दलित साहित्य के यक्ष प्रश्न

देवी नागरानी

- देवी नागरानी

480 वैस्ट सर्फ स्ट्रीट, एल्महर्स्ट, इलिनॉय - 60126 
ईमेल: dnangrani@gmail.com.

साहित्य जगत के साहित्य के वर्गीकरण के अनेक स्वरूप हैं, समकालीन, प्रगतिवाद, नारीवाद, बाल सहित्य तथा दलित साहित्य। दलित साहित्य की दिशा में श्री रामगोपाल भारतीय के इस भागीरथ प्रयास में कुछ दलितों की दशा और दिशा से जुड़े अनेक यक्ष प्रश्नों के उत्तर देश के लगभग सभी प्रान्तों से दस्तावेज़ साहित्यकारों के विचार प्राप्त करने की एक सकारात्मक कोशिश की है । इस माध्यम से दलित समस्याओं के समाधानों तक पहुँचने की एक अर्थपूर्ण कोशिश में देश भर के प्रधान लेखकों ने आपने अपने विचारों को अभिव्यक्त किया। इस साधना रूपी प्रयास के एवज़ में “दलित साहित्य के यक्ष प्रश्न” नामक संग्रह 2009 में प्रथम संस्करण के रूप में श्री नटराज प्रकाशन द्वारा मंज़रे-आम पर आ पाया। मैं श्री रामगोपाल भारतीय जी की तहे दिल से शुक्रगुजार हूँ जो मुझे भी देश के इस समस्या प्रधान विषय पर अपने विचार अभिव्यक्त करने का मौका दिया...!


देवी नागरानी: आप दलित साहित्य किसे मानते हैं, जो दलितों द्वारा लिखा गया है अथवा अन्य के द्वारा लिखा गया दलित साहित्य भी?

रामगोपाल भारतीय: यह दलितों द्वारा या अन्य साहित्यकारों द्वारा लिखा हुआ साहित्य हो सकता है। यह वह साहित्य है जिससे दलितों में एक स्वाभाविक स्वाभिमान जागृत हो, उनमें अपने ऊपर होने वाले अन्याय के एवज़ प्रतिकार करने की चिंगारी सुलग उठे। जो उन्हें सामाजिक-आर्थिक असमानता का हाशिये पर न धकेल दे, उन्हें स्वाधीनता की राह दिखाये, वही साहित्य दलित साहित्य है, फिर चाहे लिखने वाला कोई भी कलमकार हो।


देवी नागरानी: आप दलित साहित्यकार किसे मानते हैं, दलित समाज से जन्मत: जुड़े साहित्यकार अथवा अन्य सभी साहित्यकार जो दलित साहित्य लिख रहे हैं?

रामगोपाल भारतीय: साहित्यकार वही होता है जो लेखनी के माध्यम से सच को प्रकट कर सके, सच के सामने आईना रख सके, लाचारी के, मुफ़लिसों के पर्दे को हटाकर उनमें से झाँकती हुई हर मजबूरी को प्रेषित कर सके, जातिवाद की राजनीति से ऊपर उठकर सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाए। सामाजिक क्रांति में कलम के माध्यम से भाग ले और उस चिंगारी को बुझने न दे जब तक लक्ष्य हासिल नहीं हो जाये। अब तो देश और भाषाओं की सीमाएँ सिमट रही हैं, साहित्य के माध्यम से एकमत होकर एक पूर्ण समाज का संकल्प कर रहे हैं, शिक्षा के कारण हर भाषा में साहित्य उपज रहा है और प्रखर स्वर से सामने आ रहा है। आज़ादी के बाद यही एक क्रांति सबल रूप से आई है जो आदमी को पग-पग तरक्की की ओर ले जा रही है, गाँव से नगर, नगर से शहर और अब देश-विदेश में साहित्य लेखन के माध्यम से भाषा के प्रचार-प्रसार के द्वारा जो साहित्य दलितों द्वारा लिखा गया है वह उनके जिये हुए अनुभूतियों की अभिव्यक्ति है, उनकी विडंबनाओं की, उनके सीमित दायरों की कहानी है। इसी लेखन द्वारा वे अपनी मांग, अपनी अस्मिता की पहचान पूरी तरह पाने की मांग सामने रखते है, कुंठित दायरों से बाहर आने की आज़ादी चाहते हैं। उन कुनीतियों को सामने लाने वाला फिर चाहे कोई दलित साहित्यकार हो या कोई अन्य। जो बुलंद आवाज़ में अपनी मांग सामने लाये और इन्साफ के पैमाने पर खरा उतरे वही दलित साहित्यकार है।


देवी नागरानी: वर्तमान में दलित की दशा और दिशा क्या है?

रामगोपाल भारतीय: कुछ कहा नहीं जा सकता। सच लिखने में कितनी आज़ादी ली जाती है, कितनी पराधीनता के स्वरों में सामने आती है। एक का सच दूसरे का झूठ साबित हो सकता है। जब तक वह साहित्य पथ-प्रदर्शन करने में सक्षम नहीं, तब तक मार्गदर्शन भी मुश्किल है। रोशनी ही अंधेरों का अंत ला सकती है।

देवी नागरानी: क्या दलित साहित्यकार दलित समाज के प्रति न्याय कर रहे हैं?

रामगोपाल भारतीय: सवाल फिर उठता है कि वे स्वतंत्र लेखन को सामने ला रहे हैं या किसी अन्य गुट के प्रति अपनी वफादारी का प्रमाण सामने ला रहे हैं। पथ प्रदर्शन करने के लिए अग्निपथ पर चलना पड़ता है। रोज़मर्रा जीवन की उलझनों का समाधान ढूँढने वाले दलित सहित्यकार भी आम इसान है। कोई मापदंड तो है नहीं कि परखा जाये कि कौन कितना दूध पानी में मिला रहा है, या पानी दूध में मिला रहा है। आम इंसान की मानिंद कहीं न कहीं लेखक भी अपने हिस्से की भूख मिटाना चाहता है, और उसके लिए किन-किन तक़ाज़ों से उसे गुज़रना पड़ता है, यह तो समय और परिस्थितियाँ तय करती हैं। न्याय-अन्याय ज़मीरों की भाषा है, जिसकी आत्मा ज़िंदा है, वह सच का साथी है और तो सभी सुराखों वाली नैया के केवट बने हुए हैं।


देवी नागरानी: क्या अन्य साहित्यकार दलित समाज के प्रति न्याय कर रहे हैं?

रामगोपाल भारतीय: न्याय अन्याय के मतभेद से ऊपर उठना है, जो सच है उसका साथ देकर मानवता के उसूलों को ज़िंदा रखना है। समाज एक समूह है जहाँ एक से एक जुड़कर दो बनते हैं और फिर संगठन। अच्छा अपनी अच्छाई न छोड़े और बुराई को बुराई न रहने दे, अपना कार्य निष्ठा और सकारात्मक सोच के संकल्प को मार्गदर्शित करता रहे, ... मंज़िल ज़रूर दिखाई देगी।


देवी नागरानी: वर्तमान परिवेश में दलित साहित्य की क्या आवश्यकता है और उसकी सीमाएँ क्या है?

रामगोपाल भारतीय: दलित साहित्य के माध्यम से दलितों को सम्मान, साहस और समानता पूर्ण अधिकारों से अवगत कराया जा सकता है। हाँ वक़्त की दरकार हो सकती है पर सीमाएँ किसी भी परिधि में क़ैद नहीं की जा सकती। शिक्षा की रोशनी में वे खुद अपना, अपने वजूद का मूल्यांकन कर पाएंगे, अंधेरों से एक सुरंग खोदकर वे उजाले में अपनी मान्यता, धर्म, जाति के बंधनों से जब खुद को मुक्त करा पाएंगे, तब प्रगति का शाही मार्ग उन्हें विकास के पथ पर आगे ले जाएगा। Sky is the limit.


देवी नागरानी: क्या कुछ दलित साहित्यकार पूर्वाग्रह से ग्रसित हैं?

रामगोपाल भारतीय: यह एक स्वाभाविक मानसिकता की उपज हो सकती है, और इस भावना से मुक्ति पाना इतना आसान नहीं है। समाज में वर्गीकरण के तहत अगर जाति-भेदभाव पर अंकुश नहीं लगता, दलितों के लिए उन्नति की राहें खुलने के संभावनाएँ तब तक बस एक सपना बनकर रह जाती है, अगर इस संदर्भ में जातीयता प्रबल है, फिर तो दलितों पर लिखा साहित्य भी निरर्थक है।


देवी नागरानी: क्या कुछ गैर- दलित साहित्यकार पूर्वाग्रह से ग्रसित हैं?

रामगोपाल भारतीय: हाँ इस स्थिति से गैर-दलित साहित्यकार भी गुज़र रहे हैं। असमानता और अत्याचार का विचारधारा पर प्रभाव पड़ना मुमकिन है। दलित साहित्य अपने विमर्श और चिंतन के कारण ही अपनी पहचान पाता है, इसके विपरीत अगर साहित्य कुछ बदलाव लाने में मददगार सिद्ध नहीं बन पड़ता, तो फिर पन्ने काले करने से कोई मतलब नहीं। क्रांति साहित्य की उपज होनी चाहिए।


देवी नागरानी: स्वतन्त्रता पूर्व व स्वतन्त्रता पश्चात साहित्यकारों में आप किन-किन साहित्यकारों को दलित साहित्यकार का दर्जा देना चाहेंगे?

रामगोपाल भारतीय: संतों की वाणी में गुरु नानक, रविदास, कबीर ने उल्लेख्नीय तंज़ में दलितों के बारे में दोहावली, मुक्तक के रूप में साहित्य का सृजन किया। स्वतंत्रता के पूर्व और पश्चात अनेक साहित्यकारों ने कलम की जुबानी उनकी अवस्था को बयान किया। उनमें एक नाम डॉ. भीमराव अंबेडकर का विशेष महत्व रखता है। स्वतन्त्रता के बाद जिन हस्तियों ने दलित साहित्य को आगे बढ़ाने में प्रमुख भूमिका निभाई, उनमें उल्लेखनीय हैं- सारिका के संपादक कमलेश्वर जी, डॉ. महीपसिंह जी, डॉ. रेणु दीवान, हंस के संपादक राजेंद्र यादव, वङ्ग्मय के संपादक फेरोज अहमद, दिल्ली विश्वविद्यालय से डॉ. बजरंग बिहारी तिवारी। अन्य कई समाज सुधारक जो अपने ढंग से इस लड़ाई में जुटे रहे ऐसे अनुभूति से अभिव्यक्ति तक का सफर करने वालों में – नागार्जुन, रामधारी सिंह दिनकर, अदम गोंडवी जो कलम से तलवार का काम लेने के पक्षधर रहे, अपने जीवन को इस लक्ष्य के लिए समर्पित कर दिया।

अब उस कड़ी में अन्य कई दलित साहित्यकार अपनी कलम के तेवरों से पहचान पा रहे हैं, जिनमें मुख्य है- मोहनदास नैमिशराय, ओमप्रकाश वाल्मीकि, डॉ. कुसुम वियोगी, स्नेही, कालीचरण, सूरज पाल चौहान, रजनी तिलक आदि।


देवी नागरानी: क्या सरकारी या निजी स्तर पर दलित को प्रोत्साहन दिया जा रहा है?

रामगोपाल भारतीय: सरकारी और निजी तौर पर अब जागरूकता के कारण दलित साहित्य को प्रोत्साहन दिया जा रहा है। आदिवासी आज़ादी का अर्थ तब ही पूर्ण रूप से जान पाएंगे, जब दलित अपने आज के स्तर से ऊपर उठकर समाज के हर क्षेत्र में अपना स्थान बनाकर, अपनी पहचान पाएगा।


देवी नागरानी: क्या मीडिया में दलित सवालों (साहित्य) को उचित प्रतिनिधित्व मिल रहा है?

रामगोपाल भारतीय: इस आज़ाद देश में अभिव्यक्ति की आज़ादी है। ऐसे मुक्त समाज में प्रेस का भी कर्तव्य है, बिना किसी भय, किसी दबदबे से मुक्त होकर लोगों तक सही जानकारी पहुँचाए। अब कौन अपना दायित्व पूरी निष्ठा और ईमानदारी से निभाता है, इसका कोई मापदंड तो नहीं है। अगर ऐसा हो तो मसाइल घटते जाएंगे और उन्हें बार-बार उठाने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी। पर लगता है प्रैस पर भी कहीं न कहीं अंकुश होंगे। यही मानकर, जो छपता है उसी से अनुमान लगाया जा सकता है कि किसी भी एक मुद्दे को लेकर हम उसके विकास की ओर जाती दिशा में कितना आगे बढ़ रहे हैं। जवाबों की तलाश में सवाल आधे-अधूरे आज भी लटक रहे हैं।


देवी नागरानी: क्या साहित्य-पुरस्कारों के चयन में दलितों को उचित प्रतिनिधित्व है?

रामगोपाल भारतीय: नहीं, उनका प्रतिनिधित्व न के समान है। बरसों से शोषित पीड़ित मानवता के बारे में जब एक सच्चा साहित्यकार लिखता है, तो दलित जाति का प्रतिनिधित्व करने वाले उन्हें सर आँखों पर बिठा देते है। श्रद्धा से उनका सर झुक जाता है और वे आश्वस्त अवस्था का सुख भोगते हैं, कि उस एक पल में उनके जीवन का अंधकार उजालों में तब्दील होने वाला है। यही सबसे बड़ी उपलब्धि है दलित साहित्यकार के लिए और यही पुरस्कार भी। बावजूद इसके अपनी तारीफ किसे अच्छी नहीं लगती, अब पुरस्कार पाने की ललक उनसे क्या कुछ नहीं कराती... ये तो राम जाने...!


देवी नागरानी: आपकी राय में दलित साहित्य के संवर्द्धन हेतु और क्या उपाय किए जाने चाहिए?

रामगोपाल भारतीय: दलित अधिकार केंद्र के माध्यम से अपनी आवाज़ को सत्ता तक पहुँचाने का प्रयास करना चाहिए। विकसित समाज में उन्हें शिक्षा, रोजगार, और राजनैतिक प्रतिनिधित्व के अवसर भी मिलने चाहिए। जब तक वे आम-जनता का हिस्सा नहीं बनते, तब तक वे पिछड़े वर्ग के ही रहेंगे। शिक्षा मूल है जो उनकी अंधेरी राहों को रौशन कर पाएगी। जो धर्म और जात के नाम पर बुने हुए जाल में धँसे हुए हैं, उन्हें मुक्ति द्वार की चौखट पर बलि न चढ़ाया जाय। स्वतंत्रता सही मायने में उनके जीवन शैली व सामाजिक सुविधाओं से व्यक्त होनी चाहिए। अगर आज़ादी के नाम पर, मजबूरियों की जकड़न का अहसास साथ हो तो आज़ादी बेमानी सी लगती है। मानवता अपने अधिकारों से वंचित हो, यह आज़ादी पर ग़ुलामी का अंकुश है।


देवी नागरानी: साहित्य की किन विधाओं में दलित साहित्य अधिक लिखे जाने की आवश्यकता है?

रामगोपाल भारतीय: साहित्य एक ऐसा माध्यम है, जिसमें से नए समाज और संस्कृति के अंकुर फूटकर अपने आपको व्यक्त करते हैं। जाति वर्ण के नाम पर अमानवीयता अपना परिचय आप देती है। डॉ. अंबेडकर सामाजिक क्रांतिकारी रहे और संविधान–निर्माता बने, इस तरह का सामाजिक परिवर्तन व प्रयास प्रवाहित रहना चाहिए। महात्मा फुले ने छुआ-छूत के भेदभाव को जड़ों से उखाड़ने का प्रयत्न किया, बावजूद इसके आज भी पिछड़े क्षेत्रों में कहीं-कहीं जनमानस को नल से, या कुँए से पानी भरने से रोका जाता है। जाति-सूचक सिर्फ शब्द ही नहीं बर्ताव भी है, जिसके कारण उन्हें पानी भरने के लिए कोसों दूर जाना पड़ता है, उन्हें चक्की से आटा पिसवाने नहीं दिया जाता। कई स्कूलों में सामान्य शागिर्दों के साथ उन्हें बैठने की मनाही होती है। छूत-छात के इस बर्ताव से मानुष-अमानुष साफ-साफ दिखाई देते हैं। इन छोटी छोटी क्षतिपूरक बातों से व भावनात्मक स्थितियों से गुज़रते हुए पीड़ा और मान-हानि की अवस्था को झेलना अति मुश्किल हो जाता है। आक्रोश के बीज पनपने लगते है, खून में गुस्से का उबाल महसूस किया जाता है, पर बेबसी... हाय बेबसी...! आज़ादी के नाम पर अब भी ग़ुलामी की बेड़ियाँ जकड़ती रहती हैं। इस पिछड़ी जात के लोगों की बस हुकूमत बदली है, पहले विदेशी थी अब स्वदेशी है।


देवी नागरानी: क्या महानगरों में दलित साहित्यकार छोटे नगरों व ग्रामों के दलित साहित्यकारों की उपेक्षा कर रहे हैं?

रामगोपाल भारतीय: हाँ, इसका प्रमुख प्रभाव उनके लिखे साहित्य से होता है, जो महानगरों के साहित्यकारों से कई गुना बेहतर व उचित, व समाधानों के तत्वों से लबालब होता है, पर छप नहीं पाता। और तो और उन्हें चोंचलेबाजी और साहित्यिक राजनीति का शिकार होना पड़ता है।


देवी नागरानी: क्या दलित साहित्यकार कहीं-कहीं राजनीति के शिकार हैं?

रामगोपाल भारतीय: हाँ होते है, जब राजनीति पूरे समाज पर अपना असर दिखती है तो भला सामान्य इंसान और ऊपर से दलित साहित्यकार कैसे उस प्रभाव से बच पाये। आज कई साहित्यकार इस कुंठा से ग्रसित है, इसी कारण भी लेखक को इस प्रकार की राजनीति से दूर रहना चाहिए।


देवी नागरानी: क्या दलगत राजनीति प्रतिबद्धता दलित साहित्य का मार्ग अवरुद्ध कर रही है?

रामगोपाल भारतीय: आज हर दल अपने फायदे की सोचता है। गुटबंदी में बाजारवाद का स्वरूप व चलन आम दिखाई देता है। हालांकि साहित्य का राजनीति से कोई लेना-देना नहीं, बावजूद इसके राजनैतिक सत्ता अपना प्रभाव ज़रूर दिखाती है।


देवी नागरानी: क्या दलितों के इतिहास का पुनर्लेखन ज़रूरी है?

रामगोपाल भारतीय: दलितों के साथ किए गए भेद-भाव के किस्से अक्सर सामने आते रहते हैं, जिससे यह अंदाज़ा तो लगाया जा सकता है कि जातीय सूचक शब्द का प्रयोग उनकी पहचान की तरह उनके परिचय के साथ चिपका हुआ है। अगर लेखन इसका उपचार बन सकता है तो ज़रूर इसका पुनर्लेखन होना चाहिए।


देवी नागरानी: सवैधानिक सरंक्षण के बावजूद आज भी दलितों पर दबंगों के अत्याचार जारी है, आपकी राय में उन्हें रोकने के क्या उपाय हैं?

रामगोपाल भारतीय: सामाजिक दृष्टि से पिछड़े हुए लोग आवाज़ भी उठाते हैं तो वह सत्ता तक पहुँचने में असमर्थ है। उनके साहित्य के इतिहास का पुनर्लेखन ज़रूरी है – उसमें उनकी शिक्षा का, राजनीति के पद ग्रहण करने का, स्वाभिमानी बने रहने का संदेश हो। वे इतने प्रबल हों कि उन पर कोई आक्रमण कर न पाये, वे अत्याचार के विरुद्ध आवाज़ उठा पाएँ। पुलिस विभाग में भी ज्यादा से ज्यादा मात्रा में भर्ती हों, ताकि वे अपने जाति वर्ग के रक्षक बन सकें।


देवी नागरानी: कोई भी सुझाव या परामर्श जो आप इस विषय में देना चाहेंगे?

रामगोपाल भारतीय: व्यक्ति समाज और राष्ट्र का विकास पहचान से होता है, कर्म की पहचान। पर उसकी अदायगी का मौका भी मिलना निहायत ज़रूरी है। साहित्य एक द्वार है जिसके माध्यम से जन- जन तक प्रगतिशील विचारधारा को पहुँचाया जा सकता है, सुधी पाठक अपने आस-पास हो रही कुनीतियों और असमानताओं से बखूबी वाकिफ़ है। दलितों के प्रोत्साहन हेतु लेख, कहानियाँ, नाटक, समीक्षाएँ व अन्य साहित्य समस्याओं को समाधानों के साथ ले आए, ऐसी आशा की जा सकती है। कलम एक योग्य हथियार है जिसकी धार तलवार का काम बखूबी कर पाती है। बस चिंतकों, विचारकों और साहित्यकारों को इस ओर ध्यान देना है और अपनी लेखनी के माध्यम से असमानताओं के अंतर में परिवर्तन लाने में सार्थक सहकारी होना है।  जयहिंद!

No comments :

Post a Comment

We welcome your comments related to the article and the topic being discussed. We expect the comments to be courteous, and respectful of the author and other commenters. Setu reserves the right to moderate, remove or reject comments that contain foul language, insult, hatred, personal information or indicate bad intention. The views expressed in comments reflect those of the commenter, not the official views of the Setu editorial board. प्रकाशित रचना से सम्बंधित शालीन सम्वाद का स्वागत है।