संताल समाज - इतिहास के आईने में

धनंजय कुमार मिश्र
 भारतवर्ष में संतालों के सम्बन्ध में विद्वानों में मतैक्य नहीं है। अद्यतन अध्ययन यह बताता है कि संताल जाति प्राचीन काल से ही भारतवर्ष में निवास करती रही है एवं सैन्धव सभ्यता के निर्माण में इनका भी योगदान रहा है। वैसे संतालों की उत्पित्ता के बारे में प्रचलित धारणाएँ अनेक हैं। कुछ लोगों के मतानुसार संताल भारतवर्ष में आर्यों के आगमन से पहले पश्चिमोत्तार दिशा से प्रवेश किये एवं पंजाब में कुछ समय रहने के पश्चात् आगे बढते-बढते छोटानागपुर के पठार में आ बसे। कुछ लोग कहते हैं कि संताल भारतवर्ष में उत्तर-पूर्व दिशा से प्रवेश कर आगे बढते हुए दामोदर नदी के दोनों तट पर बस गए। अन्य विद्वानों का मत है कि संताल जाति एक भ्रमणशील जाति के रूप में घुमन्तु प्रवृति वाले थे। इनका निवास यायावर होने के कारण निश्चित नहीं था। मध्य भारत की घाटियों एवं गंगा के किनारे की उर्वरा भूमि पर संतालों ने कुछ वर्षों तक निवास किया परन्तु आक्रमण एवं दबाव में दक्षिण पश्चिम की ओर बढते-बढते छोटानागपुर के पठारों में बस गये। विद्वान संतालों को द्रविड जाति की एक शाखा के रूप में भी मानते हैं। कुछ इतिहास वेत्ताओं का कहना है कि जंगल एवं मध्य भारत में रहने वाले लोग हमेशा ऑस्ट्रिक भाषा बोलते हैं तथा संतालों की शारीरिक विशेषताएँ ऑस्ट्रेलिया के आदिम जाति से मिलती जुलती है, इस कारण संतालों को प्रोटो-ऑस्ट्रेलियाड प्रजाति का माना गया है।

 प्राकृतिक रुप से संताल गंगा से लेकर बन्तरणी तक लगभग 350 मील के इलाके में फैले हैं जिसमें भागलपुर, संताल परगना (दुमका, गोड्डा, पाकुड, साहेबगंज, देवघर, जामताडा) वीरभूम, बाकुंरा हजारीबाग , मानभूम, मेदिनीपुर, सिहंभूम, मयूरभंज, बालासोर आदि जिले आते हैं। सामान्यतः बिहार प्रान्त के कुछ जिलों (बाँका, कटिहार, पूर्णिया ) झारखण्ड, असम सहित कई पूर्वोत्तार राज्यों पश्चिम बंगाल एवं उडिसा में वर्तमान में इनकी उपस्थिति दृष्टिगोचर होती है। डाल्टन (1872) ने संतालों को राजमहल के आदिम पहाडी जाति एवं द्रविड समुदाय का बताया है।
 भाषा विज्ञान की दृष्टि से संताली भाषा को मुण्डा परिवार की भाषा से सम्बन्धित बताया जाता है। वर्तमान में संतालों के पूर्वजों के बारे में कोई निश्चित धारणा नहीं है। पहाडों, पवर्तों की गोद में खेलने वाले संताल को सुन्दर एवं सुरम्य पहाडों ने ही रोटी-कपडा और जीवन को आराम दिया।

 ऐसी मान्यता है कि एक ही माता-पिता की सात बच्चों ने सात जाति का निर्माण किया जो भारतीय वर्णाश्रम-व्यवस्था से बिल्कुल मुक्त थी। उत्पित्ता वंशज इस प्रकार कहे गए हैं –
प्रथम निज-कासदा-हेड,
 द्वितीय निज-मुरमू-हेड,
तृतीय निज-सोरेन-हेड,
 चर्तुथ निज -हाँस्दी-हेड,
 पंचम निज -मरांडी-हेड,
षष्ठ निज-किस्कू-हेड,
 सप्तम निज-टूडू-हेड।
 यहाँ निज अर्थात् पिता एवं हेड अर्थात् वंश या खूँट।

 इसके अतिरिक्त संताल जाति की आंतरिक संरचना का विभाजन 12 भागों में भी मिलता है-हाँसदा, मुरमू, किस्कू , हेम्ब्रम, मराण्डी, पौरिया, सोरेन, टुडू, बास्की, बेसरा , चौड़े और बेदिया । पौरिया, चौड़े और बेदिया को छोडकर सभी एक दूसरे से मिलते-जुलते होते हैं। मात्र यही तीन अलग पहचान के हैं। लिखित दस्तावेज उपलब्ध न होने की वजह से इनके वास्तविक अधिवास की जानकारी संदिग्ध है। यायावर स्वभाव के संताल लोग कृषि की सुविधानुसार स्थान परिवर्तन करते रहे, यह तो सिद्ध है। संतालों के यायावर जीवन के कारण का वर्णन हन्टर एवं ई0एस0मान ने किया है। 1770 के अकाल एक कारण इन्होंने जंगल महल (बाकुंरा, मानभूम, मिदनापुर, बर्धमान) को अपना अधिवास बनाया।

 संताल जातियाँ विभिन्न पेशों से जुड़ीड भी बताई जाती है। किस्कू-राजा, मुरमू-पुजारी/ठाकुर, सोरेन-योद्धा, हेम्ब्रम-कुम्भकार, मराण्डी-समृद्ध, टूडु-संगीतज्ञ व कलाकार तथा बास्की-व्यापारी के रुप में अपने समाज में जाने जाते थे। काल के अन्तराल में सभी कृषिकर्म के लिए बाध्य हो गये। संतालों का विश्वास है कि किसी न किसी रूप में उनका सम्बन्ध सभी जीवित प्राणियों, पेड़-पौधों, और पशु-पक्षियों से अवश्य है।

 भारतवर्ष की परम्परागत सामाजिक व्यवस्था में परिवर्तन सल्तनत-काल में आना आरम्भ हुआ और यह परिवर्तन का दौर ब्रिटिश शासन के स्थापना काल तक चलता रहा। मुसलमानों के शासन काल में धार्मिक तथा सामाजिक संकीर्णता का युग प्रारम्भ हुआ। भारत की धार्मिक अवस्था आदिवासियों की धार्मिक अवस्था से भिन्न थी, परन्तु कहीं-कहीं उनमें समानतायें भी थी। अंग्रेजी शासन काल में ईसाई धर्म सशक्त हो रहा था। दक्षिण भारत में ईसाई धर्म की प्रबलता अधिक थी। आदिवासी भी ईसाई धर्म के आकर्षण से चकाचौंध होकर ईसाई धर्म अंगीकार करने लगे।

 समाजिक रूप से संताल विनोदी एवं प्रफुल्ल चरित्र के होते हैं। अपनी अल्प सम्पत्ति में ही वे संतुष्ट रहते हैं। अपने धन का व्यय धार्मिक एवं सामाजिक अवसरों पर करते हैं। जाति-व्यवस्था के बन्धन से मुक्त संताल लोग अपने पडोसी दिकु की तुलना में अधिक खुशी मनाते हैं। चावल और वनस्पति इनका मुख्य खाद्य है। मुर्गी, बत्तख, कबूतर, सुअर, बकरे एवं जंगली जानवरों का मांस ये खाते हैं। अत्यधिक मद्यपान करके अपने भगवान पचवाई के नाम पर उत्साह मनाते हैं और कृतज्ञता ज्ञापन करते हैं। अत्यधिक मद्यपान इनके पतन का एक कारण हो सकता है। मद्यपान के प्रति अनुराग पुराने मांझी के व्यवहार में भी मिलती है।

 अतीत में संतालों की सामाजिक व्यवस्था पूर्णतः लोकतन्त्रात्मक पद्धति पर आधारित थी। किसी भी जंगली पशु का शिकार करना उनके लिए कानूनी अपराध के समान था। संताली समाज में स्त्रियों एवं पुरुषों को समान अधिकार प्राप्त है। इन लोलगों में मानव सभ्यता के विकास में पुरुष के साथ स्त्रियों की भागीदारी आदिकाल से ही देखी जाती रही है। जाहेर एरा, गोसाईं एरा आदि देवियाँ शक्ति, समृद्धि एवं शिक्षा की देवियाँ हैं। माता, पत्नी, बहन और कन्या-सामान्यतः नारी के ये चार रुप ही संताल समाज में भी मिलते हैं।

 श्यामल वर्ण और हँसमुख आनन, सामान्यतः संताल नारी का यही रुप है। पुरुष मजबूत शरीर के धनी होते हैं। भविष्य की कल्पना और भूत की यादें इन्हें विचलित व रोमांचित नहीं करते, ये वर्तमान में जीते हैं, नजर रखते हैं । मांझी संताल समाज का प्रधान होता है। उसके सहयोगी परानिक कहलाते हैं। सामाजिक, धार्मिक एवं सांस्कृतिक कार्यों के वे प्रधान होते हैं। ग्रामीण इलाके में संतालों में प्रायः प्रचलित विनिमय वस्तु विनिमय ही है।

 महाजनों से शोषित एवं अंग्रजी सत्ता के दमन के दो पाटों में पिसते हुए संताल को जब कोई उपाय न सूझा तो संताल स्वतंत्रता के लिए संघर्षरत हुए। वे खुद को अपने जमीन का वास्तविक स्वामी देखना चाहते थे। यही एक विचार उत्पन्न हुआ जो उन्हें राजा के अधीन स्वतंत्र राज्य स्थापित करने के लिए प्ररित किया। फलस्वरुप सिदो-कान्हू का आविर्भाव जननायक के रुप में हुआ जो सर्वविदित ही है।

 सहायक ग्रन्थ
1 ए कॉज ऑफ इन्डस वेली - पाठक अरुण एण्ड वर्मा एन0के0
2 द बंगाल हिस्ट्री: डिस्ट्रिक्ट गजेटियर - एल0 ओ0 स्क्रेफ्रूड
3 द बंगाल हिस्ट्री: डिस्ट्रिक्ट गजेटियर - कॉलेन डाल्टन
4 एनाल्स ऑफ रुरल बंगाल - डब्ल्यु0 डब्ल्यु0 हण्टर
5 द संताल - जे0 ट्रॉइजी
6 एनाल्स ऑफ रुरल बंगाल पृष्ठ 147 - डब्ल्यु0 डब्ल्यु0 हण्टर
7 द ट्राइब एण्ड कास्ट ऑफ बंगाल पृष्ठ 224-225 एच0 एल0 रिजलै
8 संतालिया एण्ड द संताल पृष्ठ 12 ई0 एस0 मान
9 द बंगाल हिस्ट्री: डिस्ट्रिक्ट गजेटियर पृष्ठ 102 एल0 एस0 एस0 ओमैली

No comments :

Post a Comment

We welcome your comments related to the article and the topic being discussed. We expect the comments to be courteous, and respectful of the author and other commenters. Setu reserves the right to moderate, remove or reject comments that contain foul language, insult, hatred, personal information or indicate bad intention. The views expressed in comments reflect those of the commenter, not the official views of the Setu editorial board. प्रकाशित रचना से सम्बंधित शालीन सम्वाद का स्वागत है।