राजेश उत्‍साही

परिचय

मध्‍यप्रदेश की अग्रणी शैक्षिक संस्था एकलव्य में 1982 से 2008 तक कार्य। संस्‍था की बाल विज्ञान पत्रिका चकमक का 17 साल तक सम्‍पादन। संस्‍था की अन्‍य पत्रिकाओं में सम्‍पादन तथा प्रबन्‍धन सहयोग। एकलव्‍य के प्रकाशन कार्यक्रम में योगदान।

मप्र शिक्षा विभाग की पत्रिका गुल्‍लक तथा पलाश का सम्‍पादन। नालन्‍दा,रुम टू रीड तथा मप्रशिक्षा विभाग के लिए बच्‍चों के लिए साहित्‍य निमार्ण कार्यशालाओं में स्रोतव्‍यक्ति। कविताएँ, कहानी, व्‍यंग्‍य लेखन खासकर बच्‍चों के लिए साहित्‍य निमार्ण, सम्‍पादन तथा समीक्षा में गहरी रुचि। रूम टू रीड से पाँच बाल कविता पोस्‍टर तथा अन्‍य किताबें प्रकाशित। एक कविता संग्रह ‘वह, जो शेष है ...’ प्रका‍शित।

आजकल बेंगलुरु में अज़ीम प्रेमजी फाउण्‍डेशन के शिक्षक पोर्टल टीचर्स ऑफ इंडिया में हिन्‍दी सम्‍पादक। लर्निंग कर्व के हिन्‍दी संस्‍करण का सम्‍पादन। विद्याभवन सोसायटी, उदयपुर तथा अज़ीमप्रेमजी विश्‍वविद्यालय की संयुक्‍त शैक्षिक पत्रिका ‘खोजें और जानें’ की सम्‍पादकीय टीम के सदस्‍य रहे हैं।

सम्‍पर्क: