शशि पाधा

कवि और गीतकार, शशि पाधा की रचनाओं का मूल स्वर प्रेम, सम्वेदना और देशप्रेम का है। वे हिन्दी में नियमित कविता, गीत, दोहे, हाइकु, लिखती रही हैं। मूलतः जम्मू की निवासी शशि जी की अब तक तीन पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। उनके हिंदी काव्य संग्रह "अनन्त की ओर" को हिंदीतर भाषी पुरस्कार मिल चुका है। अपने परिवार के साथ लम्बे समय से अमेरिका में रहते हुए भी वे हिन्दी की सेवा में तत्पर हैं। वे नार्थ केरोलाईना विश्वविद्यालय में हिन्दी अध्यापन भी कर चुकी हैं।

"सर्वप्रथम भावों अनुभावों के साथ जूझती हूँ। कविता, गीत उसके बाद कागज़ पर उतरता है कम शब्दों में कहूँ तो कविता मेरी साँसें हैं, बचपन से ही घर का माहौल साहित्यिक था,  जिस कारण मुझे भी अपने भाव को अभिव्यक्त करने का मौका मिला।"
                                                                              -शशि पाधा

शिक्षा: एमए (हिन्दी), एमए (संस्कृत), बीएड

पुरस्कार:
  • सितार वादन प्रतियोगिता में राज्य का प्रथम पुरस्कार
  • जम्मू विश्वविद्यालय से "ऑल राउंड बेस्ट वीमेन ग्रेजुयेट" का सम्मान
  • काव्य संग्रह "अनन्त की ओर" को हिंदीतर भाषी पुरस्कार
सम्प्रति:

  • लगभग १६ वर्ष तक भारत में हिन्दी तथा संस्कृत भाषा का अध्यापन
  • चैपल हिल विश्वविद्यालय (नार्थ केरोलाइना) में हिन्दी भाषा का अध्यापन।
  • आकाशवाणी जम्मू के नाटक, परिचर्चा, वाद विवाद, काव्य पाठ आदि विभिन्न कार्यक्रमों में भाग


प्रकाशन:

  • शौर्य गाथाएं, पहली किरण, मानस मंथन, अनन्त की ओर
  • सैनिकों के शौर्य एवं बलिदान से अभिभूत हो अनेक रचनाएँ विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित एवं संगीतबद्ध।


सम्पर्क: shashipadha@gmail.com

Authors A-Z
लेखक वृंद