मर्म पर चोट करती कविताओं का संग्रह: जब भी मिलना

समीक्षक: दिनेश पाठक ‘शशि’

28, सारंग विहार, मथुरा-6; चलभाष: +91 941 272 7361; ईमेल: drdinesh57@gmail.com

पुस्तक: जब भी मिलना (काव्य संग्रह)
लेखिका: डिम्पल राठौड़
पृष्ठ: 112
मूल्य: ₹ 250.00 रुपये
प्रकाशन वर्ष: 2020
प्रकाशक: प्रलेक प्रकाशन, विरार (पश्चिम) - 401303
ISBN: 978-81-946472-6-3
--------------------------------------------------------------------------

   यद्यपि कविता का उद्गम हृदय से होता है उसे सायास लिखा तो जा सकता है लेकिन वह निर्जीव सा आभास ही करायेगी, किसी के हृदय में गहरे उतर जाने की श क्ति का उसमें नितान्त अभाव ही दृष्टिगोचर होगा। और यह भी सत्य है कि कविता पर किसी उम्र विशेष का अधिकार नहीं होता। समय की भट्टी में तपकर जिसने भी यथार्थ के खुरदरे धरातल पर चलकर अनुभवों की गठरी बांधी होती है या प्रेम के संयोग-वियोग की पीड़ा का डूबकर आनन्द लिया होता है, वही राधा, मीरा और सूरदास या कबीरा की श्रेणी में अपने को लाने में सफल हो जाता है।

बहुत कम साहित्यकार होते हैं जो उम्र के एक पड़ाव पर पहुँचने के बाद ही अपनी रचनाओं में पूर्ण परिपक्वता का पुट दे पाते हैं। लेकिन राजस्थान की धरती पर चूरू की कुमारी डिम्पल राठौर एक ऐसी कवयित्री है जिनकी एक-एक रचना पढ़ते हुए यह अनुभव होता है कि जीवन के अनुभवों और अनुभूतियों को कसकर पकड़ने और उन्हें अभिव्यक्त करने की पूर्ण क्षमता डिम्पल राठौड़ में विद्यमान है।

 कहावत है कि इतिहास अपने आप को दोहराता है। डिम्पल राठौड़ की कविताओं की पुस्तक 'जब भी मिलना' पढ़ते हुए हिन्दी साहित्य के कई साहित्यकारों के नाम मेरे स्मृति पटल पर अंकित हो रहे हैं जिन्होंने देश और समाज की सड़ी-गली कुरीतियों और रूढ़ियों पर अपनी रचनाओं के माध्यम से करारी चोट की है। डिम्पल राठौड़ ने भी 21-22 वर्ष की कम उम्र में ही अपने गहन अनुभवों को इस काव्य-संग्रह में उकेर दिया है और यही कारण है कि 'जब भी मिलना' उनका प्रथम काव्य-संग्रह होते हुए भी काफी चर्चित हो रहा है।

              लड़की विवाह उपरान्त जब अपनी ससुराल में आती है तो गाजे-बाजे, गीत-नृत्य के बाद कुछ समुदायों में प्रथम रात्रि के बाद प्रातः को उसके बिस्तर को देखने की विचित्र परिपाटी तब से चली आ रही है जब नारी केवल और केवल मायके की कैद से निकलकर ससुराल की कैद में बन्द हो जाया करती थी और इसलिए उसके अक्षत यौवना होने के सत्यापन के लिए प्रथम रात्रि के बाद उसके बिस्तर पर पड़ी रक्त की बूंदों को उसके चरित्रवान होने का प्रमाण मान लिया जाता था। किन्तु आज जब एक छोटी सी लड़की घर से बाहर ही नहीं निकलती बल्कि साईकिल, स्कूटर, मोटरसाईकिल आदि  वाहनों को भी फर्राटे से चलाती है। विद्यालय के सभी खेल-कूदों, जिनपर कभी केवल लड़कों का ही एकाधिकार हुआ करता था, उनमें भी सहर्ष भाग लेती हैं। दौड़ती हैं, कूदती हैं। ऐसे में अब भी यह उम्मीद करना कि उसके कौमार्य की साक्षी कुछ बूंदें बिस्तर पर दिखाई देंगीं, एकदम बेमानी ही है। इसी को ध्यान में रखकर लिखी गई संग्रह की कविता -"नई दुल्हन" लक्ष्य पर संधान करती है-
                                      नई दुल्हन आई है घर, स्वागत करो! रीति रिवाज से घर लाओ...
                                        पवित्रता का प्रतीक सेज पर सफेद चादर बिछाओ, चलो!
                                         लो हो गई सुबह, दुल्हन का बिस्तर देख कर आओ
                                                अरे! ये क्या है? पाप, घोर पाप हुआ ये तो!
                                                  घोर पाप करके आई है ये पापिन तो...
                                                  चादर पर कोई धब्बा नहीं,
                                                    जाओ... बड़े बुजुर्गो की पंचायत बुलाओ
                                                    इस पर चरित्रहीन का लेबल लगाओ
                                                     अभी बिल्कुल अभी, इसके घर वालो को बुलाओ ...
                                                     सुनो औरतो, इसे गंगाजल से नहलाओ
                                                       आ गए हैं पंच
                                                       चलो न्याय कराओ

संग्रह की भूमिका में श्रीमती मैत्रेयी पुष्पा ने जो लिखा है वह इस संग्रह के लिए लिखी गई बहुत सटीक टिप्पणी है।-
"लड़कियाँ कविता लिखती हैं। क्या करें कविता न लिखें तो। जब उनकी बात कोई सुनने को तैयार नहीं होता। 
जब उनकी जिन्दगी के लिए फैसले घरेलू या बाहरी पंचायतें करने बैठ जाती हैं,  क्योंकि फैसला वही सुनाना है जो लड़की के माफिक नहीं पड़ता। बेशक यही परिवार और समाज की जीत मान ली जाती है। आगे भी ऐसी पराजयों में हुकुम के पहिए लगाकर धकेला जाता है स्त्री का जीवन। वह अपने पाँवों पर नहीं चलती, रिवाजों के इंजन से खींची जाती है। तब कोई डिम्पल लिखती है कविता... यह डिम्पल के दिल की ही नहीं हर युवती और स्त्री की मुखर आवाज है, जो कविता होकर गूंजी है।"

संग्रह की कविता 'श्रद्धा' पुरुष के दोहरे मापदण्डों पर प्रहार करते हुए नारी जाग्रति का आवाहन करती नजर आती है-
                                                    मैं लिखती हूँ कि
                                                   हर औरत समझ सके
                                                    कि वो नहीं हैं अकेली
                                                   मैं लिखती हूँ कि बना सके हर नारी,
                                                  अपना वजूद अपनी पहचान
                                                  वो ना ही अछूत है ना कोई बीमारी,
                                                 वो ना ही कोई पालतू पशु है ना बेचारी
                                                वो ना ही तुम्हारे पूर्वजों की जागीर है
                                                ना ही है वो कोई कोल्हू का बैल।

                 डिम्पल राठौड़ की कलम से उपजा संग्रह 'जब भी मिलना' की एक-एक कविता में आक्रोश भरा नजर आता है। सामाजिक बन्धनों के प्रति, पुरुषों के द्वारा नारी पर किए गये और किए जा रहे दुव्र्यवहार के प्रति और प्रत्येक कविता लावा उगलती नजर आती है। कविता 'आद्र कंठ से', में वह प्रेम के झूठे छलावों पर अपना तीर चलाती नजर आती हैं -
                                                       सुनो! मेरी अर्धांगिनी है,
                                                         मगर उससे प्रेम नहीं होता
                                                         वो मेरी चद्दर की सलवटों में तो होती है
                                                           मगर उससे प्रेम नहीं होता...
                                                          तपती शिराएँ हो जाती है शान्त
                                                          पर प्रेम नहीं होता
                                                           वो रीति नीति में तो बंधी रहती है
                                                            पर उससे प्रेम नहीं होता
                                                           हाँ, बच्चों की माँ भी बनेगी,
                                                           पर उससे प्रेम नहीं होता!
                                                          सच में कितनी बेचारी है नारी

                 मासिक धर्म के पाँच दिनों में नारी की जो मनःस्थिति होती है और उसके साथ सामाजिक बन्धन जुड़े होते हैं, उनपर भी डिम्पल राठौड़ की लेखनी की पैनी धार ने जैसे पिघलता हुआ सीसा कानों में उड़ेल दिया है ऐसा ही प्रतीत होता है कविता 'वो पाँच दिन' को पढ़ते समय।
         सुनो!
                                                                         मैंने कहानियों में सुना है
                                                                        'वो पांच दिन' होती है औरत अछूती...
                                                                        उसके छूने मात्र से आ जाता है विघ्न पूजा में
                                                                       उसके छूने मात्र से मलिन हो जाते हंै कलश
                                                                       उसके प्रवेश से मैली हो जाती है पावन धरा
                                                                       उन्हें रखा जाता है दूर व्यंजन कक्ष से
                                                                        एक अलग जीवन जीती है "वो पांच दिन"
                                                                         मगर कभी-कभी सवाल आते हैं बवंडर बन कर
                                                                        दिलो दिमाग़ में
                                                                        जब "पांच दिन" की मलिनता से उत्पन होती है सृष्टि
                                                                        तो क्या वो सभी सृजन भी उतने ही मलिन होंगे?

दिनेश पाठक ‘शशि’

             युवावस्था के विपरीत लिंगी आकर्पण को ही युवक-युवतियाँ प्रेम समझ लेते हैं और फिर उनके बहके कदम माता-पिता के विश्वास को खण्डित कर अपने कदम आगे बढ़ाते है तो फिर केवल और केवल वासना को ध्येयकर बढ़ाये गये कदम सही मार्ग प्रशस्त करेंगे, ऐसा सोचना निरा अज्ञान ही कहलायेगा। डिम्पल ने ऐसी ही भुक्त-भोगी युवतियों के अनुभव अपनी कविता 'मैंने देखे हैं' तथा 'एक शख़्स 'में व्यक्त किए हैं-
                                                                                     मैंने देखे हैं
                                                                                    मुखौटे कई रंग के
                                                                                     मैंने देखी है एक धुंधली-सी छवि
                                                                                      शैतान की
                                                                                      इन्हीं मुखौटों में
                                                                                      मेरे प्रेमी के रूप में
                               x  x   x   x
                                                                                     एक शख़्स  के कारण
                                                                                   तुम्हें लुटाना पड़ा अपना सम्मान
                                                                                    तुम्हारे भीतर भी हुई हत्या
                                                                                    एक एक शख़्स के कारण
                                                                                    तुमने देखा घुप्प अंधेरा
                                                                                    लुटा तुम्हारे सपनों का एक संसार

                  समाज के अनेक कुत्सित रूपों को नंगा करके सबके सामने प्रस्तुत करने का जैसे बीड़ा उठाया हो लेखिका ने। 'जब भी मिलना' काव्य-संग्रह की प्रत्येक कविता ऐसा ही कुछ भान कराती नजर आती है।  संग्रह की कविता 'होली' में होली के बहाने नारी के कई अंगों को छूने की चेप्टा करते पुरुप के मनोभावों का बडा स्पप्ट चित्र खींचा है-
                                                                                     खुले सियारों ने दी बोली है
                                                                                      बुरा ना मानो होली है
                                                                                      उन्हें तो छूनी इस बहाने तुम्हारी चोली है
                                                                                      चलो! इधर आओ तुम्हे रंग लगाते है
                                                                                      रंग के बहाने तुम्हारे अंग छूना चाहते हैं
                                                                                      सियार बेखौफ हँसता है
                                                                                      अपना कुत्सित षड्यन्त्र यूँ रचता है
                                                                                      जहाँ सियारों की साज़िश में
                                                                                      बच्चियाँ तड़फड़ाती हैं"
       एक सौ बारह पृप्टीय संग्रह 'जब भी मिलना' में कुल 63 कविताएँ संग्रहीत हैं। प्रत्येक कविता स्त्री, पुरुप, समाज और रीति रिवाज, रूढ़ियों की विपंगतियाँ सभी के मुखोटों से परत-दर-परत परदा हटाती नजर आती है। संग्रह का आवरण बहुत ही मनमोहक एवं मुद्रण त्रुटिहीन है। संग्रह का हिन्दी साहित्य जगत में स्वागत होगा, ऐसी आशा है।
 मेरी शुभकामनाएँ।

No comments :

Post a Comment

We welcome your comments related to the article and the topic being discussed. We expect the comments to be courteous, and respectful of the author and other commenters. Setu reserves the right to moderate, remove or reject comments that contain foul language, insult, hatred, personal information or indicate bad intention. The views expressed in comments reflect those of the commenter, not the official views of the Setu editorial board. प्रकाशित रचना से सम्बंधित शालीन सम्वाद का स्वागत है।