पूजा में शामिल हों। हर वर्ष की तरह जन्माषटमी की पूजा का प्रसाद महाजन परिवार अपने हाथों से बना कर मंदिर में पहुँचाएगा। दोनों बहुएँ व बेटे रसोईघर में माँ के साथ प्रसाद बनाने में लगे थे। कृष्णा ने सुरेश से पूछा कि विनोद को बुलाया क्या। हाँ माँ, दो बार बलाया। वह उठ ही नहीं रहा। उसे छोड़ो, अभी तो वह नहाया भी नहीं। एक घंटे से पहले न आयेगा। तब तक तो प्रसाद का सारा काम समाप्त हो जाएगा।

न बेटा, प्रसाद में उसका हाथ भी लगना ही चाहिए। तुम लोग काम जारी रखो मैं लेकर आती हूँ। कह कर कृष्णा तेज़ी से ऊपरी मंज़िल पर विनोद के कमरे की और चलीं। जल्दी में सीड़ियों से पाँव फिसला और लुढ़कती हुई नीचे आन गिरी। आवाज़ सुन कर घर के सभी लोग भागे आए। माँ के सिर से बहते ख़ून को देख सभी घबरा गए। आनन फ़ानन में गाड़ी में माँ को लिटाया और अस्पताल ले गए। चोट गहरी लगी थी। शाम होते होते घर की धुरी हिल गई। गोबिन्द राम से लेकर परिवार के छोटे बच्चों तक, घर के नौकर चाकरों से ले कर दुकान के कर्मचारियों तक,और रिश्तेदारों से लेकर बड़े बाज़ार के बहुत से व्यापारियों तक शोकाकुल हो गए।

गोबिन्द राम तो जैसे पत्थर हो गए। दुकान पर जाना बंद कर अपने कमरे में दरवाज़ा बंद कर रहने लगे। न खाने का होश न दुनिया की ख़बर। सब बेटे बहुएँ कोशिश करते कि वे अपनी इस स्तिथी से बाहर आएँ। धीरे धीरे बेटों ने दुकान जाना शुरू कर दिया। बहुओं ने घर की ज़िम्मेवारी संभाल ली। पोते पोतियाँ हमेशा अपने माँ बाप से दादी के बारे में पूछते रहते। दोनों बेटों को दुकान के कामों में एक के बाद एक मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा था। कितने लोगों से लेनदेन का हिसाब मिल नहीं पा रहा था। कई ग्राहक परेशान हो कर दूसरी दुकानों से मेवे ख़रीदने लगे थे।

कई महीने बीत गए। आख़िर बड़े बेटे ने पिता के पास जा कर विनती की कि दुकान पर हो रहे नुक़सान को रोकने के लिए वे फिर से काम पर आना शुरू करे। काम भी ठीक चलेगा और उनका दिल भी बहल जाएगा। पोते पोतियों की उदासी भी दूर हो जाएगी। शायद बंद कमरे में अकेले रह रह कर गोबिन्द राम भी परेशान हो चुके थे या पोते पोतियों की उदासी के बारे में सुन कर उनका दिल भी खुला और वे कभी कभी दुकान पर जाने के लिए तैयार हो गए। अगले दिन से भारी मन से उठ कर वे स्वयं तैयार हुए और नाश्ता करने के लिए पहुँच गए। पत्नी को न पा रसोईघर के बाहर ठिठक कर खड़े हो गए।बड़ी बहु ने आदर के साथ उन्हें बैठाया और नौकरानी को नाश्ता लाने के लिए कहा।

दुकान पर जाने लगे और बड़े बाज़ार के बहुत से दुकानदारों से फिर से मिलना जुलना शुरू हो गया। कुछ ही दिनों में गोबिन्द राम काम में दोबारा से मग्न हो गए और ऐसा लगने लगा कि पत्नी के जाने के दुख से वे उबर चुके थे। केवल शाम को जब घर वापस आते तो खाना खा कर चुपचाप अपने कमरे में चले जाते। पत्नी की अनुपस्थिती जैसे बादल बन कर उनके मन में छा जाती और फिर से वे शोक में समा जाते। अकसर वे सिर में और कमर में दर्द से परेशान रहते। कभी गर्म पानी की रबर की बोतल लगा कर लेट जाते या दर्द की दवाएँ ला कर खाते। और कभी किसी नौकर से अपनी पीठ पर मरहम लगा कर दबवाते। पिता की हालत से जब परिवार में कोई परेशान होता तो बड़े भैया राकेश कहते समय के साथ सब ठीक हो जाएगा।

परिवार के सब लोगों को बहुत आश्चर्य हुआ जब बिना बताए एक रात गोबिन्द राम घर से निकल गए और देर रात वापस आकर सो गए। सभी एक दूसरे की ओर प्रश्नवाचक दृष्टि से देखते पर किसी की हिम्मत न हुई कि पिता से पूछ पाएँ। कुछ दिन बीते और एक बार फिर पिताजी देर रात तक नदारद रहे। धीरे धीरे ऐसा अक्सर होने लगा और परिवार के लोग केवल अटकलें लगाते रहे। बेटों का ख़्याल था कि पिता ने कहीं कोई ख़ज़ाना छिपा रखा है तो बहुओँ का कहना था कि कोई दूसरी औरत होगी। बेटे कहते, छी, पिताजी के बारे में ऐसा सोचना भी ग़लत है।

फिर एक सुबह जब सब लोग उठे तो देखा एक औरत, जो कि बड़ी बहु की आयु की होगी, अपनी साड़ी का पल्लू संभाले पिताजी के कमरे से निकल कर स्नानघर जा रही थी। छोटी बहु रेखा ने देखा तो भाग कर अपने कमरे में गई और अपने पति सुरेश को उठा कर बोली मैंने कहा था न, कोई औरत है। पता नहीं कहाँ से उठा लाए हैं। शक्ल से तो चीनी दिखती है।

क्या कह रही हो रेखा, तुम्हें कोई ग़लतफ़हमी हुई लगती है। सुरेश ने बिस्तर से उठते हुए कहा। पैरों में जल्दी से चप्पल पहनते हुए वह बाहर निकल गया। इतने में दूसरे कमरे से बड़ा भाई राकेश और भाभी सीमा भी निकल कर बाहर आ गए। चारों में आतंकित स्वरों में बात होने लगी। न जाने कौन है। पिताजी की दुखद हालत का फ़ायदा उठा कर ये औरत सारी संपत्ति पर क़ब्ज़ा करने के लिए आई होगी। अरे इसे अभी के अभी बाहर का रास्ता दिखाते हैं।

कुछ देर में स्नानघर से जब वह चीनी जैसी दिखने वाली औरत निकली चारों लोग उसकी तरफ़ बढ़े। इतने में गोबिन्द राम भी अपने कमरे से बाहर आ गए। बेटे बहुओं को देख कर बोले, मेरी तबीयत ठीक नहीं रहती और तुम लोग अपने कामों में व्यस्त रहते हो, इसलिए अपनी सेवा के लिए मैं इसे ले कर आया हूँ। चारों को जैसे साँप सूँघ गया। न चाहते हुए भी वे वहाँ से चल दिए। राकेश के कमरे में पहुँच कर मशवरा शुरू हुआ। मुझे पिताजी से ऐसी आशा न थी, राकेश बोला। सुरेश ने कहा, अब किया क्या जाए। सारे मुहल्ले और बाज़ार में बदनामी होगी। कहीं मुँह दिखाने लायक न रहेंगे। रेखा बोली, अगर तुमने आज के आज इसे घर से न निकाला तो बच्चों को लेकर मैं मायके चली जाऊँगी। सीमा ने रेखा के कंधे पर हाथ रखते हुए कहा, सब्र से काम लो। इस मामले में सोच समझ कर क़दम उठाना होगा। पिताजी के रहते हम इसे निकाल न पाएँगे। कुछ ऐसा करना होगा कि ये ख़ुद ही भाग जाए।

गोबिन्द राम ने उस दिन अपने कमरे में ही नाश्ता किया। दुकान पर भी न गए। वो औरत भी सारा दिन कमरे में ही रही । नौकरों ने खुसपुस तो बहुत की लेकिन जैसे निर्देश मिले खाना आदि कमरे में पहुँचाते रहे। और कई दिन निकल गए। वह औरत, जिसे गोबिन्द राम रक्खी के नाम से बुलाते थे, कभी कभी धूप में बाल सुखाने के लिए आँगन में बैठ जाती थी। एक दिन उसने एक नौकर को सुपारी ख़रीद कर लाने के लिए पैसे दिए। पहली बार परिवार के लोगों ने उसकी आवाज़ सुनी। उत्तर भारत की तो नहीं है, सबने सोचा। बंगाली? नहीं शक्ल से बंगाली भी नहीं लगती। ज़रूर असम की होगी।

गोबिन्द राम भी कई दिन के बाद दुकान गए। इस बार नमस्ते करने वालों से मुकाबले दूर हट कर खुसपुस करने वालों की गिनती अधिक थी। पड़ोस के दुकानदार भी मिलने न आए। इधर घर में बहुओं ने सोचा आज अच्छा अवसर है। वे दोनों अपने पतियों के जाते ही रक्खी के सामने जा खड़ी हुईं। कौन हो तुम? यहाँ क्यों आई हो? कब जाओगी? वग़ैरह प्रश्नों की झड़ी लगा दी। रक्खी भौंचक्की चुप खड़ी रही। जब बहुओं ने और जवाबदारी की तो वह रोने लगी। उसने सिर्फ़ इतना कहा, बाबूजी को आने दो। वो कहेंगे तो चली जाऊँगी। पिताजी का नाम सुन कर बहुएँ ढीली पड़ गईं। वैसे भी रक्खी को सुबकते देख उन दोनों के मन से नफ़रत की बर्फ़ कुछ पिघलने सी लगी थी। शाम तक रक्खी ने कुछ न खाया। चुपचाप एक तरफ़ बैठी रही। बड़ी बहु ने खाना भिजवाया लेकिन रक्खी ने छुआ तक नहीं।

स्कूल से बच्चे वापस आए तो सबसे बड़े सुमीत ने अपनी माँ सीमा से पूछा, ये कौन है? हमारे घर किस लिए आई है? सीमा ने पहले कोई उत्तर न दिया। बार बार पूछने पर उसने कहा, ये तुम्हारे दादाजी की नर्स है। उनकी कमर में दर्द रहता है न, उसी के लिए आई है। बच्चे खाना खा कर रोज़ाना सोते थे और उठ कर खेलते थे। आज तीनों बच्चे रक्खी के पास पहुँच गए और छोटे छोटे प्रश्न करने लगे। बहुओं ने जैसे ही देखा उन्हें डाँट कर दूर ले गईं। जाओ तुम लोग खेलो। इनको तंग न करो।

बहुओं का व्यवहार देखते हुए गोबिन्द राम ने एक दिन उन्हें कहा, देखो रक्खी तुम्हारी माँ का स्थान तो न ले सकेगी लेकिन जिस तरह से वह मेरी सेवा कर रही है बेहतर यही होगा कि आप दोनों और सब बेटे इसे स्वीकार करें। इसकी लगन व मेहनत के लिए इसे इज़्ज़त दें। बहुओं के पास अनेक प्रश्न थे जिनका उत्तर वे चाहती थीं लेकिन पिताजी के सामने पूछने की हिम्मत न जुटा पाईं। जब बेटों ने ही पिता से कोई प्रश्न न किया तो बहुएँ कैसे करतीं। पहले केवल नौकरों के माध्यम से बात होती थी लेकिन उस दिन से बहुओं ने रक्खी से कभी कभी बात करना आरम्भ कर दिया। बच्चे भी स्कूल से आकर रक्खी से बात करते तो सीमा और रेखा मना न करती। एक दिन सुबह रक्खी रसोई में आई और सीमा से कहा, लाओ मैं नाश्ता बना देती हूँ । तुम सा तो न बना पाऊँगी लेकिन कोशिश करूँगी। सीमा चुपचाप रसोई से बाहर चली गई। फिर एक दिन जब रेखा अपने दोनों बच्चों के साथ अपने मायके गई हुई थी और सीमा की तबीयत ख़राब थी सुमीत को स्कूल से आते ही रक्खी ने खाना परोस दिया और सीमा के पास जाकर बोली, बेटा, तुम्हारा सिर दबा दूँ? सीमा ने कहा, रहने दो, मांसी। दवा ले ली है, कुछ देर में ठीक हो जाऊँगी। न चाहते हुए भी सभी भाईयों व बहुओं ने रक्खी को मांसी बुलाना शुरू कर दिया।

एक दिन सुमीत व दोनों छोटे बच्चे रक्खी से हलवा बनाने की ज़िद करने लगे। रक्खी ने कहा अगर तुम्हारी माँ कहेंगी तो बना दूँगी, वरना नहीं। सुमीत रक्खी से लिपटते हुए बोला, दादी बनाओ न हलुआ, कितना अच्छा बनाती हो तुम। रक्खी की बाँछें खिल गईं। आँसू झर झर बहने लगे। तीनों बच्चों को सीने से चिपका कर बोली, अभी बनाती हूँ हलवा।

No comments :

Post a Comment

We welcome your comments related to the article and the topic being discussed. We expect the comments to be courteous, and respectful of the author and other commenters. Setu reserves the right to moderate, remove or reject comments that contain foul language, insult, hatred, personal information or indicate bad intention. The views expressed in comments reflect those of the commenter, not the official views of the Setu editorial board. प्रकाशित रचना से सम्बंधित शालीन सम्वाद का स्वागत है।