हिंदी वीरकाव्य का स्वरूप और विकास

- गुड्डू कुमार

पी एचडी शोधार्थी, अ.मु.वि, अलीगढ़

वैदिक संस्कृत में वीर शब्द शूर अथवा योद्धा के अर्थ में प्रयुक्त हुआ है। भाष्यकार आचार्य सायण ने वीर शब्द से संबोधित होने योग्य व्यक्ति के वांछनीय गुणों पर प्रकाश डालते हुए उसे सिर्फ ‘वीर विकांतान’ ही नहीं अपितु कर्म में समर्थ, यज्ञादि अनुष्ठानों में दक्ष एवं प्रेरक भी कहा है। इससे यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि अस्त्र-शस्त्र संचालन में कुशल, युद्धकला में पूर्ण , शौर्य-श्री-संपन्न, यज्ञ, दान, दया, धर्मादि कर्मों में दक्ष व्यक्ति वीर कहा जा सकता है। वीरों के गुण, स्वरुप और कार्यों का विवेचन वैदिक ऋषियों और पुराणकारों से लेकर परवर्ती कवि परंपरा तक हुआ है, इसलिए वीरों की प्रशस्ति, उनके युद्ध, दान, दया, धर्मादि के कर्मों का बखान, उनके शौर्य, सामर्थ्य और पराक्रम का वर्णन प्राचीन और अर्वाचीन काव्यों में समान रूप से विद्यमान है। इस संदर्भ में ‘वीरभोग्या वसुंधरा’ की उक्ति भी वीरों के सामर्थ्य से उद्भूत हुई है।

वीर रस का स्थायी भाव उत्साह है। यह उत्साह ही वीरकर्मों की प्रेरक शक्ति का प्रतीक एवं उनके वीरतापूर्ण कार्यों का मूल उत्स है। रससिद्धांत के आचार्यों की भाषा में वीर रस का स्थायी भाव उत्साह है, जो अनुभाव, विभाव, संचारी भावादि से भावित होकर वीर रस की निष्पत्ति का कारण होता है और वीरों को वीरतापूर्ण कार्यों के लिए प्रेरित करता है। अत: समस्त वीर भावात्मक काव्य वीरकाव्य के अंतर्गत आना चाहिए, किन्तु हिंदी साहित्य में अधिकाधिक विद्वानों ने दानवीर, धर्मवीर, और दयावीर संबंधित संपूर्ण साहित्य को धार्मिक साहित्य कहकर विशुद्ध साहित्य की श्रेणी से बाहर निकाल दिया है और केवल युद्धवीरों से संबंधित चरित-काव्य या घटना प्रसंग संबंधी वीर प्रशस्तियों को ही वीरकाव्य के अंतर्गत स्थान दिया है। फिर इन्हीं युद्धवीरों में दानवीर, धर्मवीर, और दयावीर निरुपित करते समय तत्संबंधी छंदों या काव्यांशों को भी वीरकाव्य के अंतर्गत बिना किसी आपत्ति के स्वीकार कर लिया है। वीरकाव्य संबंधी यह धारणा न्यायसंगत नहीं है। रस का सैद्धांतिक विवेचन करते समय वीर रस को चतुर्विध मानकर तत्वसंबंधी चतुर्विध काव्य को वीरकाव्य मानना चाहिए।

रस और रसानुभूति की दृष्टि से दानवीर, धर्मवीर और दयावीर संबंधी काव्य से उपलब्ध होनेवाली काव्यानुभूति विशुद्ध, अविकारी एवं अपरिवर्तनीय होती है। ऐसे काव्यों में शांत रस की प्रचुरता होती है। अत: रसों की विविधता यहाँ नहीं मिलती, जो युद्धवीर संबंधी काव्यों में दिखाई देती है।  युद्धवीर विषयक काव्य में वीर रस की दशा में परिष्कार और परिवर्तन होता है। युद्धवीर का हृदयगत भाव ‘उत्साह’ क्रोधावेश में प्राय: रौद्र रस में बदल जाता है, इसीलिए युद्ध-भूमि में वीरों का चेहरा तमतमा उठता है और उनकी आखें रक्तवर्ण हो जाती है। वीर और रौद्र रस के संयोजन से वीरों में जोश की मात्रा और भी बढ़ जाती है। उत्साह की इस उद्दीप्त दशा में वीर युद्धभूमि में बड़े साहस से युद्ध करते हैं, जिसकी अंतिम परिणति वीभत्स रस में होती है। अतएव युद्ध संबंधी सभी काव्यों में रौद्र और वीभत्स रस की व्यंजना पाई जाती है। अत: रौद्र और वीभत्स रसों को वीर रस की विकासोन्मुख प्रक्रिया  का सहायक कहा जाता है। वीरों के चरित्र में जब कभी भी युद्ध प्रेमावृत्ति से उत्पन्न हुआ है, कवियों ने श्रृंगार के संयोग और वियोग पक्ष के अंतर्गत नायिका की नखशिख वर्णन, षड्ऋतु वर्णन, प्रकृति चित्रण आदि के लिए भी जगह निकाल लिया है; और ऐसी स्थति में वीरकाव्यों के अंतर्गत श्रृंगार, वीर, रौद्र और वीभत्स रसों का समावेश हो जाता है।

सामान्यत: वीरों का व्यक्तित्व, दान, दया, धर्म, युद्ध एवं उनके विविध उत्साहवर्धक कार्य ही वीरकाव्य के आलंबन हैं। इस दृष्टि से वीरों का चरित्र-चित्रण, वीरगाथाएँ, प्रशस्तियाँ, युद्ध वर्णन और वीरों के कार्यकलाप संबंधी विविध प्रसंगों का वर्णन वीरकाव्य के अंतर्गत आता है; जिसमें श्रृंगार, रौद्र और वीभत्स रस वीर रस के सहयोगी के रूप में उपलब्ध होते हैं। प्राय: समस्त भारतीय वीरकाव्यों में यह विशेषताएँ पाई जाती हैं। निष्कर्षत: वीरों के ऐतिहासिक चरित्र एवं उनकी वीरतापूर्ण कार्यों  से संबंधित काव्य वीरकाव्य कहलाता है।

हिंदी वीरकाव्य का संबंध भारतीय इतिहास से है। हिंदी साहित्य के आरंभिक अवस्था में  भारत छोटे-छोटे स्वतंत्र राज्य-रजवाड़ों में विभक्त था। इन राज्य-रजवाड़ों में सत्ता-लोलुपता तथा अन्य कई कारणों से भी आपसी मतभेद थे। इसी समय में भारत की उत्तरी-पश्चिमी भाग मुस्लिम शासकों के आक्रमण से आक्रांत था। अत: भारतीय नरेशों का ध्यान आपसी फूटों के साथ-साथ मुस्लिम शासकों के आक्रमण की ओर भी टिका था। आपसी फूट और बाहरी आक्रमण से अपने-अपने राज्य की रक्षा के लिए अक्सर लड़ाइयाँ होती रहती थीं। इसी आवेशपूर्ण वातावरण में राज्य-रजवाड़ों के दरबारी कवि अपने आश्रयदाता के शौर्य, पराक्रम आदि का गुणगान करते थे। आरंभिक हिंदी साहित्य का यही गुणगान वीर-प्रशस्ति या वीरकाव्य के नाम से उपलब्ध है।

हिंदी साहित्य में वीर रस के कविता का उत्थान तीन रूपों में मिलता है। प्रथम उत्थान आदिकालीन वीर प्रशस्तियों का है। द्वितीय उत्थान छत्रपति शिवाजी, महाराज छत्रसाल जैसे वीर नायकों के उत्थान के साथ होता है। इस उत्थान की कविताओं में वीर और प्रीति का मिश्रण नहीं है। यहाँ ऐतिहासिक वीरकाव्य ही है। तृतीय उत्थान स्वतंत्रता की लहर के साथ हुआ था। इस उत्थान की कविता का लक्ष्य विदेशी शासन की निंदा और आत्मगौरव का उत्थान है। इस उत्थान की कविताओं में प्राचीन वीरों पर भी कविताएँ हुई, पर उनका भी लक्ष्य राष्ट्रीय भावना से ही प्रेरित था। स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद भी वीर रस पूर्ण की कवितायें लिखी जाती रही हैं। इन कविताओं का विषय भी राष्ट्र-प्रेम ही हैं।

आदिकालीन हिंदी वीरकाव्य के अंतर्गत जो प्रवृतियाँ विकसित हुई, उसमें अशान्तिपूर्ण वातावरण का चित्रण है। विविध हिन्दू राजाओं के दरबारों में कवियों और चारणों ने उनके उत्साहवर्द्धन तथा गुणगान के रूप में अनेक काव्यों की रचना की। ये काव्य दो रूपों में मिलते हैं-पहला प्रबंधात्मक रूप में और दूसरा वीरगीतों के रूप में। प्रबंधात्मक रूप के काव्यों में खुमान रासो, पृथ्वीराज रासो आदि प्रमुख हैं। वीरगीतों में परमाल रासो, बीसलदेव रासो आदि प्रमुख हैं। इस दोनों काव्य रूपों को रासो काव्य के नाम से भी जाना जाता है। इस काव्य में विभिन्न कवियों ने अपने आश्रयदाताओं के यश, युद्ध, प्रयाण और शौर्य से युक्त कार्यकलापों का चित्रण किया है। इसमें वीर नायकों का युद्ध अधिकतर नायिका के रूप-लावण्य पर मुग्ध होने के कारण हुआ है। जहाँ ऐतिहासिक दृष्टि से युद्ध के मूल में कोई कामिनी नहीं है वहाँ भी वैसी ही कल्पना कर ली गई है। तात्पर्य यह है कि शौर्य अधिकतर श्रृंगार का सहकारी बनकर आया है। करुणा को भंग करके वीरता का जैसा प्रदर्शन वीरकाव्यों में उपयुक्त हो सकता था, वैसा नहीं हुआ है। जिस रमणी के करुण-क्रंदन पर वीर-नायक प्रतिपक्षी से युद्ध मोल लेता है, वह अंत में उसकी वीरता-शरणता पर रीझकर उसे ही आत्मसमर्पण कर देती है। इसका आभास भी किसी-किसी वीरगाथात्मक साहित्य में मिलता है।     

रासो काव्य के रचयिता चारण या भाट थे। इनका स्थान राजपुताना था। ये डिंगल और पिंगल नामक दो प्रकार की भाषा में कविताएँ किया करते थे। राजस्थानी मिश्रित अपभ्रंश डिंगल और ब्रज मिश्रित अपभ्रंश पिंगल कहलाती थी। वीर प्रशस्तियों में से प्रबंधात्मक वीरकाव्य अधिकांशत: पिंगल भाषा में है।

हिन्दू राजदरबारों की भांति मुस्लिम शासक भी अपने दरबारों में राजकवि रखते थे। मुग़ल दरबार में गंग, शिरोमणि भट्ट, चिंतामणि, कालिदास त्रिवेदी आदि प्रमुख थे। इन्होंने भी प्रशस्ति काव्य की रचना की है।
रीतिकालीन हिंदी वीरकाव्य को प्रवृत्ति अनुसार पाँच भागों में विभक्त किया गया है। इनका संक्षिप्त विवरण निम्नलिखित है -

1.  ऐतिहासिक वीरकाव्य
 ऐतिहासिक वीरकाव्य के अंतर्गत छत्रपति शिवाजी, महाराज छत्रसाल, लाल कवि, सूदन, पद्माकर जैसे प्रसिद्ध कवि हुए हैं। इन्होंने ऐतिहासिक वीरकाव्य की लेखनी की हैं। इनके काव्य में वीरता और श्रृंगारिकता का मिश्रण नहीं है। इन काव्यों के वीर नायक किसी नायिका के रूप-लावण्य पर मुग्ध नही हुए हैं। अत: इस वीरकाव्यों को ऐतिहासिक वीरकाव्य की कोटि में रखा गया है। इस प्रकार ऐतिहासिक वीरकाव्यों के लेखन में कवि ऐतिहासिक घटनाओं को तोड़-मरोड़ नहीं- किया है। अत: इसकी ऐतिहासिकता प्रसिद्ध है पर कवि ने इनमें वर्णित घटनाओं को ऐतिहासिक क्रम में नहीं रख पाया है। अतएव इन वीरकाव्यों को पढ़ते समय ऐतिहासिक घटनाओं का संक्षिप्त परिचय होना आवश्यक हो जाता है।

2. रासो-पद्धति का श्रृंगार मिश्रित वीरकाव्य
रासो-पद्धति का श्रृंगार मिश्रित वीरकाव्यों में ऐतिहासिक घटनाओं की ओर कम और कल्पना की समाहार शक्ति की ओर अधिक ध्यान दिया गया है। इन काव्यों में कवियों ने अपने चरित नायकों के शौर्य, पराक्रम एवं उनके श्रृंगारिक चेष्टाओं को दिखाने में अधिक प्रयत्नशील रहे हैं। कवियों ने अपने काव्य-नायक को प्रतिपक्षी नायक के मुकाबले अधिक बलशाली दिखाया है। उदहारण के लिए जोधराज ने अपनी रचना ‘हम्मीररासो’ में अपने काव्य नायक के प्रतिपक्षी अल्लाउद्दीन को एक अवसर पर चुहिया को मारकर अपनी वीरता का बखान करते हुए दिखाया है। चंद्रशेखर वाजपेयी ने भी अपनी रचना ‘हम्मीरहठ’ में एक अवसर पर इसी प्रकरण को उल्लिखित किया है। इस प्रकार हम पाते हैं कि रासो-पद्धति मिश्रित वीरकाव्यों में परंपरा से चली आ रही कथानक को रखने की प्रथा है। सूर्यमल्ल कृत ‘वंशभास्कर’ रासो-पद्धति का श्रेष्ट ग्रंथ है, इसमें बूंदी राजवंश के राजाओं के  कथानक का आधार बनाया गया है। 


3. भक्ति भावित वीरकाव्य (वीर-देव-काव्य)
वीर, देवकाव्य की अधिकांश पुस्तकें स्तुति परक है। इन वीरकाव्यों में देवी-देवताओं के वीर-चरित का यशोगान हुआ है। इसमें वीर केसरी हनुमान के वीर-चरित का अधिक वर्णन है। अन्य देवताओं के वीर-चरित का भी यशोगान हुआ है पर बहुत कम मात्रा में। संस्कृत में रचित वीर-देवकाव्यों का भी हिंदी में अच्छे अनुवाद हुए हैं। रीतिकाल में भक्ति भावित वीरकाव्य लिखने वाले कवियों में भगवंतराय खीची का हनुमानपचासा, मानसिंह कृत हनुमान-नखशिख, हनुमान-पच्चीसी, हनुमान-पंचक, महावीर-पच्चीसी, लछिमन-शतक, नरसिंह-चरित, नरसिंह-पच्चीसी  मनियार सिंह की हनुमान-छब्बीसी, मून कवि का राम-रावण-युद्ध, आदि प्रमुख हैं।

4. अनूदित वीरकाव्य (रामायण- महाभारत जैसे पौराणिक काव्यों का अनुवाद )
अनूदित वीरकाव्यों में रामायण, महाभारत जैसे पौराणिक काव्य ग्रंथों का अनुवाद किया गया है। कुछ कवियों ने स्वतंत्र छंद बनाकर इस पौराणिक कथाओं को विकसनशील बनाया है। उदहारण के लिए छत्रपति कायस्थ का ‘विजय मुक्तावली’ महाभारत पर आधारित होते हुए भी बहुत कुछ स्वतंत्र है। सबल सिंह चौहान ने महाभारत का अनुवाद दोहा-चौपाई में किया है। कुछ कवियों ने संपूर्ण ग्रंथ का अनुवाद किया तो कुछ ने मूल ग्रंथ के कुछ अंशों का ही अनुवाद किया है। उदहारण स्वरुप कुलपति ने ‘द्रोणपर्व’, गणेशपुरी ‘पद्म्नेश’ ने ‘कर्णपर्व’ नाम से महाभारत के अंशों का अनुवाद किया है। महाभारत का उत्तम अनुवाद प्रसिद्ध कवि रघुनाथ के पुत्र गोकुलनाथ, उनके पुत्र गोपीनाथ तथा गोकुलनाथ के शिष्य मनिदेव ने मिलकर किया था। इस अनूदित वीरकाव्य में जिसने जितने अंश का अनुवाद किया उसका उल्लेख है।

5.  दरबारी कवियों का प्रकीर्ण वीरकाव्य
वीरकाव्यों की रचना राजदरबारों में हुई हैं। इन राजदरबारों में राजकवियों के अतिरिक्त  कई राजा तो स्वयं अच्छे कवि भी हुए हैं। इन विशेषताओं से परिपूर्ण राजाओं में महाराज छत्रसाल, भगवंतराय खीची, रीवाँ-नरेश, अयोध्या-नरेश, काशी-नरेश आदि का नाम प्रमुख हैं। इनके  दरबारों में सभी प्रकार की रचनाएँ होती थीं। इन्हीं रचनाओं में वीरकाव्य लेखन की प्रवृत्ति भी मिलती हैं।

हिंदी साहित्य के आधुनिककाल में वीर रस की भी कविताएँ हुई हैं। इस युग की वीररसात्मक कविताएँ राष्ट्र कल्याण की भावना से संप्रेषित हैं। इस काव्य धारा की झलक भारतेंदु युग से मिलने लगती है। आगे चलकर कांग्रेस की स्थापना और देश में राजनीतिक हलचल से राष्ट्रीय कविता अधिक मात्रा में लिखी जाने लगी। इस काल की अधिकांश कविताएँ ऐतिहासिक, पौराणिक काव्य  को आधार बनाकर लिखे गये हैं। इन ऐतिहासिक पौराणिक वीरकाव्यों के नायकों को आधुनिक स्थिति-परिस्थिति के साँचे में ढाला गया है; तथा भारतीय जनता को उत्साहित किया गया है कि वे राष्ट्र की स्वतंत्रता हेतु अपने प्राण की बलि देने को हमेशा तत्पर रहें। अत: आधुनिककालीन वीररसात्मक कविता वह ओजस्वी कविता है जिसमें राष्ट्र कल्याण की भावना प्रबल हो गई हैं।

संदर्भ ग्रंथ सूची - 
1. हिंदी साहित्य का इतिहास; आचार्य रामचन्द्र शुक्ल,
प्रकाशक : कमल प्रकाशक, नई दिल्ली ।
2. हिंदी साहित्य का अतीत, भाग – 2, आचार्य विश्वनाथ प्रसाद मिश्र,
प्रकाशक: वाणी प्रकाशन, नई दिल्ली ।
3. हिंदी साहित्य का वृहत इतिहास, भाग – 7,
प्रकाशक: नागरीप्रचारिणी सभा, वाराणसी ।
4. भूषण ग्रंथावली; संपादक – आचार्य विश्वनाथ प्रसाद मिश्र,
प्रकाशक: वाणी प्रकाशन, नई दिल्ली ।

No comments :

Post a Comment

We welcome your comments related to the article and the topic being discussed. We expect the comments to be courteous, and respectful of the author and other commenters. Setu reserves the right to moderate, remove or reject comments that contain foul language, insult, hatred, personal information or indicate bad intention. The views expressed in comments reflect those of the commenter, not the official views of the Setu editorial board. प्रकाशित रचना से सम्बंधित शालीन सम्वाद का स्वागत है।