कहानी: टाउनहाल

दीपक शर्मा

- दीपक शर्मा


दो वर्ष पहले की मेरी जनहित याचिका पर प्रदेश के उच्च न्यायालय ने आज अपना निर्णय सुना दिया है : हमारे कस्बापुर की नगरपालिका को प्रदेश के पर्यटन विभाग के साथ किए गए अपने उस समझौते को रद्द करना होगा जिस के अंतर्गत हमारे टाउनहाल को एक ‘हेरिटेज होटल’ में बदल दिया जाना था।
मुझ से पूछा जा रहा है कि अठहत्तर वर्ष की अपनी इस पक्की उम्र के बावजूद नगरपालिका जैसी बड़ी संस्था को चुनौती देने की हिम्मत मैंने कैसे जुटा ली।
और इस प्रश्न के उत्तर में मैं वह प्रसंग दोहरा देता हूँ जब मेरे पिता ने इसी टाउनहाल को बचाने हेतु अपने प्राण हथेली पर रख दिए थे।
सन् 1942 की अगस्त क्रान्ति के समय।
सभी जानते हैं द्वितीय महायुद्ध में काँग्रेस से पूर्ण सहयोग प्राप्त करने हेतु मार्च 1942 में ब्रिटिश सरकार के स्टैफ़र्ड क्रिप्स की अगुवाई में आए शिष्टमंडल के प्रस्ताव के विरोध में 8 अगस्त 1942 के दिन काँग्रेस कमेटी ने ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ की जब घोषणा की थी और अगले ही दिन जब पुणे में गांधीजी को हिरासत में ले लिया था। तो गांधी जी के समर्थन में देश भर की सड़कें ‘भारत छोड़ो’ और ‘करो या मरो’ के नारों से गूंजने लगी थी। बल्कि कहीं-कहीं तो समुत्साह में बह कर लोग बाग सरकारी इमारतों को आग के हवाले करने लगे थे। बिजली की तारें काटने लगे थे, परिवहन एवं संचार के साधन ध्वस्त करने लगे थे।
देश के अन्य शहरों के सदृश हमारे कस्बापुर निवासी भी काँग्रेस के झंडे ले कर सड़कों पर उतर लिए थे। कुछ उपद्रवी तो कुछ सभ्य।
कुछ का गन्तव्य स्थान यदि कलेक्ट्रेट रहा करता तो बहुधा का हमारा यह टाउनहाल।
कारण, यह ब्रिटिश आधिपत्य का ज्यादा बड़ा प्रतीक था। एक तो उन दिनों इस का नाम ही विक्टोरिया मेमोरियल हाल था, दूसरे उसके अग्रभाग के ठीक बीचोबीच रानी विक्टोरिया की एक विशाल मूर्ति स्थापित थी। सैण्डस्टोन, बलुआ पत्थर, में घड़ी, जिस के दोनों हाथ एक बटूए पर टिके थे। वास्तव में इस टाउनहाल के गठन की योजना इंग्लैण्ड की तत्कालीन रानी विक्टोरिया के डायमंड जुबली वाले वर्ष 1857 में बनी थी। जब उस के राज्याभिषेक के 60 वर्ष पूरे हुए थे। और 1911 में जब एक यह पूरा बन कर तैयार हुआ था तो विक्टोरिया की मृत्यु हो चुकी थी। सन् 1901 में। अत: बना विक्टोरिया मेमोरियल हाल।
उस दिन उस जुलूस में सब से पहले रानी विक्टोरिया की इसी मूर्ति पर हमला बोला था उस के बटुए पर ढेलेबाज़ी शुरू करते हुए।
टाउनहाल के अपने दफ़्तर में बैठे मेयर ने तत्काल उस जुलूस को वहाँ से हटाने के लिए अपने साथ तैनात पुलिस रक्षादल को उस के प्रदर्शनकारियों पर लाठी चार्ज का आदेश दे डाला था।
परिणाम विपरीत रहा था। जुलूसियों के हाथ के ढेले मूर्ति छोड़ सीधे टाउनहाल की खिड़कियों पर लक्षित किये जाने लगे थे।
मेरे पिता उन दिनों टाउनहाल ही में काम करते थे। वहाँ के पुस्तकालय में। उस की दूसरी मंज़िल पर। जिस की एक बालकनी टाउनहाल के मुख्य द्वार के ऐन ऊपर बनी हुई थी।
बेकाबू हो रही भीड़ के विकट इरादे देख कर वे उसी बालकनी पर आन खड़े हुए थे। यदृच्छया ढेले फेंक रही क्रुध्द एवं उत्तेजित भीड़ को संबोधित करने। टाउनहाल के पब्लिक ऐड्रस, पी. ए., सिस्टम की सुविधा का लाभ उठाते हुए। वह सिस्टम लोक भाषण एवं राजकीय अभिनंदन तथा जनहित घोषणाएँ करने हेतु उपयोग में लाया जाता था। यहाँ यह बताता चलूँ कि हमारे इस टाउनहाल में उस समय न केवल नगर-विषयक काम काज के दफ्तर थे मगर नगर के मतदान एवं महत्त्वपूर्ण परीक्षाएँ भी वहीँ निष्पन्न की जाती थी। आपदा एवं विपत्ति तथा टीके-एवं स्वास्थ्य संबंधी घोषणाएँ भी वहीँ से जारी होती थी।
विश्वयुद्ध में हताहत एवं मृत व्यक्तियों की सूचियाँ भी।
और ये घोषणाएँ अकसर मेरे पिता द्वारा की जाती थी। स्वर संगति में पारंगत वे प्रभावोत्पादक एवं भावपूर्ण आवाज के स्वामी थे। जिस का प्रयोग करना वे बखूबी जानते थे।
“मैं आपका एक भाई बोल रहा हूँ”, बिना किसी पूर्वाज्ञा अथक पूर्व सूचना के प्रतिकूल उस वातावरण में अकस्मात जब उनकी आवाज गूंजी थी तो सभी अप्रतिम हो उन्हें सुनने लगे थे, पुलिसियों और जुलुसियों के हाथ एक साथ रुक लिए थे। “आप ही की तरह गांधीजी का भक्त मैं भी हूँ। जिन का रास्ता अहिंसा का है, अराजकता का नहीं, सविनय अवज्ञा, सहयोग का है, आक्रामक, कार्यकलाप का नहीं। हमें ‘चौरीचारा’ यहाँ दोहराना नहीं चाहिए। याद रखना चाहिए 5 फरवरी, 1922 को जब यहाँ के पुलिस थाने पर हमारे भाईयों ने हिंसा दिखायी थी तो हमारे बापू को 5 दिन का उपवास रखना पड़ा था। क्या आप चाहते हैं बापू को उपवास पर फिर जाना पड़े? जब कि आज वे अधिक वृध्द हैं। शारीरिक रूप से भी अधिक क्षीण। और फिर यह भी सोचिए, मेरे भाईयों और बहनों, यह टाउनहाल एक लोक-निकाय है, हमारे लोक-जीवन की जनोपयोगी सेवाओं का केन्द्र। यह हमारा है। इस के ये गोल गुम्बद, ये चमकीले कलश ये मेहराबदार छतरियाँ, ये घंटाघर और इस की ये चारों घड़ियाँ हमारी हैं। यह सब हमारा है। हम इन्हें क्यों तोड़े-फोड़े? क्यों हानि पहुँचाएँ? यह अंगरेज़ों का नहीं। उन्हें तो भारत छोड़ना ही है। आज नहीं, तो कल, कल नहीं तो परसों...”
जभी मेरे पिता के हाथ के माइक्रोफोन का संबंध पी. ए. सिस्टम से टूट गया।
किंतु वे तनिक न घबराए। यह जानते हुए भी कि ब्रिटिश सरकार अब उन्हें सेवामुक्त कर देगी।
शान्त एवं धीर भाव से उन्होंने अपने हाथ का माइक्रोफोन बालकनी के जंगले पर टिकाया और हाथ ऊपर उठा कर चिल्लाएँ। ‘महात्मा गाँधी की जय।’
पुलिसियों ने भी अपनी लाठियाँ समेटीं और विघटित हो रही भीड़ को टाउनहाल छोड़ते हुए देखने लगे।
मेरे पिता मुस्कुराए थे। मानो उन्हें कोई खज़ाना मिल गया हो। उनका टाउनहाल अक्षुण्ण था और बचा रहा था वह संग्रहालय, जिस में शहर के ऐतिहासिक स्मारकों एवं विशिष्ट व्यक्तियों के चित्र एवं विवरण धरे थे। बची रही थीं, पुस्तकालय की दुर्लभ वे पुस्तकें जिन में संसार भर की विद्वत्ता जमा थी। और जिनका रस वे पिछले पन्द्रह वर्षों से लगातार लेते रहे थे।

No comments :

Post a Comment

We welcome your comments related to the article and the topic being discussed. We expect the comments to be courteous, and respectful of the author and other commenters. Setu reserves the right to moderate, remove or reject comments that contain foul language, insult, hatred, personal information or indicate bad intention. The views expressed in comments reflect those of the commenter, not the official views of the Setu editorial board. प्रकाशित रचना से सम्बंधित शालीन सम्वाद का स्वागत है।