कहानी: कलेजे का टुकड़ा

दीपक शर्मा

- दीपक शर्मा

आपने कहा, आपने कस्बापुर से मैट्रिक पास की?
सन् सत्तर में?
मिनर्वा हाई स्कूल से? बावन साल पहले कस्बापुर में वही एक हाईस्कूल रहा...
तेजपाल भंडारी याद है आपको?
आपने उनसे भूगोल पढ़ा होगा?
रेखांकन में उनका हाथ बहुत साफ था ... आज की ज़ीरॉक्सिंग सुविधाएँ तब थीं भी कहाँ? सभी कुछ वह हाथ से बनाया करते...पहाड़, नदी, समुद्र, घाटी, मैदान के रेखा-चित्र... जलवायु, वर्षाजल, चतुर्दिक, भूस्खलन, ज्वालामुखी के मान-चित्र...फिर भूगोल, तो आप जानते हैं, ऐसा विषय है, जिसमें माप और रूप की शत-प्रतिशत सही जानकारी होनी अनिवार्य है और कोई भी अध्यापक केवल अपनी वर्णन-शक्ति अथवा स्मृति पर आश्रित नहीं रह सकता... उनके निवास-स्थान पर कभी गए थे आप?
पुरानी ड्योढ़ी का नाम आपने सुना होगा? उसके मालिक लाला टेकचंद को भी जानते रहें होंगे? जिन्हें खस्ताहाल इमारतें खरीदने की खब्त रही। जिस खब्त ने बाद में उन्हें कस्बापुर का सबसे बड़ा रईस भी बनाया। सुनते हैं, लारेंस गार्डन की एक पुरानी कोठी ने तो उन्हें सौ गुणे से भी ज्यादा लाभ पहुँचाया था। उसके लिए उन्होंने जेब से केवल चौदह हज़ार और सात सौ निकाले थे, लेकिन तैंतीस साल बाद जब वह बिकी तो उनकी जेब के लिए तेइस लाख पैदा कर गई... खैर, इस समय तो हम तेजपाल भंडारी की बात कर रहे हैं, जो पुरानी ड्योढ़ी की छत के एकल कमरे में रहते थे।
उस दिन इतवार था।
इतवार की दोपहर वे अक्सर लारेंस गार्डन में बिताया करते। हाकी देखने का उन्हें बहुत शौक रहा और उन दिनों वहाँ जमकर हाकी खेली जाती थी...
उस इतवार को एक खिलाड़ी ज्यादा चोट खा गया और खेल एक घंटा पहले बंद कर दिया गया।
अनमने से जब वे घर पहुँचे तो घर का दरवाजा खुला था और लड़का अपने साथियों के साथ पतंग उड़ा रहा था...
सभी उनके पटरे पर खड़े थे। 
“तुम्हारी माँ कहाँ है?” लड़के और उसके हूश साथियों से वे सीधा मुकाबला न किया करते।
“कपड़े धो रही है,” लड़का जानता था, जिस पटरे पर वह अपनी धमा-चैकड़ी जमाए था, वह पटरा तेजपाल भंडारी अपनी जेब से लाए थे और उस पर कूद-फांद उन्हें सख्त नापसन्द थी, लेकिन उन दिनों लड़का उन्हें मात देने में स्वाद लेने लगा था... उनके एकतंत्रीय संचालन से निकल कर स्वतंत्रता की ओर अग्रसर हो रहा था। वे हवा के रुख में चलते तो लड़का हवा के खिलाफ चलने लगता और विपर्यय से यदि वे हवा के खिलाफ चलने लगते तो लड़का हवा के संग हो लेता। 
“तूने उन्हें रोका नहीं?” लड़के की माँ पाखाने वाली फांट पर बनी छत-कैंची के नीचे स्थित हैंड-पम्प पर कपड़े धो रही थी। इधर-उधर बिखरी हुई तमाम ईंटों में से कुछ कामचलाऊ ईंटों को एक-दूसरे पर टिका कर तेजपाल भंडारी ने कैंची की छत को दीवारें दे रखी थीं और मुफ्त का अपना गुसलखाना निकाल लिया था। “रोका नहीं उन्हें? कितनी बार-कहा है तुझे? उन्हें सीढि़यों से नीचे लौटा दिया कर, बोला कर इधर खतरा है, छत कमजोर है, मुंडेर कमजोर है, पटरा कमजोर है...”
“आप बेवजह डरते रहते हैं,“ लड़के की देखा-देखी, उन दिनों, लड़के की माँ भी शेर हो रही थी,“शुक्र नहीं मानते उसके संग खेलने को उसके पास उसके साथी उसके घर पर आते हैं....”
“बक मत,“ वे अड़ गए,“जा। जाकर बोल उन्हें। नीचे आंगन में पतंग उड़ाएँ, यहाँ नहीं...”
“आप लोग नीचे जाओ,” गिनती के दो डग भर कर दुष्टा चिल्लाई,“नीचे...”
“सवार पतंग को कैसे नीचे उतारेंगे, चाची जी?” झुण्ड में से कोई एक बोला,“अभी पेंच लगा जा रहा है...”
छतीसी पत्थर की मूरत बनकर वहीं खड़ी हो गई।
पतंगबाज़ी की पुलकी से तेजपाल भंडारी निपट अजान रहे थे। अभी वे बच्चे ही थे, जब उनके पिता ने अपना साया उनके सिर से उठा लिया था। दूसरा ब्याह रचाकर। फलस्वरूप उनका पूरा बचपन अपनी माँ और दोनों बहनों का हाथ बँटाने में बीता था। माँ उड़द की दाल की बड़ी और पापड़ तैयार करती और बहनें पुराने कागज के टुकड़ों के लिफ़ाफ़े। हट्टी-हट्टी जाकर कभी वे लिफ़ाफ़े बेचते तो कभी बड़ी और पापड़...
 “यहाँ पत्थर की मूरत बनकर खड़ी हो गई हो?” उनसे बरदाश्त होते न बना और वे छतीसी पर झपट लिए,“आगे बढ़कर उन्हें रोकती क्यों नहीं? नीचे भेजती क्यों नहीं?”
“चलो बच्चो,“ छतीसी तीन डग भर कर फिर खड़ी हो ली। तीन-चार चपतें खाना उसके लिए मामूली खुराक रही,“ आज जाने दो। फिर कभी आना...”
“ लीजिए चाची जी?“ लड़के को छोड़कर झुंड चिरौरी करने लगा, “हमारी पतंग तो अब पेच में बंध गई है। अब हमें कुछ न कहिए। बस, उस पतंग को काट लेने दीजिए...”
छतीसी तुरन्त लौट आई,“अब रहने भी दीजिए। पटरा आप का बहुत मजबूत है, टूटेगा नहीं...”
“बकती है !” उनका हाथ फिर उठ गया,“फिर बकती है ! जा, जाकर उन्हें नीचे भेजकर आ...”
“पटरे से हट जाओ, भाई,” तभी लड़के ने अपनी आवाज बुलन्द की और पटरा छोड़कर छत के खाली खुले सहन में आन खड़ा हुआ। 
तेजपाल भंडारी के दिल की धड़कन रूक गई। 
नीचे के कई कमरों के विशीर्ण होने के कारण छत का सहन जगह-जगह से दरका हुआ था। लाला टेकचंद ने सन् सैंतालीस में पैंतीस कमरों वाली यह ड्योड़ी जब इसके पुराने मालिक से खरीदी थी तो इसके केवल ग्यारह कमरे ही ढिलाई की अवस्था में रहे थे, मगर सन सत्तर के उन दिनों तक आते-आते उसमें गिनती के नौ कमरे ही सलामत बच पाए थे। आठ नीचे और एक ऊपर।
“जा,” तेजपाल भंडारी ने लड़के की माँ को सहन की दिशा में ढकेला,“मूर्ख को इधर बुला ला। बोल उसे, मौत को यों आवाज न दे, होश में रहे...”
“आओ,“ लड़का दोबारा चिल्लाया,“इधर सहन पर आ जाओ। पटरा खाली कर दो...”
“डोर साधने की तैयारी करो,“ उनकी बेचैनी से बेखबर पतंग वाले हाथ ने पतंग और ऊँची उछाल दी,“पेंच अच्छा बंधा है। उन गधों की पतंग सीधी इधर आ रही है।”
“सचमुच क्या?“ झुंड का झुंड पटरे पर उछलने लगा। एकाएक उनकी नजर लड़के की ओर चली गई और वहीं जा जमी। 
लड़का झुंड के क्रीड़ा-कौतुक से एकदम बाहर आ चुका था। उसने हाथ में एक साबुत ईंट पकड़ रखी थी और वह निशाना बांध रहा था। उन पर।
मूर्ख को उन्होंने अपने मुँह का निवाला खिलाया था, चिट्टी सफेद कमीजें पहनाई थीं, मोटे सूत की निक्करें लेकर दी थीं, हाथ में उसके आज रबड़ की गेंद रखी थी तो अगले दिन लकड़ी का तोता।
लपक कर वह एक तरफ हो लिए।
लड़के का निशाना चूक गया और उनके सामने चट्टान की तरह खड़ी उस ढीठ के सिर पर जा लगा। तत्क्षण अभागी के सिर से लहू फूट निकला और वह जमीन पर ढेर हो गई।
झुंड में से किसने लड़के की कौन-सी हरकत देखी और कौन-सी नहीं, तेजपाल भंडारी कभी जान न पाए। हाँ, इतना ध्यान उन्हें जरूर है, सीढि़यों से जब वे नीचे की ओर सरपट भाग रहे थे तो झुंड में से कोई एक बोला था,“चाची जी मर रही हैं... चाचा जी शायद डाक्टर लिवाने जा रहे हैं...”
अभागी की मृत्यु अस्पताल में हुई। घटना के चार घंटे बाद।
लड़का बहुत रोया। बिलख-बिलख कर रोया। मगर तेजपाल भंडारी अपने कोने में बराबर बने रहे। आगे बढ़कर उन्होंने उसे अपने गले न लगाया। न ही उसे शांत करने के लिए अपने मुँह से ही कुछ उचारा। लड़के से वे डर गए थे। बुरी तरह डर गये थे। 
दाह-संस्कार खत्म होते ही लड़के को उन्होंने उसकी नानी के सुपुर्द कर दिया,“मातृतंत्र में लड़के ने तेरह साल बिताए हैं। मातृप्रेम का भरपूर लाभ तथा स्वाद उठाया है। मातृवत् देख-रेख देने में मुझसे ज्यादा आप समर्थ रहेंगी। अलबत्ता इसकी पढ़ाई का पूरा खर्च मैं उठाऊंगा। इसकी जरूरत का बाकी सारा सामान भी मैं खरीदूंगा। बस, मातृसुलभ अपनी छाया में आप इसे शरण दे दीजिए...” लड़के के साथ अकेले में उनकी मुठभेड़ फिर कभी न हुई। उसके बाद वह जब भी उनसे मिला, अपनी आँख नीची करके ही मिला।
दूसरी पत्नी के साथ अपना दाम्पत्य उन्होंने कस्बापुर में नहीं बिताया।
अपने दूसरे विवाह से पहले ही उन्होंने मिनर्वा हाई स्कूल की नौकरी छोड़ दी। लखनऊ के एक भौगोलिक संस्थान में क्लर्की शुरू कर ली। 
- लखनऊ कभी नहीं आते आप?
- क्यों? क्या आप निकल रहे है? अभी निकलेंगे क्या?
- बिल्कुल अभी!
- क्या?

No comments :

Post a Comment

We welcome your comments related to the article and the topic being discussed. We expect the comments to be courteous, and respectful of the author and other commenters. Setu reserves the right to moderate, remove or reject comments that contain foul language, insult, hatred, personal information or indicate bad intention. The views expressed in comments reflect those of the commenter, not the official views of the Setu editorial board. प्रकाशित रचना से सम्बंधित शालीन सम्वाद का स्वागत है।