पुस्तक समीक्षा: हिंदी भाषा के अध्येताओं के लिए गूगल

समीक्षक: ज्योति मुंगल ‘ज्योतिप्रकाश’ 

(सहायक प्राध्यापिका, यशवंत महाविद्यालय, नांदेड़)

ग्रंथ: हिंदी भाषा में रोजगार के अवसर
लेखक: प्रा. विकास पाटील
प्रकाशक - प्रधानाचार्य, आर्टस एंड कॉमर्स कॉलेज, आष्टा
मूल्य - ₹ 350 रुपये
पृष्ठ - 151

विश्वस्तर पर आज हिंदी तीसरे स्थान पर है। ऐसे में विश्वबाजार में जीवनयापन की दृष्टि से यह एक महत्त्वपूर्ण भाषा बन गई है। निश्चित ही हिंदी भाषा और उससे जुड़े रोजगार की अनगिनत संभावनाएँ भविष्य में उभरते हुए दिखाई देगी। वर्तमान में जहाँ युवा बेरोजगारी की समस्या से जूझ रहा है वहाँ हिंदी क्षेत्र में अनंत रोजगार प्राप्ति की विस्तार से जानकारी देनेवाला एकमात्र ग्रंथ ‘‘हिंदी भाषा में रोजगार के अवसर’’ ए.बी.एस. पब्लिकेशन के द्वारा सन 2019 में मुद्रित हुआ है जिसके प्रकाशक प्रधानाचार्य, आर्टस एंड कॉमर्स कॉलेज, आष्टा है। लेखक प्रा. विकास पाटील ने अपने सूक्ष्म अध्ययन से हिंदी भाषा पढ़नेवाले छात्रों, जानकारों का केवल पथप्रदर्शन ही नहीं किया बल्कि देश की युवा पीढ़ी को निश्चित दिशा देने में अपना महत्त्वपूर्ण योगदान दिया है।

‘हिंदी भाषा में रोजगार के अवसर’ शीर्षक के अनुरूप ही इस ग्रंथ के मुखपृष्ठ पर विभिन्न क्षेत्रों, यथा भारतीय रेल सेवा, कर्मचारी चयन आयोग, आयबीपीएस आदि से जुड़े चिन्ह (लोगो) छपे हैं। इन चित्रों के माध्यम से लेखक ने पाठक की ओर एक प्रकार से संकेत किया है कि आप किसी भी क्षेत्र में जा सकते है और हिंदी द्वारा रोजगार प्राप्त कर सकते हैं।
ग्रंथ में लेखक का सचित्र विस्तृत परिचय समाहित है। ग्रंथ की अनुक्रमणिका सत्ताइस शीर्षकों में विभाजित है। शीर्षक और उपशीर्षक में लगभग सभी ऐसे क्षेत्र समाहित है जहाँ हिंदी के माध्यम से रोजगार पाया जा सके। अनुक्रम को पढ़ते ही हिंदी से जुड़ी उन राष्ट्रीय संस्थाओं का पता लगता है, जहाँ शिक्षा के साथ-साथ रोजगार के अवसर उपलब्ध हैं। पाठक को जिस क्षेत्र के रोजगार में रूचि है वह अनुक्रमणिका के माध्यम से उस शीर्षक के सामने दी गई पृष्ठ संख्या पर जाकर सीधे उसी क्षेत्र की त्वरित जानकारी पा सकता है।

भूमिका में लेखक ने इस ग्रंथ का उद्देश्य स्पष्ट करते हुए लिखा है, ‘‘शिक्षित युवक का पहला सपना होता है रोजगार प्राप्त करना। उसके लिए वह जी तोड़ परिश्रम करता है। उच्च शिक्षा अर्जित करके मनचाहे उचित पद के प्राप्ति के लिए विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी करता है। वैसे भारतीय बुद्धिमत्ता को विश्व ने स्वीकारा है। पर केवल बुद्धिमान होकर उचित लक्ष्य तक पहुँचना आसान नहीं होता इसलिए बुद्धिमानी के साथ कुशल मार्गदर्शन होना अनिवार्य है। छात्रों के पास बुद्धि और मेहनत करने का जज्बा होता है लेकिन कमी सिर्फ सुयोग्य मार्गदर्शन की रहती है।’’ इस ग्रंथ का निर्माण कर यह कमी भी दूर करने का कार्य प्रा. विकास पाटील जी ने किया है यह कहना अधिक सटीक होगा।

सरकारी, अर्धसरकारी, निजी व्यवसाय, बड़े उद्योग, पत्रकारिता, पर्यटन, खेल, टेलीविजन, आकाशवाणी, साहित्य, संगीत आदि सभी क्षेत्र में हिंदी भाषा में रोजगार के अवसर प्राप्त करने की दिशा में लेखक ने आवश्यक जानकारी का विस्तृत वर्णन किया है। हिंदी से जुड़े रोजगार पर अबतक कुछ ही किताबें प्रकाशित हैं। कुछ पुस्तकों में रोजगार की दिशाओं के आंशिक संदर्भ हैं परंतु उन्हें प्राप्त करने से संबंधित आवश्यक बातों का विस्तार किसी भी ग्रंथ में नहीं है। अतः यह एकमात्र ग्रंथ ऐसा है जिसमें सभी क्षेत्र में पाए जानेवाले विभिन्न स्तर के रोजगारों की जानकारी इतने विस्तार से देते हुए जिज्ञासु पाठकों के मन में आनेवाले सभी प्रश्नों के उत्तर बड़ी सहजता से दिए है। जैसे, रोजगार के अवसर  कहाँ-कहाँ मिलते हैं? कार्य का स्वरूप क्या होगा? वेतनश्रेणी क्या होगी? रोजगार पाने के लिए उससे संबंधित विज्ञापन कैसे प्राप्त होंगे? यदि रोजगार सरकारी क्षेत्र में है तो चयन का स्वरूप् क्या होगा? परीक्षा द्वारा चयन होगा तो उसका पाठ्यक्रम क्या होगा? उसकी तैयारी किस प्रकार की जा सकती है? आवश्यक सामग्री को कैसे प्राप्त करना है? परीक्षा का अंक विभाजन कितना होगा? परीक्षा से संबंधित विज्ञापन, वेबसाईट कहाँ मिलेंगे और परीक्षा के लिए कौन-कौनसा व्यावहारिक ज्ञान आवश्यक है? साथ ही पदोन्नति किस प्रकार होगी? एक ही क्षेत्र में पद के विविध स्तर किस प्रकार निश्चित होते हैं? आदि।

अनुवाद की व्यापकता को ध्यान में रखते हुए उसके माध्यम से सरकारी, अर्धसरकारी ओर घर बैठकर किये जाने वाले रोजगार से संबंधित सभी आवश्यक बातों की चर्चा लेखक ने की है। अनुवाद द्वारा साहित्य, जनसंचार, प्रिंट मीडिया, पर्यटन, फिल्म जगत, समाचार, शिक्षा, क्रीड़ा, विज्ञापन, धार्मिक, सांस्कृतिक, राष्ट्रीयकृत बैंक तथा बहुराष्ट्रीय कंपनियों के क्षेत्र में अनुवादक के रूप में कार्य करने से संबंधित जानकारी देते हुए लेखक ने अनुवाद के क्षेत्र में वरिष्ठ अनुवादक, कनिष्ठ अनुवादक, आशु अनुवादक आदि जैसे पदों के अवसर को स्पष्ट करते हुए विस्तार से चर्चा की है।

हिंदी में रोजगार की दिशाओं का विश्लेषण करते हुए लेखक ने संसद से सड़क तक सभी के लिए रोजगार बताते हुए संसद में वरिष्ठ अधिकारी पद से लेकर सामान्य और आसानी से पाए जानेवाले रोजगार के बारे में बताते हुए इस बात का विशेष ध्यान रखा है कि हिंदी भाषा में विशेष शैक्षिक योग्यता और प्रतिभा रखनेवाले हिंदी प्रेमी या अध्ययनकर्ता को उसकी योग्यता के अनुसार रोजगार प्राप्त हो और हिंदी में जिन छात्रों ने सामान्य योग्यता प्राप्त की है वे भी अपनी-अपनी योग्यता और क्षमतानुसार हिंदी में रोजगार प्राप्त कर कुशलता से अपना कार्य कर सके। इससे यह विदित होता है कि लेखक ने केवल चंद ग्रंथों में प्रकाशित जानकारी को उठाकर उसे ग्रंथाकार नहीं दिया है बल्कि वर्तमान समय के सभी क्षेत्रों का प्रत्यक्ष अध्ययन कर उसमें हिंदी से रोजगार के अवसर कहाँ-कहाँ है यह देख-परखकर उससे संबंधित आवश्यक जानकारी का संकलन कर उसको एक निश्चित क्रम देकर पाठकों के लिए किसी भी रोजगार की जानकारी को ग्रहण करना आसान बना दिया है। यह करते हुए लेखक ने इस बात का खास ध्यान रखा है कि किसी भी बेरोजगार को इस ग्रंथ में दिए जानकारी से आसानी से रोजगार मिल सकता है क्योंकि इसमें किताबी बातें न होकर प्रत्यक्ष मार्गदर्शन है। एक तरह से यह ग्रंथ हिंदी पाठकों विशेषकर बेरोजगारों के लिए गूगल का काम करेगा।

रोजगार अभिलाषी हिंदी क्षेत्र का हो या अहिंदी क्षेत्र का लेकिन यदि वह हिंदी का अध्ययनकर्ता है तो उसे पूरा अधिकार है कि हिंदी से जुड़े रोजगार की जानकारी उसे मिले। अतः हिंदी के छात्र और अध्यापक दोनों के लिए ‘हिंदी भाषा में रोजगार के अवसर’ अत्यंत उपयुक्त और पठनीय ग्रंथ है। इस ग्रंथ के पठन से पाठकों को प्रत्यक्ष रोजगार पाने के मार्ग आसान होंगे और अन्य बेरोजगारों को मार्गदर्शन करने के लिए भी उपयोगी होगा। समग्र रूप से इस ग्रंथ को पढ़ने के बाद यह कहा जा सकता है कि वर्तमान समय में जहाँ पढ़े-लिखे बेरोज़गार लोगों की संख्या बढ़ रही है वहाँ विकास पाटील जी की कलम ने हिंदी के छात्रों के लिए छात्र जीवन से ही हिंदी के जरिए पैसा और सामाजिक प्रतिष्ठा कमाने और उच्च शिक्षा प्राप्त कर बड़े-बड़े पद को पाने की राह दिखाकर युवा पीढ़ी के हित में ही नहीं तो राष्ट्रहित में अपना योगदान देने का सराहनीय प्रयास किया है।

No comments :

Post a Comment

We welcome your comments related to the article and the topic being discussed. We expect the comments to be courteous, and respectful of the author and other commenters. Setu reserves the right to moderate, remove or reject comments that contain foul language, insult, hatred, personal information or indicate bad intention. The views expressed in comments reflect those of the commenter, not the official views of the Setu editorial board. प्रकाशित रचना से सम्बंधित शालीन सम्वाद का स्वागत है।