आओ हिंदी सीखें - भाग 11

डॉ. सत्यवीर सिंह

सत्यवीर सिंह

सहायक आचार्य (हिंदी)
ला. ब. शा. राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय, कोटपूतली (जयपुर) 303108, राजस्थान, भारत
चलभाष: +91 979 996 4305; ईमेल: drsatyavirsingh@gmail.com

समश्रुति भिन्नार्थक शब्द

प्रत्येक भाषा में कुछ ऐसे शब्द रहते हैं, जिनमें वर्तनीगत एवं उच्चारण की समानता सी नजर आती है। परंतु अर्थ की दृष्टि से भिन्नता पायी जाती है। ध्वनिगत एवं वर्तनीगत जितनी समरूपता या समश्रुतता दिखलाई पड़ती हैं, अर्थ की दृष्टि से उतनी ही भिन्नता रहती है। इस तरह के शब्द हिंदी भाषा में भी प्रचलित हैं। ऐसे शब्द हिंदी की धरोहर हैं। हिंदी में इस तरह के शब्दों को समश्रुति भिन्नार्थक, श्रुतिसम भिन्नार्थक, समानाभासी भिन्नार्थक, समोच्चारित भिन्नार्थक, श्रुतिभ्रम भिन्नार्थक तथा समदर्शी भिन्नार्थक शब्दों के नाम से अभिहीत किया जाता है। आजकल इन शब्दों को शब्द-युग्म भी कहा जाने लगा है। यह इसलिए कहा जाता है कि इस तरह के शब्द अकेले नहीं, जोड़े (युग्म) में आते हैं। तभी तो दो में भिन्नता प्रकट होती हैं। ये दोनों शब्द देखने या सुनने में इनका रूप एवं ध्वनि समानता लिए नजर आती हैं, लेकिन समानता होती नहीं। अर्थ की दृष्टि से तो बिल्कुल ही असमानता होती है। इनके प्रयोग या कहे कि प्रयुक्ति से पूर्व इनके अर्थ भेद की जानकारी अत्यावश्यक हैं अन्यथा अर्थ का अनर्थ हो जाएगा। इनकी बनावट या संरचना में थोड़ा सा अंतर होता है और अर्थ बिल्कुल अलग,भिन्न। जैसे 'परीक्षा' का अर्थ होगा परख, मूल्यांकन, इम्तिहान और 'परिक्षा' (इसमें हृस्व'इ' की मात्रा है) का अर्थ होगा कीचड़। यह तो एक नज़ीर (उदाहरण) है। इस तरह के सैकड़ों शब्दों का समावेश हिंदी में हैं। जिनमें मात्रा, अनुस्वार, अनुनासिक नुक्ता आदि की थोड़ी रूप, रचना परिवर्तन होता है परन्तु अर्थ एकदम भिन्न होता है। इस प्रकार के कतिपय युग्मक शब्द एवं उनके अर्थ अकारादिक्रम में दिए जा रहे हैं।

अ से औ (सभी स्वर)

अंस- कंधा / अंश- हिस्सा, भाग
अंबुज- कमल / अंबुद- बादल
अर्क- सूर्य / अरक- आक, रस
अंजन- काजल / अजन- निर्जन
अनिल- हवा /अनल- आग
अगर- धूपबत्ती, यदि / आगर- झुंड, समूह
असन- भोजन / आसन- बैठने की वस्तु
अहर- तालाब / आहार- भोजन
अंब- माता / अंबु- जल
अलीक- झूठा / अलिक- ललाट
अंत- समाप्ति / अन्त्य- अंतिम, आखिरी, नीच
अगम- कठिन / आगम- शास्त्र
अपत्य- संतान / अपथ्य- रोगी के अनुकूल भोजन
अराल- टेढ़ा / अराला- वेश्या
अपेक्षा- आशा / उपेक्षा- निरादर, अवहेलना
अगद- नीरोग / अंगद- बालिपुत्र
अन्न- अनाज / अन्य- दूसरा
अयश- अपयश / अयस-लौह धातु
अश्व- घोड़ा / अश्म- पत्थर
अक्षि- आँख / अक्षी- आँखवाली
अवलंब- सहारा, आश्रय / अविलंब- शीघ्र
अग- अचल / अघ- पाप
अब्ज- कमल / अब्द- बादल
असि- तलवार / असी- एक नदी
अपकार- बुराई / उपकार- भलाई
आवाज- ध्वनि / आगाज- आरंभ
अहि- साँप / अही- हे
आश्रुत- अवैदिक / आश्रुति- कर्णहीन
अकथ- अकथनीय / अथक- बिना थके
आर्त्त- दुःखी / आर्द्र- गीला
अवनि- पृथ्वी / अवन- रक्षा
अजात- जिसका जन्म हुआ हो / आजानु- घुटने तक
अंधकारी- एक राग / अंधकारि- शिव
आपीत- हल्का पीला / आपीन- मोटा
अवृत्ति- बेकारी / आवृत्ति- दुहराव
इंद्रा- इंद्राणी / इंदिरा- लक्ष्मी
अमित- बहुत /अमीत- शत्रु
इला- पृथ्वी / इली- कटारी
अद्य- आज / आद्य- पुरातन (प्राचीन)
इंदु- चंद्रमा / इंदुर- चूहा
अर्जन- संग्रह / अर्चन- पूजा
इस्तरी- प्रेस / स्त्री- महिला
अश्रि- कोना, धार /अश्रु- नेत्रजल, आँसू
इबारत- लेखनी / इबादत- पूजा, उपासना
अवधूत- संन्यासी / अधूत- निडर
इति- समाप्ति / ईति- देवी प्रकोप
अलि- भ्रमर / आली- सखी
इड़ा- नाड़ी / ईड़ा- स्तुति
अभिज्ञ- जानकार / अविज्ञ- मूर्ख
ईशा- बल / ईसा- ऐश्वर्य
अनु- पीछे / अणु- पदार्थ का छोटा भाग
उपल- पत्थर / उत्पल- कमल
अरि- शत्रु / अरी- संबोधन
उपाधि- पदवी / उपाधी- उपद्रव
अलिक- माथा / अलीक- झूठा
अहम्- घमंड / अहम- जरूरी, आवश्यक
अंशु-किरण / अंशुक- रेशमी वस्त्र
उदार- दानदाता / उधार- ऋण
अजर- जो वृद्ध न हो / अजिर- आँगन
उर- छाति / उरा- पृथ्वी
अकर- न करने योग्य / आकर- खान,खजाना
उत्कच- गंजा / उत्कट- प्रबल
अवधि- समय के लिए / अवधी- एक बोली
उतर- उतारना / उत्तर- जवाब
अदिन- बुरे दिन / अदीन- निर्भय
उग्र- तीव्र / उग्रा- दुर्गा
उपांग- छोटा अंग / उपांत- किनारा
अभिसार- प्रेमी से छिपकर मिलना / अभीसार- आक्रमण
उशी- चाहत / उषसी- संध्या
अजेय- जिसे जीता न जा सके / अजया- बकरी
ऊमक- वेग / उभक- रीछ
अज- बकरा, ब्रह्मा / अजा- बकरी
ऊषा- प्रातः, सवेरा / ऊर्षा- एक तृण
अवलि- पंक्ति / आविल- कलुषपूर्ण
ऋत- सत्य / ऋतु- मौसम
अशित- खाया हुआ / असित- काला
ऋक्ष- भालू, रीछ / ऋक्षा- उत्तर दिशा
अशीत- गरम / अशीति- अस्सी की संख्या
ऋक्थ--संपत्ति, धन / ऋक्- ऋचा, वेदमंत्र
आरसी- शीशा, दर्पण, आईना / आर्षी- वेद संबंधी, वैदिक
अकल- अखंड / अक्ल- बुद्धि
आकर- खान / आकार- आकृति
अक्सर- प्रायः / अक्षर- भाषा की इकाई
आधि- मानसिक कष्ट / आधी- अर्ध भाग
आरति- दुःख / आरती- धूप दीपक जलाकर पूजा करना
आहूत- निमंत्रित / आहुति- हवन सामग्री
आस्तिक- ईश्वर को मानना / आस्तीक- एक ऋषि
आदि- आरंभ / आदी- अभ्यस्त, आदतन
आली- सहेली,सखी / आलि- सुस्त, भ्रमर
आदम- मनु / आदिम- प्रारंभिक
आपद- पैर से / आपात- आसन्न संकट
अनत- सीधा / अनति- अहंकार, घमंड
आवरण- पर्दा / आभरण- अलंकरण,आभूषण
आसन- बैठने का स्थान या वस्तु / आसन्न- निकट
एक- अकेला / ऐक्य- एकता
दो- एकाक्ष- एक आँख / एकाक्षर- एक अक्षर वाला
एव- ही / एवं- और भी
एड- बहड़ा, एक ओषधि / एड़- एडी
एकांकी- एक अंकवाला / एकांगी-एक अंगवाला, अकेला
एतवार- इतवार, आदित्यवार / ऐतबार- विश्वास
ऐल- इला का पुत्र पुरुरवा / एला- इलायची
ऐन- आँख / ऐन्य- स्वामी
ऐब- दोष / ऐभ- हाथी से संबंधित
और- अन्य, दूसरा / ओर- तरफ
ओठ- अधर / औंठ- छोर, किनारा
ओला- भेद, गुप्त बात, बर्फ पिंड / औंला- लापरवाह, मनमौजी
औसर- अवसर /औरस- स्वपत्नी से उत्पन्न पुत्र।
औघर- दुर्गम / औघड़- साधु के लिए (अघोरी साधु)
ओटना- कपास से बिनौला अलग करना /औटना- गर्म होना, उबालना


क वर्ग (क से घ)

कुंजर- हाथी / कंजर- एक जनजाति
कलिल- मिश्रित / कलील- घोड़ा
करि- हाथी / कीर- तोता
काष्ठ- लकड़ी / काष्ठा- दिशा, सीमा
कपि- बंदर / कपी- घिरनी, चरखी, मर्कटी
किला- गढ़ / कीला- लोहे की बड़ी कील
कच- बाल,केश / कुच- स्तन
कुल- खानदान / कूल- किनारा, तट
कोल- एक जनजाति, सूअर / कौल- वायदा
कोड़ी- बीस की संख्या / कौड़ी- कपर्दिका, एक घोंघा
के- कितने / क़ै- वमन
कोर- कोना / कौर- ग्रास, निवाला
कद- द्वैष / क़द- आकार
कृषाण- किसान / कृनानु- आग
कानून- चूल्हा / क़ानून- विधि, विधान
कुच- स्तन / क़ूच- गमन
खैर- कत्था / ख़ैर- कुशल
कानि- मर्यादा / कानी- एक आँख वाली
गर- यदि / ग़र- व्यभिचारिणी
कंथा- गुदड़ी / कथा- कहानी
गुल- पुष्प / गु़ल- शोर
कीट- कीड़ा / किटि- सूअर
गर्रा- लाख के रंग का / ग़र्रा- गरूर, घमंड
गनी- बोरा / ग़नी- धनी
कीश- बंदर / कीस- गर्भ की थैली
कर्ण- कान / करण- एक कारक
केसर- शेर की गर्दन के बाल /केशर- सुगंधित पदार्थ
कलि- कलयुग / कली- अधखिला फूल
केश- बाल / केस- मुकदमा = कपीश- हनुमान / कपिश- मटमैला रंग
कपोत- कबूतर / कपोल- गाल
कोष- खजाना / कोस- दूरी के लिए, क्रोश
केवल- मात्र / केवल्य- मोक्ष
काश- शायद / कास- खाँसी
कोसल- एक जनपद / कौशल- हुनर, दक्षता
करीष- सूखा गोबर / करीश- गजराज, शेर
कल्पना- अमूर्त विचार / कलपना- विलाप करना
कृति- रचना / कृती- निपुण
खाद- उर्वरक / खाद्य- खाने योग्य
घोस- बस्ती, अहीरों की बस्ती / घोष- गर्जन
खोलना- बंधन मुक्त / खौलना- उबलना
घुस- भीतर प्रवेश / घूस- रिश्वत
खर- गधा / खार- राख
घाम- धूप / धाम- घर
खेचर पक्षी / खच्चर एक पशु
घृत- घी / धृत- धारण किया हुआ
गंज- गंजा / गंग- गंगा
घन- बादल / घना- गाढ़ा
खुदा- खुदा हुआ, तराशा हुआ / खु़दा- ईश्वर, अल्लाह
खान- खदान / ख़ान- खाँ, मुस्लिम कुलनाम
गिरा- वाणी / गिरि- पृथ्वी
कादंबरी- शराब / कादंबिनी- घटा, बादलों का समूह
गण- समूह / गण्य-- गिनने योग्य
गदा- एक अस्त्र / गधा- गर्दभ
ग्रह- नक्षत्र / गृह- घर
कलाल- कलवार / कुलाल- कुंभकार
कलश- घड़ा / कुलिश- हीरा, कठोर
केत- घर / केतु- झण्डा
गौर- गोरा रंग / ग़ौर- विचार
गोल- मूर्ख / गो़ल-कान, भीड़
ग्रंथ- पुस्तक / ग्रंथि- गाँठ / ग्रंथी- गुरुग्रंथ साहब का पाठ करनेवाला


च वर्ग (च से झ)

चंद- कुछ / चंद्र- चाँद
जलज- कमल / जलद- बादल
चंपत- गायब / चंपक- चंपा का पेड़
जगत्- संसार / जगत- कुएँ की मुंडेर
चंट- चतुर / चंड- उग्र
जाति- नस्ल, ज़ात / जाती- जायफल
चरण- पैर / चारण- एक जाति
जठर- पेट / जरठ- बूढ़ा
चिता- शव जलाने के लिए / चीता- चित्रक
जाया- पत्नी / ज़ाया- व्यर्थ
चास- खेती / चाष- नीलकंठ
झक- सनक, धुन / झष- मछली
जीना- जीवित / ज़ीना- सीढ़ी
चरित्र- आचरण / चरित्रा- इमली का पेड़
जरा- बुढ़ापा, वृद्धावस्था / ज़रा -थोड़ा
चरम- अंतिम / चर्म- चमड़ा
जंग- युद्ध / ज़ंग- लोहे का मोरचा
चसक- आदत / चषक- प्याला
जलील- पूज्य, प्रतिष्ठित / ज़लील- अपमानित, बेकदरी, नीच
चक्रवात- बवंडर / चक्रवाक- चकवा
जिला- प्रभा / ज़िला- जनपद
चिर- दीर्घकाल / चीर- वस्त्र
चिरि- तोता / चिरी- चिड़िया
चैत्य- घर, बौद्ध विहार, चिता संबंधी / चैत- एक माह
छात्र - शिष्य / क्षात्र- क्षत्रिय
जनि- माता / जनी- पैदा हुई, कन्या
जतु- गोंद, लाख, शिलाजीत / जतू- चमगादड़
जर- थोड़ा, कम / ज़र-धन
जारी- लागू, निरंतर / ज़ारी- विलाप
जाती- जाना (गमन) का स्त्रीलिंग / ज़ाती- निजी
जाइ- वृथा, बेकार / जाई – कन्या
जानि- पत्नी / जानि- जान से संबंध
जज़िया- एक कर, टैक्स / जिजिया- बड़ी बहिन
जैन- एक धर्म / जै़न-शृंगार


ट वर्ग (ट से ढ)

टुक- थोड़ा / टूक- टुकड़ा
ढाल- रक्षक / डाल- शाखा
टोटा- घाटा / टोंटा- कारतूस
ढलाई- ढालने(बनाने) की क्रिया / ढिलाई- शिथिलता
टीका- व्याख्या / ठीका- निश्चित समय, उत्तरदायित्व
ढंग- रीति / ढंख- पलाश, ढाक
टाट- सन से बना कपड़ा / ठाठ-मौज मस्ती,मजा
ढेकी- बात पर कायम / ढेकी- सहसा
डामर- तारक़ोल /डाबर- गंदा
डोल- एक बर्तन /ढोल- बाजा
डाँट- फटकार / डाट- टेक, ढक्कन, अटकाव
डोंगी- छोटी नाव / ढोंगी- पाखंडी
ठंठ- सूखा वृक्ष / ठण्ड- शीत, सर्दी
ठक्कर- टक्कर ठक्कुर- देवता, देवप्रतिमा


त वर्ग (त से न)

तरंग- लहर / तुरंग- घोड़ा
तप- ताप, तपना / तप्य-शिव
तंत- ताँत, तत्व / तंत्र- तंतु
तमीश- चाँद / तमीज- अदब, शालीनता, शिष्टता
तृण- तिनका / तरणि- सूर्य
तुला- तराजू / तूला- कपास
तनु- सुंदर / तनू- माप
तुंद- पेट / तुंड- चोंच, मुख
तड़ाग- तालाब / तड़ाक- ध्वनि
तिथ- कामदेव / तिथि- दिनांक, तारीख
तरणी- नाव / तरुणी- युवती
तूणि- शीघ्र / तूणी- तरकश, तूणीर
ताक- ताकना / ताख- आला
तीर्थ- पवित्र स्थल / तीर्थ्य- सहपाठी, तीर्थ संबंधी
तृण- तिनका / त्राण- रक्षा, मुक्ति
ताश- एक खेल पता / तास- मोटा कपड़ा
तुरंत- शीघ्र, तत्काल / तुरंता- सत्तू, आटा
तारीक- अँधेरा / तारीख- तिथि, दिनांक
त्वाष्टी- दुर्गा / त्वाष्ट्री- चित्रा नक्षत्र, विश्वामित्र की पुत्री
तोश- कारतूस की थैली / तोष- संतोष
दशन- दाँत / दंशन- काटना
दारा- पत्नी / द्वारा- माध्यम
देव- देवता / दैव- भाग्य
दाम- रुपया / धाम- घर
दिन- दिवस / दीन- गरीब
द्विप- हाथी / द्वीप- टापू
द्यूत- जुआ / दूत- संदेशवाहक
दूर्वा- दूब / दर्भा- कुशा घास
द्रव- तरल पदार्थ / द्रव्य- वस्तु, दौलत
धावा- हमला,आक्रमण / द्यावा- आकाश
धुरा- अक्ष / धूरा- धूल
धनु- धनुष / धेनु- गाय
धर्म- कर्तव्य / घर्म- घाम, गर्मी, धूप
धरा- पृथ्वी / धारा- प्रवाह, वेग
धनेष- कुबेर, पूँजीपति / धनेस- बगुला
धन- संपत्ति, युक्त / धना- युवती, वधू
नक्र- मगरमच्छ / नरक- नरकवास
नीड़- घोंसला / नीर- पानी
निशीथ- अर्द्धरात्रि / निषिद्ध- मना, वर्जित
निंदा- बुराई / निद्रा- नींद
निसान- झंडा / निशान- चिह्न
निदान- निराकरण / निधान- आधार
नाक- नासिका / नाग- सर्प
नंदी- शिववाहन / नांदी- नाटक का मंगलाचरण
नाप- नापना / नाभ- नाभि
निर्माण- सृजन, बनाना / निर्वाण- मुक्ति, मोक्ष
नेमि- पहिये का घेरा / नेमी- नियमपालक, तिनिश वृक्ष
नौमि- प्रणाम, नमस्कार करना / नौमी- नवमी
निर्वात- बिना हवा के / निर्वाद- विवादरहित
नग- पर्वत / नाग- सर्प
नगर- शहर / नागर- चतुर, प्रवीण
नकल- प्रतिलिपि / नकुल- नेवला
नियत- निश्चित, पक्का / नियति- भाग्य, तकदीर
निवृत- ओढ़नी, उत्तरीय / निवृत्त- लौटा हुआ, रागरहित मन
निगम- संस्था /निर्गम- निकासी
निर्जर- देव / निर्झर- झरना
नाविक- मल्लाह / नावक- शिकारी
तन- शरीर / तनय- पुत्र
नेति- अंतहीन, जिसका अंत न हो / नेती- मथानी की रस्सी ( मथानी-दही बिलौने का यंत्र)


प वर्ग (प से म )

पद्म- कमल / पद्य- कविता, काव्य
पाट- विस्तार / पाठ- पढ़ने की क्रिया
पतन- ह्रास / पत्तन- नगर, बंदरगाह
पाण- व्यापार, व्यवसाय, प्रतिज्ञा / पान- तांबूल
पवन- हवा, वायु / पावन- पवित्र
पानी- जल / पाणि- हाथ
परीक्षा- इम्तिहान, जाँच, परख / परिक्षा- कीचड़
परीक्षित- परीक्षा दे चुका, परीक्षार्थी / परीक्षित्- अभिमन्यु का पुत्र
परुष- कठोर / पुरुष- आदमी
प्रसाद- कृपा / प्रसाद- महल
पुरी- नगर / पूरी- संपूर्ण, एक रोटी
प्रथा- परंपरा, रीति रिवाज / पृथा- कुंती
पुश्त- पीढ़ी, सहारा, पीठ / पुस्त- मिट्टी, लकड़ी, पुस्तक
पुष्कर- तालाब / पुष्कल- पर्याप्त
पिक- कोयल / पीक- थूक
पास- निकट / पाश- बंधन
पुर- नगर / पूर- बाढ़
पोत- जलयान / पौत्र- पुत्र का पुत्र
प्रतीप- उल्टा / प्रदीप- दीपक
प्रकार- ढंग / प्राकार- परकोटा, परिकूट
पथ- रास्ता / पथ्य- रोगी के लिए भोजन
प्रधान- मुख्य / परिधान- वस्त्र
प्रवार- वस्त्र / प्रवाल- मूँगा
परिमाण- मात्रा / परिणाम- नतीजा
पावस- वर्षा / पायस- खीर
प्रणीत- रचित / परिणीत- विवाहित, समाप्त
परजन- शत्रु / पर्जन्य- बादल
पयोज- कमल / पयोद- बादल
प्रणय- प्रेम / परिणय- विवाह
पृष्ट- पूछा गया / पृष्ठ- पीठ
पावक- अग्नि / पायक- दूत, पैदल सैनिक
प्रेषित- भेजने वाला / प्रेषिति- पाने वाला
प्रमाण- सबूत / प्रणाम- नमस्कार
प्रहार- हमला, मारक / परिहार- त्यागना
प्रकृत- स्वाभाविक / प्रकृति- स्वभाव
फिराक- फेर, चक्कर, इंतजार / फ़िराक़- वियोग, जुदाई
फ़न- कार्य, हुनर / फण- साँप का मुँह
बहन- भगिनी / वहन- भार वहन करना
फुट- माप की दूरी / फूट- मतभेद, आपसी संबंधों में दूरियाँ
बान- आदत / बाण- तीर
बारिश- वर्षा / वारीश- समुद्र
बदन- शरीर / वदन- मुख
बंदी- कैदी / वंदी- चारण
बात- वार्ता / वात- हवा
बसन- वस्त्र / व्यसन- लत
बही- हिसाब लिखने की पोथी / बहि: - बाहर से
बली- बलवान / बलि- चढ़ावा, भेंट, बलिदान
बास- गंध / वास- रहने का स्थान, निवास
बाग- लगाम, रास, रस्सी / बाग़- बगीचा
बुरा- खराब / बूरा- शक्कर
बेल- एक फल / बैल- वृषभ, साँड़
ब्याज- सूद / व्याज- बहाना
बकारि- भीम, कृष्ण / बकरी- एक जानवर
बाक़ी- शेष / बाकी- रोनेवाला
बारी- अवसर / बाड़ी- वाटिका
बहु- अनेक, अधिक / बहू- वधू
बार- दफा / वार- चोट, दिवस
बारिश- बरसात / वारिस- उत्तराधिकारी
भंगि- टेढ़ापन / भंगी- एक जाति, सिक्खों की एक मिसल
भट- योद्धा / भट्ट- एक ब्राह्मण, कवि
भवन- घर / भुवन- संसार
भीत्ति- दीवार / भीति- डर, भय
भान- ज्ञान / भानु- सूर्य
मासन- सोमराजी लता / भाषण- कथन, मौखिक भाषा
भँवर- आवर्त / भ्रमर- भौंरा
भाग- भागना / भाग्य- तकदीर
मढ़ी- मंदिर / मड़ी- आवरण युक्त
मणि- बहुमूल्य पत्थर / मनी- वीर्य, गर्व
मध्य- बीच में / मद्य- शराब
मद्र- एक जनपद / मंद्र- संगीत
मरुत- वायु देवता / मरुत्- प्राण देवता
मर्श- विचार, विमर्श / मर्ष- सहन, शांति, धैर्य
मांस- गोश्त / मास- महीना
माश- उड़द / मास- महीना
मल- मैल, गंदगी / मल्ल- पहलवान
मोर- मयूर / मौर- मुकुट
मेध- यज्ञ / मेघ- बादल
मनोज- कामदेव / मनुज- मानव
मेल- एकता / मैल- गंदगी
मेद- चर्बी / मेदा- पेट
मानस- मन / मानुष- मनुष्य, मानव
मरीचि- किरण / मरीची- सूर्य
मंदर- पर्वत / मंदिर- देवालय
मृत- मरा हुआ / मृत्- मिट्टी
मिति- मान, सीमा / मिती- तिथि
माँह- मध्य, बीच में / माह- महिना, मास
मातृ- माता / मात्र- केवल
मेहँदी- हिना / महदी- पथ प्रदर्शक, रहनुमा


य, र, ल, व वर्ग

यक्ष- देवताओं का एक वर्ग / अक्ष- धुरी
योगा- सीता की सखी / योग्या- युवती
याम- प्रहर / याम्य- यमदूत
योगीश्वर- योगियों में श्रेष्ठ / योगेश्वर- शिव, कृष्ण
योग- जोड़ / योग्य- उपयुक्त
यष्टि- लकड़ी / याष्टी- मुलेठी
रज- अंगूर / रज़- धूल
रन- ताल, झील / रण- युद्ध
राजी- कतार, काली सरसों / राज़ी- सहमत, सहमति
राशि- ढेर, राशियाँ (ज्योतिष में) / रासी- खराब, शराब, रद्दी
रूप-आकार / रूपा- सफेद घोड़ा
रेश- लंबी दाढ़ी, बड़ी / रेष- हानि, हिंसा
रोज- विलाप / रोज़- प्रतिदिन
रेखा- लकीर / लेखा- लिखित हिसाब-किताब
राही- राहगीर / रोही- चढ़ने वाला, सवार
रद- दाँत / रद्द- निरस्त, खराब
रंचक- थोड़ा / रंजक- मेहंदी
रत- लीन / रति- कामदेव की पत्नी
लक्ष- लाख / लक्ष्य- निशाना
लगन- लीन, शामिल / लग्न- शुभ मुहूर्त
लवण- नमक / लवन- खेत कटाई (लावनी)
लुटना- स्वयं लुट जाना / लूटना- किसी को लूटना, कुछ हड़पना
लाश- मृत देह / लास्य- एक नृत्य
लेश- अणु, सूक्ष्म / लेस- गोटा, बेल
लोटा- जलपात्र / लौटा- लौटने की क्रिया, वापसी
लंक- कमर / लंका- एक देश, श्रीलंका
लगान- भूमिकर / लगाम- घोड़े की रस्सी
लब्ध- प्राप्त / लुब्ध- लोभी
वक- बगुला / बक- बकासुर
वरण- चयन / वारण- न्योछावर
वस्तु- चीज / वास्तु- भवन
वटि- एक चींटी / वटी- रस्सी
वसन- वस्त्र / व्यसन- लत
व्रण- घाव / वरण- स्वीकारना
व्याघ्र- शिकारी / व्याधि- रोग
व्यंग- विकलांग, दिव्यांग / व्यंग्य- कटाक्ष, ताना
व्यजन- पंखा / व्यंजन- हल् वर्ण, पकवान
वाद- दावा / वाद्य- बाजा, संगीत यंत्र
वमन- उल्टी / वामन- बौना / वामना- एक अप्सरा
व्रत- प्रतिज्ञा / वृत- घेरा
वृंद- समूह / वृंत- डंठल
विस- कमलनाल / विष- जहर
विपण- बाजार / विपन्न- निर्धन, गरीब
वेश्या- कुलटा, गणिका / वैश्या- वैश्य की पत्नी
वारांगना- वेश्या / वीरांगना- वीर की पत्नी
वेटी- नाव / बेटी- पुत्री
विनाश- अस्तित्व खत्म / विनास- नासिका रहित
वारुणि- अगस्त्य ऋषि / वारुणी- शराब


श, ष, स, ह वर्ग

शब- रात / सब- संपूर्ण, समूह
शूर- योद्धा, शूरवीर / सूर- सूर्य, अंधा
शंकर- शिव / संकर- मिश्रित
शुचि- पवित्र / सूची- तालिका
शमी- खेजड़ी (एक वृक्ष) / शमि- शिवा नामक धान
सम- समान, बराबर / शम- शांति
साम- संगीत / शाम- सायं
श्याम- कृष्ण / स्याम- एक प्राचीन देश
शाला- घर / साला- पत्नी का भाई
शर्व- शिव / सर्व- सब
शर- तीर, बाण / सर- सरोवर
शीशा- काँच, आईना, दर्पण / सीसा- एक धातु
शाख- शाखा / साख- प्रतिष्ठा
शकल- टुकड़ा / सकल- संपूर्ण
शयन- सोना / श्येन- बाज
शुक्ति- सीप / सूक्ति- कथन, उक्ति
शंबु- सीपी / शंभु- शंकर, महादेव
शुक- तोता / शुक्र- एक नक्षत्र, ग्रह
शुक्ल- सफेद / शुल्क- फीस
शौक- रुचि / शोक- संताप
शंबर- बादल, जल / संबल- सहारा
श्वसुर- ससुर / श्मश्रु- दाढ़ी
शंब- इंद्र का वज्र, /शंबा- शनिवार
सारणि- छोटी नदी, पुननर्वा / सारणी- प्रसारिणी
स्रवण- टपकना / श्रमण- संन्यासी
श्वजन- कुत्ता / स्वजन- प्रियजन
श्वपच- चांडाल / स्वपच- स्वयंपाकी
शारदा- सरस्वती / सारदा- सारांश
शराव- मिट्टी का प्याला, थाल / शराब- मदिरा, मद्य
श्रम- मेहनत, परिश्रम / शर्म- लज्जा, हया
शकठ- मचान / शकट- बैलगाड़ी
शशधर- चंद्रमा / शशिधर- शिव
शांत- चुप / सांत- अंतसहित
शेखर- सिर / शिखर- चोटी
श्वेत- सफेद / स्वेद- पसीना
शती- सौ / सती- पतिव्रता
षष्टि- 60 वर्ष / षष्ठी- छठी
षड्- छह / षण्ड- नपुंसक
सुथार- बढ़ई, खाती / सुधार- परिवर्तन
स्तन- उरोज / स्तन्य- दूध
समर- युद्ध / स्मर- कामदेव
शर्मा- ब्राह्मण वर्ण का कुलनाम / सरमा- देवलोक की कुतिया
सुधि- स्मृति, याद / सुधी- विद्वान
सुर- देवता / स्वर- संगीत, वर्णमाला के वर्ण
सुत- पुत्र / सूत- सारथि, धागा
सुकृति- पुण्य, मंगल / सुकृती- पुण्यवान, भाग्यशाली
सुरभि- सुगंध / सुरभी- गाय, धेनु
सीमंत- सिर की माँग / सीमांत- हद
सिता- मिस्री, एक मिट्ठी वस्तु / सीता- राम भार्या, जानकी
सन- पटुआ (एक पौधा जिसकी छाल के रेशे) /सन्- साल, वर्ष
सप्त- सात / शप्त - शाप पाया हुआ, शाप ग्रस्त
सर्ग- अध्याय / स्वर्ग- देवलोक
सिर- मस्तक, शीश / सीर- हल (कृषि यंत्र) की लकीर
सीकर- रज़कण / सीकड़- जंजीर
सुकर- आसान / शूकर- सूअर / सुअन- पुत्र, सुत, बेटा / सुमन- फूल
सेना- फौज / सेना- पालना, पालन करना, सेवन करना
सेर- एक माप ( किलो) / सैर- घूमना
सेव- बेसन का पकवान / सेब- एक फल
सो- इसलिए / सौ- एक सैकड़ा
सुना- सुनना, एक क्रिया / सूना- एकांत
सर्वदा- सदैव, हमेशा / सर्वथा- सब तरह से, पूर्णतया
हर- महादेव / हरि- विष्णु
हय- घोड़ा / हिय- हृदय
हंस- एक पक्षी / हँस- हँसना
शंभु- शिव / शंबु- सीपी
हाल- दशा, स्थिति / हाला- शराब
हरिण- मृग / हिरण्य- सोना, स्वर्ण
हेम- सोना, स्वर्ण / हैम- ओसकण
हस्त- हाथ / हस्ती- हाथी
हृद्- हृदय, दिल, आत्मा / हृद्य- हार्दिक, प्रिय
समा- समान / शमा- मोमबत्ती
स्व- अपना / स्वः – स्वर्ग
शोध- गवेषणा, खोज / सौध- भवन
हलका- कम वजनी / हलक़ा- परिधि, रक़बा
सर्व- सभी, सब / शर्व- शिव
सेनि- श्रेणी, पंक्ति / सेनी- सीढी, सहदेव के अज्ञातवास का नाम
हक- छीलना, काटना / हक़- अधिकार

3 comments :

  1. वाह , हिन्दीभाषी और हिन्दी के जिज्ञासुओं के लिये पठनीय और संग्रहणीय आलेख

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब गागर में सागर सर

    ReplyDelete

We welcome your comments related to the article and the topic being discussed. We expect the comments to be courteous, and respectful of the author and other commenters. Setu reserves the right to moderate, remove or reject comments that contain foul language, insult, hatred, personal information or indicate bad intention. The views expressed in comments reflect those of the commenter, not the official views of the Setu editorial board. प्रकाशित रचना से सम्बंधित शालीन सम्वाद का स्वागत है।