A Trip to Kamakura, Japan कामाकुरा के बुद्ध

with Anurag Sharma :: जापान यात्रा, अनुराग शर्मा के साथ 
Kamakura's Giant Buddha, or Daibutsu as he is called in Japanese language was carved in bronze around 1252 AD.  काँसे में बने कामाकुरा के दाइ-बुत्सु, यानी विशाल बुद्ध का निर्माण सन् 1252 में हुआ था। 
जापान ने पूर्व और पश्चिम की संस्कृतियों में सुंदर संतुलन बिठाया है। तोक्यो महानगर में एक पथ। Japan is an excellent example of the balance between east and west. A road in Tokyo.

कमाकुरा के बुद्ध की गिनती संसार की सबसे बडी बुद्ध प्रतिमाओं में होती है। मंदिर परिसर का सिंहद्वार। The entrance to Kamakura's Amitabh Buddha, one of the largest Buddha statues in the world. 

सिंहद्वार पर सिंह की उपस्थिति स्वाभाविक ही है. Marble lion at the entrance.

तोक्यो से कामाकुरा आती हुई रेलगाडी। Train arriving from Tokyo to Kamakura

कामाकुरा के अमिताभ बुद्ध। Kamakura buddha is called Amitabh Buddha.  

कामाकुरा के अमिताभ बुद्ध। Amitabh means infinite light.

कमाकुरा के अमिताभ बुद्ध। Another shot of Amitabh Buddha

विशालकाय बुद्ध प्रतिमा के गवाक्ष। Windows on the back of Dai-Butsu

अतिशय विनम्रता के लिये संसार भर में प्रसिद्ध जापान के लोग सामान्यतः प्रसन्नमना होते हैं। बुद्ध मंदिर परिसर में एक दादा-पोते से मुलाकात। Japanese are happy people. A child with his grandpa in Dai-Butsu campus.
मंदिर परिसर की एक पगडंडी। A walkway inside shrine.
ईमानदारी जापान के रक्त में बसी है। टैक्सी, होटल आदि में टिप लेना भी वे लोग अपमान समझते हैं। सड़क पर पाई घड़ी को किसी ने खम्भे में लगा दिया है ताकि ढूंढने आये व्यक्ति को वह सुरक्षित मिल जाए। Japanese are very honest people. They feel insulted by reference of tip or any extra payment beyond the fair price. Somebody tied this watch to a pole so that if the owner comes back looking for it, the lost watch is found intact.

बुलेट ट्रेन की गति से दूर कामाकुरा में एक हाथरिक्शा चालक अपने पाँव की मांसपेशियाँ दुरुस्त करता हुआ। Just like a bullock cart in rural India, it's easy to find a hand rickshaw in Kamakura Japan.

चित्र व वर्णन, अनुराग शर्मा द्वारा. क्लिक करके सभी चित्रों का बड़ा रूप देखा जा सकता है।
Click on any image to see it in higher resolution. 
अनुक्रमणिका, दिसम्बर 2016 :: Table of Contents, December 2016