पुस्तक समीक्षा - वर्तमान युग के मानव सम्बन्धों का दर्पण: निरीह

समीक्षक: आचार्य नीरज शास्त्री

34/2 गायत्री निवास, लाजपत नगर, एन.एच.-2, मथुरा-281004, चलभाष: +91 925 914 6669


पुस्तक: निरीह (कथा संग्रह)
ISBN: 978.81.943924.4.6
रचनाकार: दिनेश पाठक ‘शशि’
प्रकाशक: जवाहर पुस्तकालय, मथुरा
पृष्ठ: 128, मूल्य: ₹ 250.00 रुपये, प्रकाशन वर्ष: 2019

--------------------------------------------------------------------------
 निरीह’ मानवीय भावों के कुशल चितेरे, शब्दशिल्पी डॉ. दिनेश पाठक 'शशि' का नव प्रकाशित कहानी संग्रह है। इस संग्रह में कुल बाईस कहानियाँ संग्रहीत हैं। ये सभी कहानियाँ आकाशवाणी से प्रसारण को ध्यान में रखते हुए रची गई हैं इसलिए इनका आकार , समय सीमा के अनुरूप है। इन कहानियों में ‘निरीह’शीर्षित कहानी का क्रमांक दस है परन्तु कथा कृति की सभी कहानियों में कहीं न कहीं पात्र निरीहता की स्थिति में अवश्य दृष्टिगोचर होता है। अतः इस कृति का शीर्षक, विषय एवं परिस्थितियों के आधार पर ‘निरीह’ पूर्णतः उपयुक्त है। विद्वान लेखक ने इस कथाकृति को अपने पूज्य पिताश्री की स्मृति को समर्पित किया है जोकि वर्तमान एवं भावी पीढ़ी को संस्कारित बनने की शुभ प्रेरणा है।

इस कहानी संग्रह की सभी कहानियों के पात्र, कहानी के विषय एवं उद्देश्य के सापेक्ष सटीक और पूर्ण औचित्यवान हैं।

पहली कहानी ‘और कितने मोड़’ एक ऐसे बेरोजगार युवक की कहानी है जिसने दहेज के लिए अपनी भाभी के साथ पूरे परिवार की बेरुखी को देखा है और इसीलिए वह फैक्टरी की छोटी नौकरी करते हुए अपनी शादी नहीं करना चाहता। लेखक के शब्दों में देखिए-
‘शादी हुए दस दिन भी नहीं बीते थे कि जाने कहाँ से शोला भड़क उठा। माँ ने भाभी जी की छोटी सी बात को तूल देकर घर में हंगामा खड़ा कर दिया। वह हंगामा छोटी सी उस भूल के कारण उठाया था माँ ने, मैं नहीं मानता। निश्चय ही इसका मूल कारण दहेज कम मिलना था।’’(पृष्ठ-16 )

ऐसी दशा में कहानी के पात्र का मोहभंग हो जाता है और उसे संसार मोहमाया के बन्धनों में बंधा, व्यर्थ और भ्रम लगता है। यथा-
‘कभी-कभी वह स्वतः ही वय की प्याली में दर्दों का कालकूट पीता हुआ सा एकदम सहज हो जाता, खुली आँखों से सब कुछ देखते हुए भी न देखता सा। सांसारिकता से विरक्ति सी होने लगती।’(पृष्ठ-20)

दिनेश पाठक ‘शशि’
दूसरी कहानी ‘लोकतंत्र का दर्द’ में दिखाई देता है कि ग्रामीण क्षेत्र में भी राजनीति, भ्रष्टाचार एवं हिंसा से अछूती नहीं है। वहाँ ईमानदार व्यक्ति बिना प्रचार-प्रसार किए और बिना खर्च किए ही विजयी हो जाता है लेकिन वह षडयंत्रों का शिकार होता है। लेखक ने इसे इस तरह दर्शाया है-
‘अंत में वोटों की गिनती हुई तो नेमसिंह व टेकसिंह आश्चर्यचकित रह गये। बाबूजी रामसिंह ग्राम प्रधान ही नहीं बने बल्कि अपने प्रतिद्वन्द्वियों से काफी अधिक वोटों से विजयी हुए।’ (पृष्ठ-26)

और इसका परिणाम यह हुआ कि-
‘सांझ के अंधेरे में एक चिंगारी उत्पन्न हुई और ठांय की आवाज के साथ ही एक दर्दनाक चीख भी। सड़क पर पड़े बाबूजी के चारों ओर खून का ढेर लग गया।’’(पृष्ठ-26)

कहानी ‘संदेह का दंश’ में , पत्नी के विवाहेतर सम्बन्ध का चित्रण हुआ है। इस कहानी में पत्नी नौकरीशुदा है और वह अपने पति के रहते हुए भी अपने प्रेमी के साथ अपना स्थानान्तरण कराती रहती है जिससे पति स्वयं को ठगा हुआ महसूस करता है। यथा-
‘कुछ दिन बाद मेरा ट्रान्सफर झाँसी से दिल्ली हो गया और उस दिन मुझे सीमा के एक पत्र द्वारा ज्ञात हुआ कि उसका ट्रान्सफर भी दिल्ली हो गया है। मेरी खुशी का ठिकाना न रहा। लेकिन उसके साथ ही ग्रोवर का ट्रान्सफर भी दिल्ली हो गया है, वाली खबर पढ़कर मेरी खुशी आधी रह गई। ’(पृष्ठ-31)


लेखक ने इस कहानी का समापन भी अति विशिष्ट उक्ति के साथ किया है-‘वाह रे तकदीर, कुछ लोग शादीशुदा होकर भी कुँवारे की तरह जीवन बिताते हैं और कुछ कुँवारे रहकर भी....।’ (पृष्ठ-33 )

 ‘टेसू के फूल’ कहानी में लेखक ने स्पष्ट किया है कि पति पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर कई बार विवाहिता पत्नी को अनदेखा करते हैं परन्तु जब पता चलता है कि पत्नी ने स्वयं को उनके अनुकूल बना लिया है तो वे आश्चर्यचकित रह जाते हैं। परन्तु स्वयं पति के अनुकूल बनाने वाली स्त्रियाँ कम ही मिलती हैं। देवेश, शारदा को अपने योग्य नहीं समझता था क्योंकि वह कम पढ़ी-लिखी थी। लेकिन जब शारदा ने उसे समाचार पत्र दिखाते हुए कहा कि मैं बी.ए. में प्रथम श्रेणी में पास हो गई हूँ तो शारदा उसके लिए टेसू के फूल की जगह, सुगन्धित चमेली का फूल हो गई।

संग्रह की अगली कहानी-‘दोहरे मापदण्ड’ में बाबूजी ने जहाँ अपनी जिंदगी को शुद्ध आदर्शों में गुजारा है वहीं वे बेटी को सहशिक्षा में केवल इसलिए पढ़ाना चाहते हैं कि इस तरह वह अपनी पसंद का लड़का देखकर प्रेम विवाह कर ले जिससे दहेज के झंझट से बचा जा सके।

‘आहत’ कहानी में शराबी बारातियों द्वारा की गई  पिटाई से लहूलुहान करीमा जब राय बहादुर से पूछता है-‘अब किसलिए आये हो राय बहादुर साब? अभी कुछ और बाकी है क्या?’ तो राय बहादुर कहते हैं - ‘नहीं करीमा , ऐसा मत कहो। घायल तुम नहीं, हम दोनों हुए हैं, हत दोनों।’ इस प्रकार यहाँ गरीब, अमीर के भेद को नकारते हुए मानव धर्म की पक्षधरता दिखाई गई है।

आचार्य नीरज शास्त्री

 ‘अनुत्तरित’ कहानी, मंहगाई और प्राइवेट नौकरी की चक्की में पिस रहे उन करोड़ो बेरोजगाारों की कहानी है जिनके लिए एक सुनिश्चित भविष्य की व्यवस्था तो करना दूर है ही, वर्तमान जरूरतों की पूर्ति करना भी उनके लिए बहुत मुश्किल होता है।

‘एक दिन तो वह चौंक ही गया जब पत्नी ने फरमाइश की बजाय नम्रता पूर्वक उससे निवेदन किया कि हो सके तो उसके लिए एक साड़ी ला दें। ये वाली काफी घिस चुकी है।’’’(पृष्ठ-47)

कहानी ‘दर्पचूर्ण’ नारी सशक्तीकरण और नारियों के व्यक्तित्व को उभारती हुई कहानी है। ‘सम्बन्ध’  कहानी हिन्दू-मुस्लिम साम्प्रदायिकता से ऊपर उठकर, इंसानियत को सम्बल देती कहानी है।

‘निरीह’ कहानी में पुत्री के विवाह के लिए मजबूर पिता, अपनी दूसरी पुत्री के लिए उसी व्यक्ति के सामने दूसरी पुत्री के विवाह का प्रस्ताव रखने को मजबूर है जो कि उस निरीह की पहली पुत्री की हत्या के षड़यंत्र में शामिल था। कथाशिल्पी ने इसे इस प्रकार व्यक्त किया है-
‘कुँआरी पुत्री का पिता , जो उनके रिश्ते के लिए मेरे पास आये हैं, और इस समय सबसे आगे हैं मेरे भूतपूर्व ससुर जी, जो मेरी मृत पत्नी की छोटी बहन के रिश्ते के लिए मेरे सामने गिड़गिड़ा रहे हैं, एक पिता की तरह, बिल्कुल निरीह पिता की तरह।’(पृष्ठ-63)

‘संकल्प’ कहानी में नौकरी के कारण बिछड़े हुए गाँव में बसने की लालसा तथा बच्चों के शहर में रहने की इच्छा का द्वन्द्व है। इसी तरह कालचक्र, प्रतिपूरक, नाबालिग, एक और अभिमन्यु तथा पहल आदि कहानियाँ भी अत्यन्त मर्मस्पर्शी कहानियाँ हैं।

ताबीज कहानी में लेखक ने बताया है कि किस तरह तंत्र-टोटके से जुड़े हुए लोग निजी स्वार्थ के लिए हँसते-खेलते परिवारों को शक-संदेह की आग में भस्म कर देते हैं। ‘तिरिया चरित्र’ में घरेलू काम-काज से बचने के लिए स्त्री, चुड़ेल होने का ड्रामा करती है और उसके लिए अपने ही परिवार की आर्थिक हानि कराती है।

‘रोहित तुम निर्दोष हो’ कहानी एक तरफा अव्यक्त प्रेम की कहानी है। इसी तरह ‘धूप-छाँव’ व ‘अभिशप्त’ कहानी भी लेखक द्वारा बुनी गई उत्तम कहानियाँ हैं।

इन सभी कहानियों की संवाद-शैली पात्रों के अनुकूल तथा विषय परक है। लेखक ने छोटे वाक्यों में ही गहरी बात कह कर कहानियों को गम्भीर बना दिया है। फासले कहानी के कुछ वाक्य देखें-
‘लेकिन ऋचा, वृद्ध शरीर है उनका। बुढ़ापे में तो अच्छे-अच्छे सठिया जाते हैं।’
‘मैं कब मना कर रही हूँ, पर बुजुर्गों जैसी बात भी तो कहनी चाहिए न उनको।’ (पृष्ठ-94)

क्हानी संग्रह -‘निरीह’ की कहानियों में लेखक ने देश-काल-परिस्थिति का सजीव निरूपण किया है। इतना ही नहीं उन्होंने पात्रों के भी सजीव भव्य चित्र खींचे हैं।

भाषा व्यवहारिक खड़ी बोली हिन्दी है जो विषय एवं देशकाल-परिस्थिति के अनुरूप है। शैली चित्रात्मक एवं भावात्मक है जो इन कहानियों को और भी उत्कृष्ट बना देती है।

सभी कहानियाँ अपने उद्देश्य में पूर्ण सफल हैं। इस तरह रंगीन, आकर्षक आवरण वाली यह पुस्तक ‘निरीह’ एक उत्तम कथाकृति है। 128 पृष्ठीय इस पुस्तक का मुद्रण साफ-सुथरा है। सही मायने में कहा जाय तो यह कथाकृति वर्तमान युग के मानवीय सम्बन्धो का दर्पण है जो पठनीय, संग्रहणीय और प्रशंसनीय है।

मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि यह कथाकृति हिन्दी कहानी के नए लेखकों को कहानी का पाठ्यक्रम सिद्ध होगी तथा कथाशिल्पी डॉ. दिनेश पाठक‘शशि’ जी के यश एवं सम्मान में वृद्धि करेगी।

9 comments :

  1. भाई नीरज जी द्वारा सर दिनेश पाठक जी के कथा संग्रह निरीह की बहुत सुंदर समीक्षा की गई है । हर कहानी पर उन्होंने विस्तार से उल्लेख किया है । अच्छी समीक्षा पढ़ कर ही पाठक पुस्तक पढ़ने के लिए प्रेरित होता है । नीरज जी को मेरी बधाई ।अच्छी समीक्षा के लिए ।

    ReplyDelete
  2. भाई नीरज जी द्वारा सर दिनेश पाठक जी के कथा संग्रह निरीह की बहुत सुंदर समीक्षा की गई है । हर कहानी पर उन्होंने विस्तार से उल्लेख किया है । अच्छी समीक्षा पढ़ कर ही पाठक पुस्तक पढ़ने के लिए प्रेरित होता है । नीरज जी को मेरी बधाई ।अच्छी समीक्षा के लिए ।

    ReplyDelete
  3. भाई नीरज जी द्वारा सर दिनेश पाठक जी के कथा संग्रह निरीह की बहुत सुंदर समीक्षा की गई है । हर कहानी पर उन्होंने विस्तार से उल्लेख किया है । अच्छी समीक्षा पढ़ कर ही पाठक पुस्तक पढ़ने के लिए प्रेरित होता है । नीरज जी को मेरी बधाई ।अच्छी समीक्षा के लिए ।

    ReplyDelete
  4. भाई नीरज जी द्वारा सर दिनेश पाठक जी के कथा संग्रह निरीह की बहुत सुंदर समीक्षा की गई है । हर कहानी पर उन्होंने विस्तार से उल्लेख किया है । अच्छी समीक्षा पढ़ कर ही पाठक पुस्तक पढ़ने के लिए प्रेरित होता है । नीरज जी को मेरी बधाई ।अच्छी समीक्षा के लिए ।

    ReplyDelete
  5. आदरणीय डॉ, दिनेश पाठक'शशि'जी द्वारा लिखित

    ReplyDelete
  6. आदरणीय डॉ, दिनेश पाठक'शशि'जी द्वारा लिखित कथा संग्रह "निरीह"की समीक्षा एक विद्वान साहित्यकार आदरणीय आचार्य नीरज शास्त्री जी द्वारा बढे ही उत्तम, स्पष्ट एवं निष्पक्ष, रूप से यथार्थ से रूबरू कराया है सादर धन्यवाद कथा संग्रह निरीह के लेखक एवं समीक्षक दोनों के लिए
    सादर अभिवादन।
    राम सिंह"साद" मथुरा (उ,प्र,)
    मो,9760035037.

    ReplyDelete
  7. श्रध्देय गुरुदेव डॉ. दिनेश पाठक 'शशि' जी द्वारा रचित इस कृति ki बड़े ही रोचक ढंग से ज्येष्ठ आचार्य नीरज जी ने समीक्षा की है। समीक्षा पढ़ कर ही पूरी कहानी को पढ़ने का मन कर रहा है। अलग अलग विषयों का एक साथ एक ही जगह संग्रह उत्तम है।पुस्तक निरीह के लेखक तथा समीक्षक दोनो को सहृदय शुभकामनाएं
    पीयूष द्विवेदी

    ReplyDelete
  8. श्रध्देय गुरुदेव डॉ. दिनेश पाठक 'शशि' जी द्वारा रचित इस कृति ki बड़े ही रोचक ढंग से ज्येष्ठ आचार्य नीरज जी ने समीक्षा की है। समीक्षा पढ़ कर ही पूरी कहानी को पढ़ने का मन कर रहा है। अलग अलग विषयों का एक साथ एक ही जगह संग्रह उत्तम है।पुस्तक निरीह के लेखक तथा समीक्षक दोनो को सहृदय शुभकामनाएं
    पीयूष द्विवेदी

    ReplyDelete
  9. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete

We welcome your comments related to the article and the topic being discussed. We expect the comments to be courteous, and respectful of the author and other commenters. Setu reserves the right to moderate, remove or reject comments that contain foul language, insult, hatred, personal information or indicate bad intention. The views expressed in comments reflect those of the commenter, not the official views of the Setu editorial board. प्रकाशित रचना से सम्बंधित शालीन सम्वाद का स्वागत है।