सेतु-सप्तक सम्पूर्ण🙏

सेतु की सातवीं वर्षगाँठ
🙏दो 'क्रेज़ी कज़िंस' ने जून 2016 में जो बेल बोयी, वह आपके सहयोग और शुभकामनाओं के सहारे पल्लवित होकर सात वर्ष पूरे करके इस माह अपने आठवें वर्ष में प्रवेश कर चुकी है। सात वर्षों में सेतु के अद्वितीय हिट्स की संख्या साढ़े छत्तीस लाख से अधिक हो गयी है। संसार भर से चुने हुए 850 लेखकों की लगभग सात हज़ार मौलिक व अनूदित रचनाओं के साथ चली इस यात्रा में हर तरह की विधाएँ जुड़ीं, सारे स्वाद रहे, हर तरह के पड़ावों से गुज़रना हुआ। कुल मिलाकर एक-एक शब्द चुनकर संसार भर को जोड़ने वाले इस सेतु का निर्माण और पालन एक रोचक अनुभव रहा है जिसके लिये सेतु परिवार आपका आभारी है। 👏👏
सेतु में किसी राजनैतिक विचारधारा के प्रचार, हिंसक गतिविधि, या किसी भी प्रकार की घृणा या द्वेष की अभिव्यक्ति के लिये कोई स्थान नहीं है, चाहे वह किसी भी वर्ग, जाति, धर्म, लिंग, भाषा, या राष्ट्रीयता के प्रति हो। घृणा, द्वेष, हिंसा, प्रतिहिंसा का समर्थन हमारे, और समाज के लिये हानिप्रद तो है ही, यह अनैतिक और अवैध भी है, इसे रोकने में ही हमारा हित है। सेतु में उन अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है जो अन्य पत्र-पत्रिकाओं को नहीं भेजी जा रही हैं और जिन्हें शब्दाडम्बर से चमकाया नहीं गया है। कृपया एकपक्षीय, या अतिवादी रचनाएँ न भेजें। प्रकाशन हेतु रचना भेजने से पहले कृपया निम्न कड़ी पर दिये गये 'लेखकों से अनुरोध' को अवश्य पढ़ लीजिये:

धन्यवाद!
***

🔥फ़्रांस जल रहा है।💥

पेरिस के एक उपनगर में 27 जून 2023 जब पोलेंड की लाइसेंस प्लेट लगी एक मर्सिडीज़ कार को पुलिस ने सिग्नल जम्प करने पर रोकना चाहा तो रुकने के बजाय वह दौड़कर आगे निकल गयी। पुलिसवालों ने उसे चेतावनी देकर पीछा करते हुए उसे फिर से रोकने की कोशिश की तो उसका किशोर चालक रुकने के बजाय कार को कार ट्रैक से हटाकर बस व साइकल ट्रैक पर दौड़ाकर फिर एक लाल सिग्नल जम्प कर गया। आगे एक जाम में जब कार रुकी तो दो मोटरसाइकिल सवार सिपाहियों में से एक ने नीचे उतरकर उसे इंजन बंद करने को कहा। इंजन बंद करके जब चालक ने दोबारा शुरू किया तो सिपाहियों ने पिस्तौल निकालकर उसे रुके रहने को कहा। लेकिन कार तेज़ी से चल पड़ी, सिपाही ने ड्राइवर को गोली मारी जो उसकी बाँह में होती हुई दिल में लगी और पुलिस द्वारा बुलायी गयी ऐम्बुलेंस उसे बचा न सकी। 

फ़्रांस में कार चलाने की न्यूनतम आयु 18 वर्ष है। यह वाहन चालक नएल मरज़ूक (Nahel Merzouk) 17 वर्ष का था। इंटरनैट पर उपलब्ध जानकारी के अनुसार उसके अल्जीरियन मूल के पिता बहुत पहले उसकी मोरक्कन मूल की माँ को तलाक़ दे चुके थे। वह छह माह तक स्कूल गया था फिर नहीं गया। एक सप्ताह पहले भी उसने सिग्नल जम्प किया था और पुलिस को झाँसा देकर भाग निकला था। पिछले दो-ढाई वर्षों में उसने ऐसा पाँचवीं बार किया था। उसकी पुलिस फ़ाइल में 15 अपराध दर्ज़ थे जिनमें अवैध ड्रग्स बेचना और खाना, तथा नकली लाइसेंस प्लेट और बिना बीमा की गाड़ी चलाना भी शामिल है।

गोली चलाने वाले पुलिस अधिकारी को हिरासत में ले लिया गया, फ़्रांसीसी राष्ट्रपति ने हत्या की निंदा की लेकिन नएल के दफ़न संस्कार के समय उसकी माँ द्वारा टिकटॉक पर "मेरे पुत्र के लिये क्रांति करो" की अपील के साथ-साथ घटना की 30 सेकंड की क्लिप सोशल मीडिया में वायरल हुई और आनन-फ़ानन में पूरे देश में सरकारी वाहनों और भवनों को फूंका जाने लगा और अनेक दुकानें लूट ली गयीं। यह पंक्तियाँ लिखे जाने तक देशभर में आगज़नी हो रही थी।

किसी की भी मृत्यु दु:खद है, पूरे देश को फूंक डालना भी दु:खद है, और निहित उद्देश्यों के लिये इन घटनाओं का दुरुपयोग भी दु:खद है। ईश्वर सबको सद्बुद्धि दें - सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामया, सर्वे भद्राणि पश्यन्तु, मा कश्चिद् दुख भागभवेत। ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः

शुभकामनाएँ!

शुभाकांक्षी,
सेतु, पिट्सबर्ग
30 जून 2023 ✍️

3 comments :

  1. Dear Anurag ji,
    Please accept my heartiest congratulations for completing highly successful and rewarding years of our dear Setu Hindi.
    I consider myself fortunate that I am given this platform for my work.
    Also,your objective and enlightening comments on the unfortunate tumultuous situation of the present France is noteworthy.
    Thanks and warm regards,
    Deepak Sharma

    ReplyDelete
  2. Wishing Setu Hindi many more years of success and commitment to the cause of Hindi Literature as it enters its eighth year this month.
    Warmest regards and best wishes,Anurag ji.

    ReplyDelete
  3. सेतु का हर अंक बेहतर से बेहतरीन दिखाई देता है
    साहित्य की हर सिंग का एक कलश जिसे पढ़ने की चाह बनी रहती है
    अपने समय से समय निकाल कर निष्ठा से यह सब कर पाना अपने आप में एक उदेशपूर्ण कार्य है, जिसके लिये अनुराग जी को वि सुनील जी को सलाम है.
    मेरी सिन्धी से हिन्दी में अनूदित साहित्य को मंच पर स्थापित करने के लिए हार्दिक आभार

    ReplyDelete

We welcome your comments related to the article and the topic being discussed. We expect the comments to be courteous, and respectful of the author and other commenters. Setu reserves the right to moderate, remove or reject comments that contain foul language, insult, hatred, personal information or indicate bad intention. The views expressed in comments reflect those of the commenter, not the official views of the Setu editorial board. प्रकाशित रचना से सम्बंधित शालीन सम्वाद का स्वागत है।