“घोर संकट में, तुम्हारा” - एलन ट्यूरिंग

मेहेर वान

मेहेर वान

एलन ट्यूरिंग एक अद्वितीय प्रतिभा वाले गणितिज्ञ थे। वह द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान प्रसिद्ध हुए थे जब उन्होंने जर्मनी की “एनिग्मा मशीन” से आने वाले युद्ध सम्बन्धी संकेतों को समझने की त्वरित प्रक्रिया का निर्माण करते हुए इंग्लेंड द्वारा जर्मनी को हराने में मदद की थी। वे गुप्त संकेतों को समझकर व्याख्या करने वाले दुनियाँ के सबसे महान विद्वानों में गिने जाते हैं। उन्हें “आधुनिक कम्प्यूटिंग का पिता” कहा जाता है। आज के तेज़ कम्प्यूटर्स उनके द्वारा किये गए शुरूआती शोध के कारण ही संभव हो सके हैं।  सन 1950 से  पहले जब “कृत्रिम प्रज्ञा” यानी “आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस” जैसे शब्द भी नहीं बुने गए थे, उसके काफी पहले एलन ट्यूरिंग सवाल पूछ रहे थे, “क्या कम्प्यूटर्स सोच सकते हैं?” उन्होंने प्रसिद्ध “ट्यूरिंग टेस्ट” शुरू किया। उनकी वैज्ञानिक उपलब्धियाँ चौंका देने वाली हैं। 

किसी अन्य पुरुष के साथ कामुक संबंधों को स्वीकार करने के बाद सन 1952 में एलन ट्यूरिंग को अश्लीलता के जुर्म में सजा हुयी। किसी अन्य पुरुष के साथ कामुक संबंधों की सजा के रूप में उन्हें दो विकल्प दिय गए- पहला विकल्प था कि वह आजीवन कारावास में रहें, सजा के रूप में दूसरा विकल्प था कि आजीवन कारावास के बदले वह अपना रासायनिक बधियाकरण करवाना लें। उस समय इंग्लेंड में समलैंगिकता को नैतिक नहीं माना जाता था और इसे एक अपराध के रूप में देखा जाता था। एलन ट्यूरिंग ने दूसरे विकल्प को चुना था। वह चाहते थे कि वह अपना शोधकार्य जारी रख सकें।

08 जून, 1954 को वह मृत पाए गए थे, मृत पाए जाने के एक दिन पहले उन्होंने पोटेशियम साइनाइड नामक ज़हर खाकर आत्महत्या कर ली थी। उस समय वह मात्र 41 वर्ष के ही थे। ट्यूरिंग को दौड़ना बहुत पसंद था वह एक मैराथन धावक थे।

सन 1952 में समलैंगिकता के अपराध में सजा होने से कुछ ही दिन पहले उन्होंने अपने पुराने और घनिष्ठ दोस्त नार्मन राउटलेज को घोर निराशा में एक पत्र लिखा था। राउटलेज एक प्रोफ़ेसर और जाने-माने गणितज्ञ थे। सन 2013  में इंग्लैण्ड के प्रधान-मंत्री ने शासकीय तौर पर ब्रिटिश सरकार की ओर से एलन ट्यूरिंग के खिलाफ हुई कार्यवाई के लिए माफी मांगी थी।

एलन ट्यूरिंग ने प्रोफ़ेसर नार्मन राउटलेज को यह पत्र लिखा था।
***********************************************

एलन ट्यूरिंग
मेरे प्रिय नार्मन,

मैं नहीं सोचता कि मैं सचमुच किन्हीं अन्य नौकरियों के बारे में जानता हूँ, सिवाय उस नौकरी को छोड़कर जो मैंने द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान की थी, और निश्चित रूप से मैं धुमक्कड़ी में शामिल नहीं रहा। मैं सोचता हूँ कि वे सेना में जबरन भर्ती किये गए रंगरूटों को स्वीकार करते होंगे। निश्चित रूप से तुमने इस सम्बन्ध में बहुत कठोरता से विचार किया होगा लेकिन मैं नहीं जानता कि इसमें तुम्हारी रूचि होगी। फिलिप हाल इसी तिकड़म में शामिल था मगर मुझे कहना चाहिए कि उसे इन बातों की कोई फिक्र नहीं थी। हालांकि आगे वाले अनुच्छेद में बताये गए कारणों से मैं वर्तमान में ऐसी स्थिति में नहीं हूँ, जिसमें कि मैं ठीक से एकाग्र हो सकूँ।

मैंने खुद को एक प्रकार की मुसीबत में डाल लिया है जिसकी संभावना मुझे काफी पहले से महसूस होती थी, यद्यपि मैं इसे दस में से एक के अनुपात वाली निम्न समझता रहा। मैं बहुत जल्द एक नवयुवक के साथ कामुक अपराध के आरोपों में दोष स्वीकार करके विनतियाँ कर रहा होऊँगा। “यह सब कैसे हुआ” की कहानी बहुत लम्बी और आकर्षक है, जिसे मुझे निश्चित रूप से एक लघु कहानी के साँचे में ढालना होगा, लेकिन उसके बारे में तुम्हे बताने का अभी मेरे पास वक्त नहीं है। इसमें कोई शक नहीं है कि इन परिस्थितियों से मैं एक अलग इंसान बनकर उभरूंगा, लेकिन स्पष्ट रूप से कैसा इंसान, इसका मुझे अंदाजा नहीं है।

यह जानकार मैं आह्लादित हूँ कि तुम्हें रेडियो-कार्यक्रम पसंद आया। हालांकि निश्चित रूप से जेफरसन थोड़ा निराशाजनक था।

मुझे डर है शायद यह युक्ति-वाक्य किसी अन्य के द्वारा भविष्य में प्रयोग किया जाएगा।

“ट्यूरिंग को भरोसा है कि मशीनें सोचती हैं
ट्यूरिंग आदमियों से झूठ बोलता है
इसका मतलब है कि मशीनें नहीं सोचतीं।”

घोर संकट में, तुम्हारा

एलन
****

3 comments :

  1. Very nice article. sexuality is a very personal thing. If someone is homosexual, may be it seems or sounds very disgusting to the common people but researches have proved that it's a mistake of nature only and the human beings should not be punished for that. It's very unfortunate that the so called sophisticated society punished such a great man for nature's fault. The article has been written by sh Meherwan fantastically. Congrats.

    ReplyDelete
  2. I am son Of ALKA PRAKASH..
    I read it and it's Truely a great information for me to know about a Scientist. Your article is very interesting to read
    Congratulations!! :D

    ReplyDelete

We welcome your comments related to the article and the topic being discussed. We expect the comments to be courteous, and respectful of the author and other commenters. Setu reserves the right to moderate, remove or reject comments that contain foul language, insult, hatred, personal information or indicate bad intention. The views expressed in comments reflect those of the commenter, not the official views of the Setu editorial board. प्रकाशित रचना से सम्बंधित शालीन सम्वाद का स्वागत है।