डॉ. पुनीत बिसारिया

डॉ पुनीत बिसारिया भारतीय उच्च अध्ययन संस्थान, शिमला के एसोशिएट फेलो हैं. वर्तमान समय में आप बुंदेलखंड विश्वविद्यालय, झाँसी में हिन्दी विभाग में एसोसिएट प्रोफ़ेसर के पद पर कार्यरत हैं.

नए एवं विचारोत्तेजक विषयों पर लेखन उनकी विशेषता है. ‘वेदबुक से फेसबुक तक स्त्री’, भारतीय सिनेमा का सफरनामा, बौद्ध धर्म :नयी सदी-नयी दृष्टि, जिन्ना का सच, शोध कैसे करें, युवाओं की दृष्टि में गाँधी, भोजपुरी विमर्श, पण्डित मदनमोहन मालवीय, अम्बेडकर की अंतर्वेदना, हिन्दी पत्रकारिता:कल आज और कल, भारतीय संविधान के निर्माता, सहृदय न्यायमूर्ति, विष्णु के दशावतार रूप, बीरबल साहनी, पर्यावरण चिन्तन उनकी प्रमुख पुस्तकें हैं.

आप जनकृति, वाग्प्रवाह और युगशिल्पी के कार्यकारी संपादक हैं तथा सेतु के सम्पादन मण्डल के सदस्य हैं,

सम्पर्क: साहित्य-संस्कृति, 8 राधा एन्क्लेव, टाटा मोटर्स के पीछे, इलाइट चौराहा, ललितपुर, उत्तर प्रदेश 284403
मोबाइल: 09450037871
ईमेल: puneetbisaria8@gmail.com तथा puneetdeep@yahoo.co.in