सिंधी कहानी: जुलूस

लेखिका: इन्दिरा वासवाणी
अनुवादक: देवी नागरानी


जुलूस-ए-आजादी के दिन ही बाबा का सुबह सवेरे देहान्त हुआ, वैसे उसके पहले दिन उनकी तबीयत इतनी खराब न थी। खराब क्या, बिलकुल कुछ भी न था, पर अचानक ही बाबा ने आधी रात को बेचैनी महसूस की थी। दादा, ताऊ दोनों ने बिना समय गँवाए उन्हें हास्पिटल में दाख़िल करा दिया। ताऊ ने मारुति इतनी तेज चलाई कि हास्पिटल पहुँचने में चार मिनट से ज़्यादा न लगे। डाक्टरों ने जाने कितने प्रयास किये, सुइयाँ लगाईं, पर बाबा को बचाने में हर कोशिश नाकामयाब रही।

ताऊ की जान-पहचान का विस्तार वैसे भी बड़ा है, दादा तो है ठंडे घड़े की तरह, धूप में रखो या छाँव में, पानी हमेशा ठंडा रहता। ताऊ ऐसे नहीं! वकालत के काम में काफी निपुण हैं और राजनीति के खेल में भी माहिर हो रहे हैं। वह भी जबसे सरकारी पार्टी में उनका एक खास मुकाम बना है उनकी बहुत चलने लगी है।

बाबा के देहान्त पर माँ शांत ही रही, दादा की आँखों के आँसू थमने का नाम नहीं ले रहे थे, बाकी ताऊ ने खुद पर जाब्ता रखने की भरपूर कोशिश जारी रखी।

कितनी गुरबत में दिन गुजारे थे। टूटी हुई चप्पल और सिलाई की हुई कमीज पहनकर ताऊ स्कूल जाते थे। ताऊ जितने ही पढ़ने में होशियार थे, उतने ही बात करने में भी रहे। कभी-कभी स्कूल में भी विषयों पर बहस में भागीदारी लिया करते थे। इनाम भी जीते थे, इसलिये मास्टरों का भी वह प्रिय शागिर्द बन गया था।

एक कमरे वाला घर था जिसमें सभी रहते थे। घर के बाहर ही एक छोटी कैबिन में बाबा जरूरत की चीजें रखकर बेचते थे। माँ सुबह उठकर कभी चने, कभी मूँग तो फिर कभी चौली पकाकर उन्हें थाल में भरकर देती, जो दो-तीन घंटों में ही बिक जाते थे। उन्हीं पैसों से वह घर की जरूरत की चीजे लेकर, खाने का जुगाड़ करती। “लाओ तो खाओ” वाला हिसाब था, पर बाबा ने कभी दिल को मायूस होने नहीं दिया। वे दुखों को जिन्दगी की सुन्दरता मानते थे और कहा करते थे कि इन्सान कभी एक-सी अवस्था में नहीं रहता। यही जिन्दगी जो बिताई उससे वे काफी संतुष्ट थे। यही कारण था कि आगे चलकर ताऊ की अच्छी कमाई के बावजूद भी वे इस एक कमरे वाले पुराने मकान को छोड़कर नए बड़े घर में जाने को तैयार न थे।

दुख के दिन बीत गए, ताऊ सबसे आगे निकल गए। वकालत के धंधे में धन व शोहरत दोनों कमाए। अपने लिये पढ़ी-लिखी, नौकरी करती हुई लड़की ढूँढ़कर उससे ब्याह कर लिया। अपने बच्चों को अंग्रेजी स्कूल में दाख़िला दिलाई। घर की व्यवस्था सब ठीक ही चल रही थी। अपने बड़े घर में एक हिस्सा दादा और छोटे भाई को दिया। बाकी एक भाई पुराने एक कमरे वाले घर में ही रहा। ताऊ ने बाबा से कहा था, “अब यह कैबिन बन्द करके घर में आराम करो।”

बाबा ने कहा, “बेटा जब तक जिन्दा हूँ तब तक इस कैबिन से निभाऊँगा। मेरे मरने के बाद जैसे चाहो वैसे कर लेना! कमाई के लिये धंधा नहीं करता हूँ, बस वक़्त कट जाता है। वैसे भी बड़ी उम्र में शरीर से काम लेना ही चाहिए, नहीं तो हड्डियाँ जम जाती है।”

ताऊ के मनचाहे विषय थे हिन्दी और राजनीति, राजनीति का उन्हें शौक रहा और अच्छा अभ्यास भी करते थे। एक बार आजाद उम्मीदवार के तौर चुनाव में खड़े रहे। सरकारी पार्टी की तरफ से बहुत पैसे देकर उनका हाथ ऊपर करवाया, बाद में उसी पार्टी का सदस्य बनकर काम करते रहे। सामाजिक काम, नौकरी लेकर देना, छोटे-मोटे झगड़ों को निपटाने के लिये मशहूरी भी मिली। हालाँकि शुरुवाती दौर में उसके दुश्मन भी बहुत थे। धीरे-धीरे पानी में ठहराव आते गया और उनके हिमायती बढ़ते गए।

बाबा सुबह गुजरे, ताऊ को झंडे की सलामी के लिये जाना ही था, और उसके बाद एक दुकान का मुहूर्त भी करना था। झंडे की सलामी के लिये असेम्बली मेंम्बर आने वाला था। सुबह ही उसने शास्त्री जी को अपने पिता के देहान्त की खबर दी थी। उसने कहा सलामी का काम पूरा करके आपके पास आऊँगा। ताऊ को पता चला कि डिप्टी मिनिस्टर भी अपने गाँव आया हुआ है। यहाँ से 25-30 मील के फासले पर ही वह गांव था। ताऊ ने उसे भी फोन के द्वारा यह जानकारी दी। डिप्टी मिनिस्टर ने कहा, “मैं भी समय पर पहुँच जाऊँगा, फिर भी कुछ देर हो सकती है!”

“नहीं साहब! ऐसे कैसे होगा! यहाँ तो बड़ा जुलूस निकलेगा, जिसका मार्गदर्शन आपको ही करना है” ताऊ ने जोर देते हुए कहा।

वजीर साहब कुछ कह नहीं पाए। उन्हें पता था कि उस इलाके के वोटों पर ताऊ का बड़ा कब्जा है। आख़िर आने का वक़्त तय हो गया। ताऊ के चेहरे पर मुस्कान थी, खेल को जीतने जैसी। उसने बाहर आकर हाथ जोड़ते हुए सबको बताया, “नायब मंत्री महोदय खुद आकर इस जुलूस का मार्गदर्शन करेंगे और पूरे दस बजे यहाँ पहुँचेंगे, तब तक और भी लोग झंडे की सलामी से फारिग हो जाएँगे। इसलिये आख़िरी सफर का वक़्त दस बजे रखते हैं।”

लोगों में खुशी की लहर फैल गई। जिनकी ताऊ से नहीं बनती थी उनके चेहरे उतर गए। एक ने कहा, “बाप की मौत पर मंत्री महोदय आ रहे हैं, अरे लगता है पगला गया है।” दूसरे ने कहा, “पागल नहीं है बस सब वोटों का खेल है।” तीसरे ने अक्लमंदी दिखाते हुए कहा, “भाई! पार्टी का जोर है। आज अगर उसके घर का कुत्ता भी मरता तो नायब मंत्री आते। ये नेता होते ही स्वार्थी है। इसलिए तो वो गधे को भी बाप बना लेते हैं।” दो-तीन लोगों ने उन्हें होठों पर उँगली रखने की हिदायत दी यह कहते हुए कि “दीवारों को भी कान होते हैं।”

ताऊ का उत्साह बढ़ गया। दो-तीन लोग लगवाकर उन्हें घर के सामने सफ़ाई करने की हिदायत दी। वीडियो-कैसेट निकलवाने का बंदोबस्त किया। फोटोग्राफर तो पहले ही आ चुका था। बताशे और नारियल का आर्डर भेज दिया। सब उसके काम में हाथ बँटा रहे थे। अब ताऊ फ़क़त सोफा पर बैठ कर फोन कर रहे थे। खादी का कुर्ता-पाजामा पहन कर तैयार हो गए। उनका सारा ध्यान बाहर था कि कब मोटर का हार्न बजता है और कब पुलिस का यूनिट आता है। इस बीच में जिला के एस.पी. तालुक के डिप्टी कलेक्टर, शहर के पी. आइ के फोन आ चुके थे। पुलिस की जीप पहुँचते ही इर्द-गिर्द खाकी वर्दी वाले बहुत खबरदारी से यहाँ-वहाँ आँखें फिरा रहे थे। ऐसे मौकों पर उनमें काफी फुर्ती आ जाती है, खास करके आजकल, जब नेताओं के पीछे उनके विरेाधी दल के आदमी हाथ धोकर पड़े रहते हैं।

अर्थी की पूरी तैयारी हो चुकी थी। अन्दर से औरतों के रोने की आवाज जोर-जोर से आ रही थी। जहाँ-जहाँ कैमरा फिर रहा था उसी तरफ लोगों के चेहरे भी फिर रहे थे... कोई अपनी नाक साफ कर रहा, कोई अपने आँसू पोंछने के लिये रूमाल का इस्तेमाल कर रहा, तो कोई अपना सिर पीटे जा रहा था, कुछ तो चीखने-चिल्लाने में व्यस्त थे।

उपमंत्री और उनके साथ शहर के कुछ मुख्य आदमी आए, तो बैठे हुए लोगों में हलचल मच गई। ताऊ उन्हें ले आने के लिये आँखों पर रूमाल रखकर आगे बढ़े। नायब मंत्री ने अपनी बाहें उसके गले में डालते हुए उसके काँधों को थपथपाना शुरू किया।

लोगों ने मंत्री को घेर लिया। कुछ उसके पाँव छूने लगे, कुछ हाथ बांधे खड़े रहे, दादा उन्हें हाथ पकड़कर अर्थी की तरफ ले गए। सेक्रेटरी ने मंत्री को लाये हुए फूल दिये जो उन्होंने अर्थी पर अर्पण करके हाथ जोड़े। कैमरा फिरता रहा।

“मंत्री महोदय की जय, मंत्री महोदय की जय।” अर्थी को कंधा देने के लिये बेइंतिहा भीड़ हो गई थी।

आख़िर पहले चार बेटों ने कंधा दिया “राम नाम सत्य है, वाहगुरु संग है!” धीमे-धीमे, कंधे बदलते रहे। अर्थी को एक शृंगारी गई ट्रक में रखा गया। कितने ही ठेकेदारों ने अपने ट्रकें लाई थीं, कुछ मोटरें, कुछ स्कूटर लाये थे।

“बाबा जी अमर रहे! मंत्री महोदय की जय बाबा जी की जय, राम नाम संग है, हरी नाम सत्य है, मंत्री महोदय की जय! बाबा अमर रहे।” बताशे फूल और सिक्के फेंके जाने लगे। ताऊ मंत्री महोदय के साथ उसकी कार में जा बैठे। कैमरे का फोकस अब उस तरफ था। आगे पुलीस की जीप थी, उसके पीछे मंत्री की कार और उसके पीछे पुलीस, फिर अर्थी वाली ट्रक और बड़े आदमियों की मोटरें और स्कूटर...।

जुलूस काफी बड़ा था। पाँच मिनट के पश्चात् नायब मंत्री की कार रुकी और उसने ताऊ से इजाजत ली। ताऊ ने उनका शुकराना माना और लौटकर अपनी कार में बैठ गए। उसके चेहरे पर संतोष की रेखाएँ जाहिर थीं।

मंत्री की कार के साथ कितनी मोटरों व स्कूटरों ने रुख बदला। इसके बावजूद भी शमशान भूमि तक जुलूस में बहुत आदमी थे। अर्थी शमशान भूमि में पहुँच गई थी। लोगों की बातचीत का सिलसिला जारी था।

एक ने कहा, “बाबा की आत्मा को यह सब देखकर कितनी शांति मिलती होगी?”

दूसरे ने कहा, “बाबा अच्छा इन्सान था, कोई घमंड नहीं था।”

तीसरे ने कहा, “कल तक भी उन्होंने कैबिन में बैठकर गोलियाँ बेचीं।”

किसी ने कहा, “कभी-कभी बच्चों को मुफ्त में चीजें दिया करते थे। भाई जिसने खुद गरीबी में दिन बिताये, उसको ही गरीबों की कद्र होगी।”

एक और ने कहा, “ताऊ के दिमाग में भी अभी कुछ गुरूर बैठा है।”

“आहिस्ता बोलो, पहले तो वह भी अपनी गरीबी के गुण गाया करता था। भाई, फिर भी और नेताओं से बेहतर है, किसी को लूटता तो नहीं है। गरीबों की पीड़ा तो महसूस करता है। बाकी है गरीबों का खानदान।”

“यह तो अच्छा है कि ताऊ पढ़-लिख गए, अच्छे वकील बने और तरक्की कर ली। और ऊपर से सरकारी पार्टी के नेता! वर्ना क्या मुझ जैसे के पास मंत्री आते ? या इतनी भीड़ साथ होती ?”

अर्थी से आग के शोले निकलने लगे। लोगों ने धीरे-धीरे पीछे हटते हुए वापस लौटना शुरू कर दिया था। कुछ एक की तो अन्दर की आग भी बाहर निकली, “अरे भाई ये तो उनकी चमचागिरी करनी है।”

“पर बाबा की आत्मा भी क्या याद करेगी।” किसी ने व्यंग्य कसा।

ताऊ जब घर लौटे तो उसके चेहरे पर फख्र वाली जीत थी। इस इलेक्शन में उसके जीतने की संभावना थी, फिर... ऐसे जुलूसों में उसे भी...!

***


इन्द्रा वासवाणी
 (1936-2012)
मीरपुर ख़ास, सिंध (अब पाकिस्तान)। तीन कहानी संग्रह प्रकाशित। वर्षों से अच्छी कविताएँ भी प्रकाशित हो रही हैं। बहुत ही निकट परिवेश के पात्र इनकी कहानी में सजीव अनुभूतियाँ बुनते हैं। नवें दशक में लेखन करके, संवेदनशील “सहज” कहानी में, “बदलाव” को अंकित करती लगातार सक्रिय। “बेस्ट-टीचर” के तौर पर राष्ट्रपति से सम्मानित। गुजरात सिंधी साहित्य अकादमी के गौरव पुरस्कार (2004) एवं अ.भा.सि.बो.सा. सभा, जयपुर (2008) द्वारा भी सम्मानित।
***

देवी नागरानी

देवी नागरानी

जन्म: 1941 कराची, सिंध (तब भारत), 12 ग़ज़ल-व काव्य-संग्रह, 2 भजन-संग्रह, 12 सिंधी से हिंदी अनुदित कहानी-संग्रह प्रकाशित। सिंधी, हिन्दी, तथा अंग्रेज़ी में समान अधिकार लेखन, हिन्दी- सिंधी में परस्पर अनुवाद। श्री मोदी के काव्य संग्रह, चौथी कूट (साहित्य अकादमी प्रकाशन), अत्तिया दाऊद, व रूमी का सिंधी अनुवाद. NJ, NY, OSLO, तमिलनाडु, कर्नाटक-धारवाड़, रायपुर, जोधपुर, केरल व अन्य संस्थाओं से सम्मानित। डॉ. अमृता प्रीतम अवार्ड, व् मीर अली मीर पुरस्कार, राष्ट्रीय सिंधी विकास परिषद व् महाराष्ट्र सिन्धी साहित्य अकादमी से पुरस्कृत। ईमेल: dnangrani@gmail.com
सिन्धी से हिंदी अनुदित कहानियों को सुनें @ https://nangranidevi.blogspot.com/ 

***


No comments :

Post a Comment

We welcome your comments related to the article and the topic being discussed. We expect the comments to be courteous, and respectful of the author and other commenters. Setu reserves the right to moderate, remove or reject comments that contain foul language, insult, hatred, personal information or indicate bad intention. The views expressed in comments reflect those of the commenter, not the official views of the Setu editorial board. प्रकाशित रचना से सम्बंधित शालीन सम्वाद का स्वागत है।