Translation: Poetry :: काव्य: अनुवाद Vatsala Radhakeesoon

Vatsala Radhakeesoon
Poems of Vatsala Radhakeesoon translated by Dr. Shreesh Pathak
वत्सला राधाकिशन के काव्य का अनुवाद डॉ. श्रीश पाठक द्वारा

A Cloud

There’s a cloud in my life,
A cloud that brings tears,
A cloud that blurs all the joy,
the beauty;
A cloud which never seems to vanish.

I’m longing to see the blue sky,
The blue sky that can bring a smile,
a ray of hope in my life;
But there’s a cloud in my life,
A cloud that brings tears,
A cloud which never seems to vanish.

(From Vatsala's self-published paperback book 'When Solitude Speaks')

डॉ. श्रीश पाठक

इक बादल

इक बादल है मेरे जीवन में
बादल जो आँसुओं का है
बादल जो कर देता है मद्धम
खुशियाँ औ सारी खूबसूरती
लगता नहीं जो गलेगा कभी

मुझमें आस है एक अनथकी सी
कि देखूँ आकाश नीला, जो
बख्श दे मुस्कान और जीवन में
किरण इक आशा की।
पर,
इक बादल है मेरे जीवन में
बादल जो आँसुओं का है
जो, लगता नहीं जो गलेगा कभी।


The Night

The night was adorned with moonbeams,
glittering stars;
The night was adorned with love.

I imagined a lover living on the moon,
His beloved waiting for him,
The stars being transformed into love letters.

The night was filled with dances, passionate feelings;
The night was filled with dreams.

I imagined the lover going to a fancy dress ball,
His beloved searching for his eyes,
The darkness being changed into a kiss.

The night brought bliss, solace;
The night united two hearts.

(From Vatsala's self-published paperback book 'When Solitude Speaks')

रात

चाँद की स्नेहिल रोशनाई में
सितारों की जगमग में
रात प्यार में पगी थी।

अपनी कल्पना में मैंने
प्रेयसी को देखा करते हुए प्रतीक्षा
चाँद पर रह रहे प्रेमी की
अक्षर अक्षर बन रहे थे तारे
प्रेम पत्र।

वह रात
थिरकनों, सपनों
और जज्बातों से
थी लबालब

प्रेयसी प्रेमी की जुड़वाँ मस्त आँखों को
ढूंढ रही थी जब मेरी कल्पना में
प्रेमी तलाश रहा था उसके लिए इक
शानदार घाघरे वाली अलहदा पोशाक
अंधेरे ने जड़ा इक चुंबन

रात ने जोड़ा है दो दिलों को
देकर आनंद परम और तोष।


Divine Song

The soul of the universe vibrates,
Planet Earth opens its third eye,
The learned Acharya
with a meditative look
detached from illusion
with cleansed heart
sings the message of God

A song of unity
A song of morality
A song of Equality
A song for humanity
pulsates in dawn’s wisdom

Convincingly the melodious voice
echoes
up till the morning breeze blissfully
smiles
“ God wants all children
to be merry,
to hold hands in harmony,
to live lives where
thoughts, words and actions shine
like a million golden lotuses
bearing the un-flickering light
of permanent egoless purity.”

(unpublished poem)


परम गान

ब्रह्मांड की आत्मा का कंपन
और धरा की तीसरी आँख का खुल जाना
निर्मल हृदय, भ्रम से मुक्त
प्रज्ञावान आचार्य, ध्यान दृष्टि से
गाते हैं, ईश संदेश।

एकता
नैतिकता
मानवता के गान
फूटते हैं उषा की प्रज्ञा से
जब तक कि सुबह की सुरम्य
हवा मुस्कुराती है, आचार्य की
सहज सौम्य आवाज गूंजती है

प्रभु चाहते हैं, उनके सभी बच्चे
समरस से हाथ पकड़े
रहें प्रसन्न, जीएँ जीवन जहाँ
विचार, शब्द, व्यवहार
एकसः चमकें
सनातन दर्पहीन शुद्ध सतत
प्रकाश के जैसे लाखों स्वर्णकमल

Setu, October 2017 :: Translation :: अनुवाद :: सेतु, अक्टूबर 2017

No comments :

Post a Comment

We welcome your comments related to the article and the topic being discussed. We expect the comments to be courteous, and respectful of the author and other commenters. Setu reserves the right to moderate, remove or reject comments that contain foul language, insult, hatred, personal information or indicate bad intention. The views expressed in comments reflect those of the commenter, not the official views of the Setu editorial board. प्रकाशित रचना से सम्बंधित शालीन सम्वाद का स्वागत है।