काव्य: देवव्रत शर्मा

देवव्रत शर्मा
मेरा एक अंश लीन है  दूसरे की अराधना में    
संभवत यह  देह परि पूर्ण नहीं
हम दोनों को साथ   सवारने में 
एक घोर प्रश्न वामत:का दक्षिणत: से
कौन हो तुम इस महा विराल में 
कदाचित इसका उत्तर हो पाता एक महावाक्य
या साहस अपने अस्तित्व को 
परे हटा कर स्वयं में समाहित होने का 
जब उसके पश्चात जानने के
लिए कुछ नहीं रह जाता 
प्रकाशमय ब्राह्मण के मध्य विमर्श  के सेतु पर
निरंतर अनंत में बढ़ते कदम
मुझे पता है वहाँ मार्गदर्शन करते हुए
कोई भी साइन बोर्ड नहीं होंगे
ना ही कोई समूह अपनी तालियों की
गड़गड़ाहट से करता पाएगा अभिनंदन
परंतु निश्चित है इन अनिश्चितताओं के बीच 
अपनी सबसे अमूल्य वस्तु का विसर्जन
शायद यहाँ आकर कुछ प्रतिभिज्ञ हो जाए
शायद अपने ही किसी  अन्य
रूप से भेंट हो जाए
दूर मेघ गर्जन का स्वर कुछ 
कहता प्रतीत होता है
अंतराल की है आवाज या
कान में किसी ने चुपके से कहा
अनुत्तरा अनुत्तरा अनुत्तरा।

13 comments :

  1. A good read. This poem evokes responses from deep within, from the unknown.

    ReplyDelete
  2. अतिसुंदर देव| अंतःमनन् की यात्रा का भावपूर्ण वर्णन|

    ReplyDelete
  3. Congratulations to Dr.Devvrat Sharma for a beautiful depiction of spiritual journey in a poetic language.The use of imagery is very appreciative.

    ReplyDelete
  4. Something so subtle yet so startlingly striking ... Full of meaning , spiritual nuances and life in totality..... Amazing ....

    ReplyDelete
  5. The language and the spirit, both. It's only now in this Hindi poem that Dev beautifully the colours and melodies of life. Great piece of writing !

    ReplyDelete
  6. My compliments Brother...a very meaningful poem...

    ReplyDelete
  7. The poem starts with Dwaitwaad ( dualism) and ends with Monism (Advaitvaad) of Adi Shankaracharya....very nice Devvrat ji...the poem reflects the souls journey...congrats,for writing such beautiful thoughts in poem form...

    ReplyDelete
  8. गहन अंतरतम की गूढ़ शब्दों में सुंदर अभिव्यक्ति।
    खुद को खुद ही के द्वारा खोजने की कविता।
    मन के बौद्धिक विचरण की उम्दा चित्रांकन

    ReplyDelete
  9. गहन अंतरतम की गूढ़ शब्दों में सुंदर अभिव्यक्ति।
    खुद को खुद ही के द्वारा खोजने की कविता।
    मन के बौद्धिक विचरण की उम्दा चित्रांकन

    ReplyDelete
  10. Beautiful thoughtful expression of one's soulful journey.Keep going 👍💐

    ReplyDelete
  11. Congratulations, Devvrat, on your deep thoughts about body, soul, self and others. We are so engrossed in this materiastic world that neither do we have any time nor do we have the humility to confront the harsh truth of life that this body is not immortal. It has to go one day. An awakening call for all of us! Wish you many many more contemplations!

    ReplyDelete

We welcome your comments related to the article and the topic being discussed. We expect the comments to be courteous, and respectful of the author and other commenters. Setu reserves the right to moderate, remove or reject comments that contain foul language, insult, hatred, personal information or indicate bad intention. The views expressed in comments reflect those of the commenter, not the official views of the Setu editorial board. प्रकाशित रचना से सम्बंधित शालीन सम्वाद का स्वागत है।