वह लड़की - अनुराधा मिश्रा

डॉ. अनुराधा मिश्रा
अनुराधा मिश्रा वर्तमान में गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में एप्लाइड केमिस्ट्री की प्रोफेसर हैं। विचलित मन व्यस्ततम जीवन में भी उनकी डायरी के कुछ पन्नो को भर गया। यही भरे पन्ने उम्र के तीसरे पड़ाव के समीप उनके हिंदी लेखन को एक परिचय देना चाहते हैं। यह कृति छोटे शहरों-कस्बे की उन मध्यमवर्गी लड़कियों को समर्पित है जिनकी प्रतिभा समाज और परिवार के कुछ बेहूदे बन्धनों में ही रह दम तोड़ गयी है।


वह लड़की जो माँ के आँगन में,
वटवृक्ष सी लहराती,
ससुराल के ड्राइंगरूम में,
क्यों बोन्साई भर रह जाती?
जो ओस की बूंदों सी,
हर पत्ती पर फिसल जाती,
बारिश बन धरती महकाती,
क्यों फ्रिज में बंद एक बोतल भर जाती?
जो किसी द्वार किसी झरोखे से,
कभी दरार से भी आ जाती,
उन्मुक्त बयार सी सबको हिला जाती,
क्यों मकान का कूलर, एसी भर रह जाती?
जो छत पर चहचहाती,
सन्नाटों को सुला जाती,
स्वछन्द पक्षी सी जाती-आती, 
क्यों पिंजरे में बंद सुंदर चिड़िया भर रह जाती?
जो मोहल्ले के बच्चों संग,
सड़क पर क्रिकेट खेल आती,
दुप्पटे दीवारों को पहना आती,
क्यों घूँघट में ढका नाम भर रह जाती?
जो रौशनी सी जगमगाती,
धूप सी खिलखिलाती,
कभी चांदनी सी सौम्यता फैलाती,
क्यों कमरे का ज़ीरो पॉवर बल्ब भर रह जाती?
जो शब्दकोष मस्तिष्क में समेटे,
वाक्पटुता को जिह्वा पर लपेटे,
बेझिझक बेबाक अपनी बातें मनवाती,
क्यों रिमोट संचलित गुड़िया भर रह जाती है?
जो बागों में गुनगुनाती,
कोयल के पंचम सी गाती,
कभी रिषभ सी कोमल हो जाती,
क्यों महफ़िल का फ़रमाइशी गीत भर रह जाती?
जो झरने सी कलकलाती,
समुद्री लहरों सी टकराती,
मैदानी नदी सी कभी सीधी हो जाती,
क्यों बाँध के पानी सी कैद में रह जाती?
जो थोड़ा सा साहस दिखा पाती,
बड़ी इच्छाशक्ति जगा पाती,
दृढ़-निश्चय से सोतों को उठा पाती,
तो फिर वटवृक्ष सी लहरा जाती।

16 comments :

  1. It blows my heart Soo deep and touching.

    ReplyDelete
  2. जीवन की सच्चाई बयां करती कविता, बहुत ही अच्छी है मैडम

    ReplyDelete
  3. No words to express how beautifully mam u have expressed and put the mind full of thought in words.

    ReplyDelete
  4. अति सुंदर रचना!

    ReplyDelete
  5. सुंदर अभिव्यक्ति जो सटीक भी और एक लड़की से युवती और फिर विवाहिता की जीवन यात्रा को भारतीय परिवेश में चित्रित करती है। यह तभी संभव हो पाता है जब संवेदनाएं जीवंत रह पाईं हो। प्रशंसनीय प्रयास।

    ReplyDelete
  6. Great composition mam...
    Congratulations...👍

    ReplyDelete
  7. So real and heart touching and I think I know that girl ☺👏👏

    ReplyDelete
  8. दिल को छूँ लेने वाली सुंदर पंक्तियाँ 👌👌👌👌👌👌
    ढेर सारी शुभकामनायों और आपकी नयी रचना की प्रतीक्षा🙏🙏🙏

    ReplyDelete
  9. दिल को छूँ लेने वाली बहुत ही सुंदर पंक्तियाँ👌👌👌👌👌👌👌
    ढेर सारी शुभकामनाये और आपकी नयी रचना की प्रतीक्षा में
    अल्पा🙏🙏🙏🙏🙏🙏

    ReplyDelete
  10. दिल को छूँ लेने वाली बहुत ही सुंदर पंक्तियाँ👌👌👌👌👌👌👌
    ढेर सारी शुभकामनाये और आपकी नयी रचना की प्रतीक्षा में
    अल्पा🙏🙏🙏🙏🙏🙏

    ReplyDelete
  11. Very nice poem, truly depicts the middle class stereo typed life style, heartiest Congratulations
    Padma

    ReplyDelete
  12. शब्दों का सुन्दर चयन।मार्मिक,संवेदनशील है,एक बालिका और एक वधू का वर्णन ,बधाई।

    ReplyDelete
  13. शब्दों का सुन्दर चयन।मार्मिक,संवेदनशील है,एक बालिका और एक वधू का वर्णन ,बधाई।

    ReplyDelete

We welcome your comments related to the article and the topic being discussed. We expect the comments to be courteous, and respectful of the author and other commenters. Setu reserves the right to moderate, remove or reject comments that contain foul language, insult, hatred, personal information or indicate bad intention. The views expressed in comments reflect those of the commenter, not the official views of the Setu editorial board. प्रकाशित रचना से सम्बंधित शालीन सम्वाद का स्वागत है।