English Translation of Two Hindi Poems

Let it be

(Translation by Sunil Sharma)

Let me remain alone
for few days more

do not say anything
nor allow me to utter anything

I have borne the things
 for so long and patiently

for the rest of the remaining days
allow me to suffer obstinately

for a couple of days more
let me live like that only---
alone.


The Autumn

(Translation by Sunil Sharma)

Cruel cold nights black
oozing wounds
nights that make you cry

flowers and leafs
things of the past
empty hearts n nights

re-union separation---false
truth---the nights that haunt

shrunk and faded body-soul
fact is the nightmare called night

some memories torn and old
nights unfurling them
like a patched quilt

dry leaves
desolate branches
The autumnal nights
that torment.

Sunil Sharma सुनील शर्मा

रहने दो

(अनुराग शर्मा Anurag Sharma)

कुछेक दिन और
यूँ ही मुझे
अकेले रहने दो

न तुम कुछ कहो
और न मुझे ही
कुछ कहने दो

इतनी मुद्दत तक
अकेले ही सब कुछ
सहा है मैंने

बचे दो चार दिन भी
ढीठ बनकर
मुझे ही सहने दो

कुछेक दिन और
यूँ ही मुझे
अकेले रहने दो

Anurag Sharma अनुराग शर्मा

पतझड़

(अनुराग शर्मा Anurag Sharma)

निष्ठुर ठंडी काली रातें
रिसते घाव रुलाती रातें।

फूल पात सब बीती बातें
सूने दिन और रीती रातें।

मुरझाया कुम्हलाया तन-मन
उजड़ी सेज कंटीली रातें।

मिलन बिछोहा सब झूठा था
सच हैं यही डराती रातें।

फटी पुरानी यादें लाकर
पैबन्दों को बिछाती रातें।

सूखे पत्ते सूनी शाखें
पतझड़ में सताती रातें।